Kisan Rail Reached Delhi from Andhra Pradesh
Kisan Rail Reached Delhi from Andhra Pradesh|Social Media
व्यापार

फल और सब्जियां लेकर दिल्ली पहुंची पहली 'किसान रेल'

सरकार द्वारा दक्षिण भारत में किसानों के लिए चलाई गई पहली 'किसान रेल' फल और सब्जियां लेकर आंध्र प्रदेश के अनंतपुर से चल कर दिल्ली के आदर्श नगर रेलवे स्टेशन पर पहुंची।

Kavita Singh Rathore

Kavita Singh Rathore

राज एक्सप्रेस। भारत सरकार द्वारा किसानों को दी गई 'किसान रेल' की सौगात की पहली ट्रेन दक्षिण भारत से फल और सब्जियां लेकर दिल्ली पहुंची। बता दें, यह 'किसान रेल' आंध्र प्रदेश के अनंतपुर से चली थी और दिल्ली के आदर्श नगर रेलवे स्टेशन पहुंची। सरकार द्वारा चलाई जा रही यह ट्रेन देश की दूसरी और दक्षिण भारत की पहली 'किसान रेल' है। बता दें, भारत में महाराष्ट्र के देवलाली से बिहार के दानापुर के बीच पहली किसान रेल की शुरुआत 7 अगस्त को की गई थी।

दक्षिण भारत की पहली किसान रेल :

दरअसल, बुधवार को केंद्रीय कृषि और किसान कल्याण मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर और आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री वाईएस जगन मोहन रेड्डी ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए इस ट्रेन को हरी झंडी दिखाई। इस कॉन्फ्रेंस में रेल राज्यमंत्री सुरेश अंगड़ी भी मौजूद थे। बता दें, सिग्नल मिलते ही यह ट्रेन आंध्र प्रदेश के अनंतपुर से 332 टन फल और सब्जियां लेकर दिल्ली के लिए रवाना की गई। इस ट्रेन के चलने से बागवानी से जुड़े लोगों को काफी लाग होगा।

किसानों को सालभर में 25% का नुकसान :

बताते चलें, सरकार द्वारा दक्षिण भारत में किसानों के लिए चलाई गई पहली 'किसान रेल' फल और सब्जियां लेकर आंध्र प्रदेश के अनंतपुर से चल कर दिल्ली के आदर्श नगर रेलवे स्टेशन पर पहुंची। इस ट्रेन को चलने का मकसद उपज को कम समय में बाजार तक पहुंचाने का है। क्योंकि वर्तमान में उपलब्ध परिवहन प्रणाली यानि ट्रकों द्वारा इन फल सब्जियों को पहुंचाने में किसानों को सालभर में करीब 25% यानि 300 करोड़ रुपये का नुकसान उठाना पड़ता था।

मांग के हिसाब से बढ़ेगी ट्रेन के चक्कर :

बताते चलें, फिलहाल यह किसान रेल सप्ताह में एक बार चलाए जाने की योजना बनाई गई है, परंतु अक्तूबर के बाद फसल की कटाई होगी तब यदि ट्रेनों की मांग बड़ी तो जनवरी तक मांग के हिसाब से ट्रेन के चक्कर बढ़ाए जा सकते है। जानकारी के लिए बता दें, आंध्र प्रदेश के अनंतपुर में लगभग दो लाख हेक्टेयर की जगह में फल एवं सब्जी का उगाई जाती हैं। यहाँ से इनकी कटाई के बाद इनमे मार्किट तक पहुंचाने में यह ट्रेन किसानों के लिए काफी लाभदायक सभीत होगी। इस जिले से 58 लाख मीट्रिक टन फलों और सब्जियों का 80% से ज्यादा भाग राज्य से बाहर उत्तर भारतीय राज्यों दिल्ली, यूपी, पंजाब और हरियाणा में भेजा जाता है।

केंद्रीय कृषि मंत्री का कहना :

केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र तोमर का कहना है कि, 'किसान रेल देश की अर्थव्यवस्था के विकास में सार्थक भूमिका का निर्वाह करेगी। किसान रेल चलने से किसानों की उपज को देश में एक स्थान से दूसरे स्थान तक पहुंचाने में खासी सहूलियत होगी। जल्द ही किसान उड़ान सेवा की भी शुरुआत की जाएगी।' उन्होंने आगे कहा कि, 'आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री कृषि क्षेत्र की तरफ अपना ध्यान केंद्रित कर रहे है। केंद्र सरकार द्वारा लागू दो नए अध्यादेश तथा एक लाख करोड़ के कृषि इन्फ्रास्ट्रक्चर फंड का भी क्रियान्वयन किया जा रहा है।'

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Raj Express
www.rajexpress.co