जामिया मिलिया-ऑक्सफैम इंडिया समेत 12,000 से ज्यादा NGO का FCRA लाइसेंस रद्द
जामिया मिलिया-ऑक्सफैम इंडिया समेत 12,000 से ज्यादा NGO का FCRA लाइसेंस रद्दSocial Media

जामिया मिलिया-ऑक्सफैम इंडिया समेत 12,000 से ज्यादा NGO का FCRA लाइसेंस रद्द

मदर टेरेसा के मिशनरीज ऑफ चैरिटी का FCRA लाइसेंस रिन्यू करना था। जो रिन्यू नहीं किया गया। इसके बाद देशभर में लगभग 12,000 से ज्यादा गैर सरकारी संगठनों (NGO) का FCRA लाइसेंस समाप्त हो गया है।

राज एक्सप्रेस। किसी भी संस्था या चैरिटी का लाइसेंस एक समय के बाद समाप्त हो जाता है। जिसे रिन्यू कराने की जरूरत पड़ती है। इसी कड़ी में मदर टेरेसा के मिशनरीज ऑफ चैरिटी का FCRA लाइसेंस रिन्यू करना था। जो रिन्यू नहीं किया गया। इसके बाद देशभर में लगभग 12,000 से ज्यादा गैर सरकारी संगठनों (NGOs) का FCRA (विदेशी अंशदान विनियमन अधिनियम) लाइसेंस दिन शुक्रवार 31 दिसंबर, 2021 को समाप्त हो गया है। इस मामले में गृह मंत्रालय ने आज अपना बयान जारी किया है।

FCRA लाइसेंस निरस्त :

दरअसल, मदर टेरेसा के मिशनरीज ऑफ चैरिटी का FCRA (Foreign Contribution Regulation Act) लाइसेंस रिन्यू न होने के बाद भारत के 12,000 से ज्यादा गैर सरकारी संगठनों (NGO) का FCRA लाइसेंस दिन 31 दिसंबर, 2021 को समाप्त हो गया है। इस मामले में गृह मंत्रालय ने आज शनिवार को कहा है कि, '6,000+ एनजीओ में से अधिकांश ने लाइसेंस के नवीनीकरण के लिए आवेदन नहीं किया था। बता दें, विदेशों से दान एवं चंदा प्राप्त करने के लिए FCRA के तहत स्वयंसेवी संगठनों को लाइसेंस लेना पड़ता है।

अधिकारियों ने बताया :

मंत्रालय के अधिकारियों ने बताया है कि, "सभी एनजीओ को शुक्रवार, 31 दिसंबर से पहले FCRA नवीनीकरण के लिए आवेदन करने के लिए रिमाइंडर भेजा गया था, लेकिन कई NGO ने ऐसा नहीं किया। जब आवेदन ही नहीं किया गया तो, उन्हें अनुमति कैसे दी जा सकती है?" गौरतलब है कि, FCRA लाइसेंस गंवाने वाले संस्थानों में ऑक्सफैम इंडिया ट्रस्ट, जामिया मिल्लिया इस्लामिया, इंडियन मेडिकल एसोसिएशन और लेप्रोसी मिशन सहित कुल मिलाकर 12,000 से अधिक NGO हैं। इनके अलावा ट्यूबरकुलोसिस एसोसिएशन ऑफ इंडिया, इंदिरा गांधी नेशनल सेंटर फॉर आर्ट्स और इंडिया इस्लामिक कल्चरल सेंटर का नाम भी इस लिस्ट में शामिल हैं।

गैर सरकारी संगठनों की सूची :

गैर सरकारी संगठनों की सूची में ऑक्सफैम इंडिया और ऑक्सफैम इंडिया ट्रस्ट का नाम शामिल हैं। जिनके FCRA की वैधता सीमा प्रमाणपत्र समाप्त हो गए हैं और उस लिस्ट में नहीं जिनके प्रमाणपत्र रद्द कर दिए गए हैं। FCRA लाइसेंस उन्हीं का रद्द किया गया है जिन्होंने या तो नवीनीकरण के लिए आवेदन नहीं किया था, या उनके नवीनीकरण अनुरोध को खारिज कर दिया गया है। भारत में अब केवल 16,829 NGO बचे हैं जिनके पास FCRA लाइसेंस है, जिसे 31 दिसंबर, 2021 (शुक्रवार) को 31 मार्च, 2022 तक के लिए नवीनीकृत कर दिया गया है। FCRA के तहत कुल 22,762 गैर सरकारी संगठन रजिस्टर हैं और इनमें से अब तक 6500 के आवेदन को नवीनीकरण के लिए आगे बढ़ाया गया है।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

No stories found.
Top Hindi News Bhopal,Trending, Latest viral news,Breaking News - Raj Express
www.rajexpress.co