Raj Express
www.rajexpress.co
GPF की ब्याज दरों में कमी आने से होगा लाखों कर्मचारियों को नुकसान
व्यापार

GPF की ब्याज दरों में कमी आने से होगा लाखों कर्मचारियों को नुकसान

अब मोदी सरकार ने बड़ाई कर्मचारियों की मुश्किलें। क्योंकि मोदी सरकार ने सामान्य भविष्य निधि यानी GPF (General Provident Fund) की ब्याज दरों में कटौती कर दी है। देखे GPF की दरों में कितनी कटौती हुई है।

Vivvan Tiwari

राज एक्सप्रेस। इस बार मोदी सरकार ने बड़ाई कर्मचारियों की मुश्किलें। क्योंकि मोदी सरकार ने सामान्य भविष्य निधि यानी GPF (General Provident Fund) की ब्याज दरों में कटौती कर दी है। अभी तक जीपीएफ में 8% की दर से ब्याज लगा करता था मगर अब 7.9 फीसदी सालाना ब्याज दर लगेगा। यह नहीं दरें 1 जुलाई से लागू भी हो चुकी है। इन दरों की जानकारी वित् मंत्रालय ने दी। सरकार का यह फैसला रेलवे और रक्षा विभाग के कर्मचारियों के लिए किसी वार से कम नहीं माना जा रहा है।

क्या है सामान्य भविष्य निधि (GPF) :

जैसा की सामान्य भविष्य निधि (GPF) नाम से ही साफ़ समझ आरहा है की भविष्य में प्राप्त होने वाली किसी निधि की बात हो रही है। जानकारी के लिए आपको बता दे कि, GPF का सदस्य सिर्फ एक सरकारी कर्मचारी ही हो सकता है। कोई भी सरकारी कर्मचारी अपने वेतन का एक हिस्सा इसमें डालता है और उसका रिटर्न उसे रिटायर होने के बाद पेंशन के रूप में मिलता है।