देश में होगा 26 ग्रीन एक्सप्रेस हाईवे का निर्माण
देश में होगा 26 ग्रीन एक्सप्रेस हाईवे का निर्माण Social Media

केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने संसद में दी 26 ग्रीन एक्सप्रेस हाईवे के निर्माण की जानकारी

साल 2024 के अंत तक देशवासियों को नए 26 ग्रीन एक्सप्रेस हाईवे की सौगात मिलेगी। क्योंकि, देशभर में 26 ग्रीन एक्सप्रेस हाईवे का निर्माण किया जाएगा। यह जानकारी केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने संसद में दी।

राज एक्सप्रेस। पिछले कुछ सालों में भारत को कई बड़ी सौगातें मिली हैं। वहीं, अब आने वाले सालों में देशवासियों को नए 26 ग्रीन एक्सप्रेस हाईवे की सौगात मिलेगी। जी हां, साल 2024 के अंत तक देशभर में 26 ग्रीन एक्सप्रेस हाईवे का निर्माण किया जाएगा। जिससे लोगों के आने जाने कि सुविधा को और भी आसान और सरल बनाया जा सकेगा। इस बारे में जानकारी केंद्रीय सड़क एवं परिवहन मंत्री नितिन गडकरी ने संसद में दी।

देश को मिलेंगे नए ग्रीन एक्सप्रेस हाईवे :

दरअसल, केंद्रीय सड़क एवं परिवहन मंत्री नितिन गडकरी ने संसद में जानकारी देते हुए बताया है कि, देशभर में 26 ग्रीन एक्सप्रेस हाईवे बनने वाले हैं। इनके निर्माण कि तैयारियां शुरू हो चुकी हैं। इनके निर्माण से रास्ते और भी आसान हो जाएंगे। इन एक्सप्रेस हाईवे पर 125-130 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से सफर किया जसा केगा। इस बारे में विस्तार से जानकारी देते हुए केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने कहा

‘इस समय नेशनल हाईवे अथॉरिटी ऑफ इंडिया (NHAI) की आर्थिक स्थिति बहुत मजबूत है। मैं सदन में ऑन-रिकॉर्ड यह बात कह रहा हूं कि, मैं हर साल 5 लाख करोड़ रुपए की सड़क बना सकता हूं। हमारे पास पैसे की कमी नहीं है। संसद में किसी भी पार्टी के सांसद से पूछिए, जिसने भी मुझसे सड़क बनवाने के लिए पैसा मांगा है, मैंने उसे पैसा सैंक्शन किया है। मैंने किसी पार्टी के सांसद को मना नहीं किया।’

नितिन गडकरी, केंद्रीय मंत्री

नितिन गडकरी का दावा :

बताते चलें, केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने दावा किया है कि, साल 2024 के खत्म होने से पहले ही देश का रोड इन्फ्रास्ट्रक्चर अमेरिका की टक्कर का होगा। साथ ही उन्होंने कहा है कि, ‘NHAI को AAA रेटिंग मिली हुई है। हाल ही में दो बैंकों के चेयरमैन मेरे पास आए और उन दोनों ने मुझे 25-25 हजार करोड़ रुपए लोन देने का प्रस्ताव रखा। मुझे सिर्फ 6.45% की ब्याज दर पर यह पैसा मिला है। इसलिए NHAI के पास सड़कें बनवाने के लिए भरपूर पैसा है। फिलहाल टोल कलेक्ट करने के लिए हमारे पास एक सिस्टम मौजूद है, लेकिन हम अन्य दो विकल्पों पर काम कर रहे हैं। इनमें से -

  • पहला विकल्प है - सैटलाइट आधारित टोल-सिस्टम। जिसमें कार में GPS लगा होगा और उसमें से खुद ही टोल कट जाएगा।

  • दूसरा विकल्प है - नंबर प्लेट में बदलाव करना।

केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने आगे कहा, 'साल 2019 से ही हमने नए तरीके की नंबर प्लेट बनाने की तकनीक पर काम करना शुरू कर दिया है। अब मैन्युफैक्चरर के लिए यह नंबर-प्लेट लगाना अनिवार्य होगा। पुरानी नंबर-प्लेट्स को नई नंबर प्लेट्स से बदला जाएगा। नई नंबर-प्लेट से एक सॉफ्टवेयर जुड़ा होगा, जिससे टोल कट जाया करेगा।'

NHAI का काम :

जानकारी के लिए बता दें, नेशनल हाईवे अथॉरिटी ऑफ इंडिया भारत सरकार की एक स्वायत्त संस्था है। जिसकी स्थापना 1955 में कि गई थी, यह देश के 1,32,499 किमी लंबे नेशनल हाईवे में से 50 हजार किमी के नेटवर्क के मैनेजमेंट का काम करती है।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

No stories found.
| Raj Express | Top Hindi News, Trending, Latest Viral News, Breaking News
www.rajexpress.co