'Johnson & Johnson' किशोरों पर करने जा रही कोरोना वैक्सीन का परीक्षण

'Johnson & Johnson' द्वारा निर्मित कोरोना की वैक्सीन के ट्रायल भी एक-एक करके सफल होते नजर आ रहे हैं। हाल ही इस वैक्सीन का चूहों पर सफल परीक्षण करने के बाद अब किशोरों पर वैक्सीन का परीक्षण किया जाएगा।
'Johnson & Johnson' किशोरों पर करने जा रही कोरोना वैक्सीन का परीक्षण
Johnson & Johnson to test corona vaccine on teenagersSyed Dabeer Hussain - RE

राज एक्सप्रेस। कोरोना वायरस के दुनिया में कदम रखने से लेकर अब तक कई देश कोरोना की वैक्सीन निर्मित करने में जुटे हुए हैं। हालांकि, इस मामले में रूस पहले ही बाजी मार चुका है लेकिन अब भी कोरोना वैक्सीन बनाने की रेस जारी है। जिसमे अब अगला नंबर अमेरिका का आता नजर आ रहा है क्योंकि, अमेरिकी बहुराष्ट्रीय कंपनी 'Johnson & Johnson' द्वारा निर्मित वैक्सीन के ट्रायल भी एक एक करके सफल होते नजर आ रहे हैं। हाल ही इस वैक्सीन का चूहों पर सफल परीक्षण करने के बाद अब किशोरों पर वैक्सीन का परीक्षण किया जाएगा।

'Johnson & Johnson' की वैक्सीन का परीक्षण :

दरअसल, अमेरिकी कंपनी 'Johnson & Johnson' द्वारा तैयार की गई वैक्सीन अब तक अपने कई ट्रायल से गुजर चुकी हैं। जिनमें कंपनी को सफलता हासिल हुई है, इन सफलताओं के बाद अब कंपनी किशोरों पर कोरोना वैक्सीन का परीक्षण करने जा रही हैं। इस परीक्षण के लिए 12 से 18 साल के किशोरों को शामिल किया जाएगा। इस बारे में जानकारी अमेरिका में हुई इम्यूनाइजेशन प्रैक्टिस पर CDC की एडवाइजरी कमेटी की वर्चुअल मीटिंग में Johnson & Johnson कंपनी ने खुद दी है।

Johnson & Johnson कंपनी ने बताया :

Johnson & Johnson कंपनी के डॉक्टर जेरी सेड्रोफ ने आश्वस्त करते हुए बताया है कि, 'हमारी तरफ से सेफ्टी को लेकर सतर्कता बरती जा रही है। सुरक्षा मानकों को ध्यान में रखते हुए जितना जल्दी हो सके उतना जल्दी बच्चों में कोविड-19 वैक्सीन की टेस्टिंग किए जाने की प्लानिंग कर रहे हैं।' इसके अलावा वैक्सीन को लेकर खबर है कि, दवा निर्माता कंपनी फाइजर इंक और जर्मन कंपनी बायोएनटेक द्वारा निर्मित वैक्सीन ट्रायल अपने अंतिम चरण में है।

वैक्सीन अनुसंधान वैज्ञानिक ने बताया :

Johnson & Johnson की जेनसेन यूनिट में वैक्सीन अनुसंधान वैज्ञानिक सदॉफ ने बताया कि, 'सुरक्षा व अन्य कारकों के आधार पर कंपनी की योजना छोटे बच्चों में टेस्टिंग करने की भी है।' बताते चलें कि, Johnson & Johnson (J&J) कंपनी द्वारा सितंबर के अंत में 60,000 स्वयंसेवक फेज-III स्टडी में वयस्कों में वैक्सीन का परीक्षण शुरू किया था। हालांकि, प्रतिभागी की गंभीर स्थिति को देखते हुए बीच में परीक्षण को रोकना पड़ा था, लेकिन पिछले सप्ताह ट्रायल पूरा हुआ।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

Raj Express
www.rajexpress.co