बूस्टर डोज को लेकर उठ रहे सवालों का नीति आयोग ने कॉन्फ्रेंस कर दिया जवाब
बूस्टर डोज को लेकर उठ रहे सवालों का नीति आयोग ने कॉन्फ्रेंस कर दिया जवाबSocial Media

बूस्टर डोज को लेकर उठ रहे सवालों का नीति आयोग ने कॉन्फ्रेंस कर दिया जवाब

देश में जारी वैक्सीनेशन के बीच वैक्सीन के बाद बूस्टर डोज को लेकर काफी चर्चा हो रही है। इसको लेकर कई लोगों को बहुत कंफ्यूजन भी हो रहा है। इन सभी सवालों पर नीति आयोग ने कॉन्फ्रेंस के जरिए जवाब दिया।

राज एक्सप्रेस। देश में कोरोना के मामलों में दिन प्रादि दिन लाखों की बढ़त दर्ज की जा रही है। हालांकि, इसके साथ ही तेजी से कोरोना वैक्सीन का वैक्सीनेशन भी जारी है। देशभर में वैक्सीनेशन की मुहिम दिन प्रति दिन तेज होती नजर आरही है। इसी के चलते अब बिना रजिस्ट्रेशन के भी वैक्सीनेशन करना शुरू कर दिया गया है। फिलहाल भारत में दो ही वैक्सीन से वैक्सीनेशन किया जा रहा है। इनमें से एक कोविशील्ड और दूसरी कोवैक्सिन है। वहीं, अब वैक्सीन के बाद बूस्टर डोज को लेकर काफी चर्चा हो रही है। इसको लेकर कई लोगों को बहुत कंफ्यूजन भी हो रहा है। इन सभी सवालों पर नीति आयोग ने कॉन्फ्रेंस के जरिए जवाब दिया।

बूस्टर डोज को लेकर हो रहा कंफ्यूजन :

दरअसल, देश में कोरोना का वैक्सीनेशन तेजी से जारी है। फ़िलहाल भारत में मौजूद वैक्सीन की दो डोज लेना जरूरी है और इसी बीच कुछ ऐसी खबरें सामने आरही हैं कि, वैक्सीन की दोनों डोज लेने के बाद बूस्टर डोज देने की भी जरूरत होती है। इस पर केंद्र सरकार ने साफ करते हुए कहा है कि, फिलहाल हमारे साइंटिस्ट बूस्टर डोज को लेकर स्टडीज कर रहे हैं। वह इस बात को लेकर लगातार रिसर्च कर रहे हैं कि, कोरोना वायरस की वैक्सीन के वैक्सीनेशन के बाद बूस्टर डोज कितना जरूरी है। इस मामले में उठ रहे सवालों का जवाब नीति आयोग के सदस्य डॉ. वीके पॉल ने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस के जरिए दिए।

नीति आयोग का जवाब :

वैक्‍सीन के बाद बूस्‍टर डोज के मुद्दे पर कई सवाल उठ थे। इन सभी सवालों के जवाब देने के लिए नीति आयोग के सदस्य (स्वास्थ्य) डॉ. वीके पॉल ने आज एक प्रेस कॉन्फ्रेंस की। इस दौरान उन्होंने कहा कि, 'यदि बूस्टर डोज की जरूरत होगी तो उसकी जानकारी भी लोगों को दी जाएगी। वैक्सीनेशन अभियान के जरिए हम सभी को इस महामारी से सुरक्षित करना चाहते हैं। बूस्टर डोज पर स्टडीज चल रही हैं। फिलहाल गाइडलाइन का पालन करें, वैक्सीन के दोनों डोज लगवाएं और कोविड से सुरक्षा के उपाय करते रहें। आप गंभीर बीमारी से सुरक्षित हैं लेकिन फिर भी सावधान रहें क्‍योंकि यह 100% सुरक्षा की गारंटी नहीं है। बूस्टर की जरूरत और उसके समय के बारे में पता चल जाने के बाद, उससे संबंधित गाइडलाइन और प्रावधान लोगों को बता दिए जाएंगे।'

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

No stories found.
Top Hindi News Bhopal,Trending, Latest viral news,Breaking News - Raj Express
www.rajexpress.co