चालू वित्त वर्ष की पहली छमाही के दौरान शराब की बिक्री में आई गिरावट

चालू वित्त वर्ष 2020-21 की पहली छमाही के सामने आये आंकड़ों के अनुसार इस दौरान भारत निर्मित विदेशी शराब (IMFL) की बिक्री में गिरावट दर्ज की गई है।
चालू वित्त वर्ष की पहली छमाही के दौरान शराब की बिक्री में आई गिरावट
Liquor sales down during first half of current fiscalSyed Dabeer Hussain - RE

राज एक्सप्रेस। कोरोना के चलते बीते महीने लगभग सभी सेक्टर्स के लिए काफी नुकसान भरे रहे है। इसी दौरान हर खाद्य और पेय पदार्थो की बिक्री में गिरावट दर्ज की गई है। इन्हीं में शराब भी शामिल है। जी हां, चालू वित्त वर्ष 2020-21 की पहली छमाही के सामने आये आंकड़ों के अनुसार इस दौरान भारत निर्मित विदेशी शराब (IMFL) की बिक्री में गिरावट दर्ज की गई है।

भारत निर्मित विदेशी शराब की बिक्री में गिरावट :

दरअसल, कन्फेडरेशन ऑफ इंडियन अल्कोहलिक बेवरेजेस कंपनीज (CIABC) द्वारा आज ताजा आंकड़े जारी किये गए हैं। इन आंकड़ों के अनुसार, भारत निर्मित विदेशी शराब (IMFL) की बिक्री में 29% की गिरावट दर्ज की गई है। CIABC द्वारा यह जानकारी एक बयान जारी कर दी गई है। इस बयान के अनुसार, शराब की बिक्री में यह गिरावट लॉकडाउन और ज्यादा टैक्स के चलते दर्ज की गई है। इनमें भी कई राज्यों में तो यह गिरावट 39% से लेकर 50% से भी ज्यादा तक रही है।

सबसे ज्यादा गिरावट आंध्र प्रदेश में 50% से ज्यादा गिरावट :

CIABC द्वारा जारी तजा आंकड़ों के अनुसार, चालू वित्त वर्ष 2020-21 की पहली छमाही के दौरान शराब (IMFL) की बिक्री में सबसे ज्यादा गिरावट आंध्र प्रदेश में दर्ज की गई है। यहां लगभग 50% से भी अधिक की गिरावट दर्ज की गई है। इसके अलावा पश्चिम बंगाल, पुदुचेरी और राजस्थान में भी काफी गिरावट दर्ज की गई है। इस गिरावट का मुख्य कारण राज्यों द्वारा शराब पर लगाया गया 50% से ज्यादा कोरोना टैक्स है जो काफी लंबे समय तक के लिए लागू कर दिया गया है।

CIABC का बयान :

कन्फेडरेशन ऑफ इंडियन अल्कोहलिक बेवरेजेस कंपनीज (CIABC) द्वारा जारी बयान में कहा गया है कि, 'देश में लॉकडाउन लागू रहे टाइम के दौरान में कई महीनें शराब की बिक्री पूरी तरह ठप रही। जबकि, मई से सितंबर 2020 में यदि पिछले साल की तुलना में देखा जाए तो सेल्स ग्रोथ -16% रही है। बयान में आगे कहा गया है कि, पैन इंडिया स्तर पर शराब की बिक्री में दूसरी तिमाही यानि जुलाई-सितंबर 2020 में काफी सुधार देखने को मिला है। जबकि पहली तिमाही यानि अप्रैल-जून में सबसे ज्यादा नुकसान हुआ है। जबकि, दूसरी तिमाही में बिक्री पहली तिमाही के मुकाबले सुधरकर 78 मिलियन केस (1 केस में 9 लीटर) पर पहुंच गई है। हालांकि, यह एक साल पहले की समान अवधि के मुकाबले 9% कम है। जिन राज्यों ने कोरोना टैक्स नहीं लगाया या मामूली टैक्स लगाया, उनमें रिकवरी बेहतर रही है।'

बिक्री में गिरावट :

दूसरी तिमाही के दौरान इन राज्यों में सबसे ज्यादा शराब की बिक्री में गिरावट आई है।

  • आंध्र प्रदेश में 51% गिरावट

  • छत्तीसगढ़ में 40% गिरावट

  • पश्चिम बंगाल में 22% गिरावट

  • राजस्थान में 20% गिरावट

  • जम्मू एंड कश्मीर(J&K)में 39% गिरावट

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

Raj Express
www.rajexpress.co