बाजार चढ़ने के साथ बढ़ रहे निवेशक, मध्य प्रदेश में सबसे अधिक निवेशक बढ़े
मध्य प्रदेश में सबसे अधिक 80 फीसदी निवेशक बढ़ेsocial media

बाजार चढ़ने के साथ बढ़ रहे निवेशक, मध्य प्रदेश में सबसे अधिक निवेशक बढ़े

शुक्रवार को बीएसई के संवेदी सूचकांक सेंसेक्स महज आठ महीनों में ही 10 हजार अंकों की वृद्धि का आंकड़ा पार करते हुए 50 हजार से 60 हजार को पार कर गया।

राज एक्सप्रेस। अर्थव्यवस्था में वृद्धि का प्रतीक शेयर बाजार नित्य नये कीर्तिमान बनाता जा रहा है। शुक्रवार को बीएसई के संवेदी सूचकांक सेंसेक्स ने महज आठ महीनों में ही 10 हजार अंकों की वृद्धि का आंकड़ा पार करते हुए 50 हजार से 60 हजार को पार कर लिया है। इसके पीछे सिर्फ विदेशी निवेशकों द्वारा पैसा लगाना नहीं है। बल्कि, घरेलू निवेशकों की बढ़ती संख्या तथा उनके द्वारा बड़े पैमाने पर किया गया निवेश है।

आंकड़ों पर गौर करें तो अगस्त 2020 में घरेलू निवेशकों की संख्या 5.37 करोड़ थी जो अब बढ़कर आठ करोड़ हो गई है। इस तरह अगस्त 2020 से अब तक 2 करोड़ से ज्यादा नए निवेशक बाजार में आए हैं। विशेषज्ञों की मानें तो कोरोना के चलते वर्क फ्रॉम होम के दौरान बड़ी संख्या में युवाओं ने डीमैट अकाउंट खोलकर शेयर बाजार में पैसा निवेश किया है। सबसे ज्यादा निवेशक महाराष्ट्र, गुजरात और दिल्ली से आते हैं। वर्तमान में छोटे शहरों से भी बड़ी संख्या में युवा शेयर बाजार में निवेश कर रहे हैं।

मध्य प्रदेश में निवेशकों की संख्या में इजाफा हुआ है। इस साल प्रदेश में 80 फीसदी निवेशक बढ़े हैं। वर्क फ्रॉम होम के चक्कर में बढ़ी संख्या में युवाओं ने डीमेट खाते खोलकर शेयर बाजार में पैसा लगाया है। वर्तमान में प्रदेश में निवेशकों की संख्या लगभग 30.68 लाख है, जबकि साल भर पहले यह संख्या महज 17.04 लाख थी। वहीं प्रदेश में सबसे अधिक निवेशकों की संख्या इंदौर में है, जबकि भोपाल में लगभग एक लाख निवेशक शेयर बाजार में निवेश करते हैं। वहीं राजस्थान में 66 फीसदी जबकि पंजाब में एक साल में 46.61 फीसदी निवेशक बढ़े हैं। जबकि छत्तीसगढ़ में 60 फीसदी निवेशकों की संख्या में इजाफा हुआ है। महाराष्ट्र में 41 फीसदी निवेशकों की संख्या बढ़ी है। निवेशकों की संख्या बढऩे के मामले में महाराष्ट्र, गुजरात पीछे हो गए जबकि छोटे राज्य आगे हो गए।

विदेशी निवेशकों की जगह ले रहे देशी निवेशक :

पिछले साल तक जहां शेयर मार्केट की गिरावट और तेजी में विदेशी निवेशक अहम भूमिका निभाते थे, वहीं अब कोरोना काल के बाद यह ट्रेंड तेजी से बदल रहा है। पहले जहां एफआईआई द्वारा पैसा निकालने से सेंसेक्स और निफ्टी में गिरावट आती थी, वहीं अब इसका भारतीय शेयर बाजार पर कई बार कोई असर नहीं होता। इस प्रकार घरेलू निवेशकों भी भागीदारी बढऩे से शेयर बाजार लगातार मजबूत हो रहा है।

गुरुवार को ही एफआईआई ने बाजार में 358 करोड़ रुपए का निवेश किया था, जबकि घरेलू संस्थागत निवेशकों ने 1750 करोड़ रुपए का निवेश किया था, जिससे सेंसेक्स ने 900 अंकों से अधिक की तेजी दर्ज की गई थी। शेयर बाजार में ताबड़तोड़ बढ़त का कारण यह है कि इस साल में घरेलू संस्थागत निवेशकों ने बाजार में जमकर खरीदी की है। आने वाले महीने में कंपनियों के तिमाही नतीजे बेहतर रहेंगे, जिससे बाजार की तेजी में मदद मिलेगी।

16 माह में 150 करोड़ रुपए बढ़ी बाजार पूंजी :

शेयर बाजार में बीएसई का बाजार पूंजीकरण 16 माह में 150 करोड़ रुपए बढ़ा है। अप्रैल 2020 में शेयर बाजार में बीएसई की बाजार पूंजी 110 लाख करोड़ रुपए थी, जो अब बढ़कर 262.80 लाख करोड़ रुपए हो गई है। इस दौरान निवेशकों ने 150 लाख करोड़ रुपए से ज्यादा कमाए हैं। इसके पीछे एक वजह आईपीओं द्वारा कंपनियों का रिकॉर्ड पूंजी जुटाना भी रहा है। पिछले साल जुलाई से दिसंबर के बीच 3095 कंपनियों ने 1.45 लाख करोड़ रुपए का मुनाफा कमाया है। जो कई सालों बाद संभव हो पाया है।

विश्लेषकों के अनुसार :

विश्लेषकों के अनुसार इस साल सेंसेक्स की कंपनियों की वृद्धि दर 35 फीसदी तक रह सकती हैं। शेयर बाजार की तेजी को देखते हुए कह सकते हैं कि भारतीय अर्थव्यवस्था मुश्किल दौर से बाहर आ चुकी है। कोरोना के दौरान आई ग्रोथ में तेज गिरावट अब जोरदार तेजी में बदल चुकी है। कोरोना काल छोड़ दिया जाए तो पिछले 4-5 साल से ग्रोथ का पहिया तेजी से घूम रहा है। 2019 में सेंसेक्स 40 हजार पार किया था। यानी महज दो सालों में सेंसेक्स ने 20 हजार की तेजी कोरोना के बावजूद दर्ज की है। 23 मई 2019 को सेंसेक्स 40 हजारी हुआ था।

निवेशकों को सलाह :

शेयर बाजार जिस ऊंचाई पर है उसमें करेक्शन की आशंका है। इससे निवेशक सतर्क रहे। जो निवेशक कम समय के लिए निवेश चाहते हैं, उन्हें लालच पर रोक लगानी चाहिए। लंबे समय के निवेशक म्यूचुअल फंड के एसआईपी में निवेश कर सकते हैं। एसआईपी में थोड़ा-थोड़ा कर के पैसा लगाएं और लंबी अवधि में बेहतरीन मुनाफा कमाएं।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

No stories found.