कराधान में कोई बदलाव नहीं, अंतरिम बजट में किसानों, महिलाओं, युवाओं के लिए कई घोषणाएं

Interim Budget updates: वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण ने आज संसद में पेश किए गए अंतरिम बजट में किसानों, महिलाओं, युवाओं और गरीबों के लिए अहम घोषणाएं की हैं।
Nirmal Sitaraman
Nirmal SitaramanRaj Express

हाईलाइट्स

  • किसानों, महिलाओं, युवाओं और गरीबों के लिए अहम घोषणाएं

  • एक घंटे से थोड़ा कम रहा निर्मला सीतारमण का बजट भाषण

  • साल 2020 में उनका बजट भाषण दो घंटे और 40 मिनट का था

राज एक्सप्रेस। केंद्रीय वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण ने आज संसद में पेश किए गए अंतरिम बजट में किसानों, महिलाओं, युवाओं और गरीबों के लिए कई अहम घोषणाएं की हैं। उन्होंने अपने संबोधन में बताया है कि कराधान प्रक्रिया में कोई बदलाव नहीं किया। उन्होंने कहा कि कराधान प्रक्रिया ज्यों की त्यों रखी गई है। निर्मला सीतारमण का बजट भाषण एक घंटे से थोड़ा कम लंबा रहा। उन्होंने 2020 का बजट पेश करते हुए अपना सबसे लंबा भाषण दिया था। तब उन्होंने दो घंटे और 40 मिनट तक बजट भाषण दिया था। पिछले साल उनका भाषण लगभग 87 मिनट का था। इस बजट में केंद्र सरकार ने ये अहम घोषणाएं की हैं।

बजट भाषण के मुख्य बिंदु

  • वित्त वर्ष 24 में राजकोषीय घाटा जीडीपी का 5.8% रहा।

  • वित्त वर्ष 24 का कुल संशोधित व्यय 44.90 लाख करोड़ रहा।

  • वित्त वर्ष 24 में उधार के अलावा कुल प्राप्तियां 27.56 लाख करोड़ हैं।

  • वित्त वर्ष 24 में कर प्राप्तियां 23.24 लाख करोड़ हैं।

  • वित्त वर्ष 26 तक राजकोषीय घाटे को 4.5% से कम करने का लक्ष्य।

  • 10 मिलियन करदाताओं को लाभ पहुंचाने के लिए छोटी-मोटी बकाया प्रत्यक्ष कर मांगों को समाप्त कर दिया गया।

  • राज्यों को विकास मे्ं समर्थन देने के लिए 50-वर्षीय ब्याज-मुक्त ऋण के रूप में 750 अरब रुपये की सहायता।

  • वित्त वर्ष 2025 में बुनियादी ढांचे के लिए परिव्यय बढ़ाकर 11.11 लाख करोड़ रुपये कर दिया गया है।

  • छत पर सोलराइजेशन, 1 करोड़ परिवार हर माह 300 यूनिट तक मुफ्त बिजली प्राप्त करने में सक्षम होंगे

  • आयुष्मान भारत योजना को सभी आशा और आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं तक बढ़ाया जाएगा।

  • भारत अपतटीय पवन ऊर्जा के लिए 1 गीगावॉट के लिए व्यवहार्यता अंतर वित्तपोषण प्रदान करेगा।

  • भारत सरकार के 2070 नेट ज़ीरो लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए विस्तृत योजना।

  • तीन प्रमुख रेलवे आर्थिक गलियारा कार्यक्रम लागू किए जाएंगे।

  • ये हैं ऊर्जा, खनिज, सीमेंट गलियारा, बंदरगाह कनेक्टिविटी गलियारा व उच्च यातायात घनत्व गलियारा।

  • वित्तीय वर्ष 2024-25 के लिए कुल व्यय संशोधित अनुमान 44.90 लाख करोड़ है।

  • सरकार एकत्रीकरण, आधुनिक भंडारण, आपूर्ति श्रृंखला, प्राथमिक और माध्यमिक प्रसंस्करण, विपणन और ब्रांडिंग सहित फसल कटाई के बाद की गतिविधियों में निजी और सार्वजनिक निवेश को बढ़ावा देगी।

पंचामृत लक्ष्यों की व्याख्या

  1. 2030 तक 500 गीगावाट (जीडब्ल्यू) गैर-जीवाश्म ऊर्जा क्षमता तक पहुंचने का लक्ष्य तय किया गया।

  2. 2030 तक भारत की 50 प्रतिशत ऊर्जा आवश्यकता को नवीकरणीय ऊर्जा (आरई) स्रोतों से पूरा करने का लक्ष्य।

  3. साल 2030 तक अर्थव्यवस्था की कार्बन तीव्रता को 2005 के स्तर से 45% कम करने का लक्ष्य है।

  4. साल 2030 तक कुल अनुमानित कार्बन उत्सर्जन को एक बिलियन टन तक कम करने का लक्ष्य तय किया गया है।

  5. लक्ष्य निर्धारित किया गया है कि साल 2070 तक शुद्ध-शून्य कार्बन उत्सर्जन का लक्ष्य प्राप्त किया जाएगा।

  6. -सीतारमण ने कहा करि वित्तीय वर्ष 2024-25 के लिए कर प्राप्तियां 26.02 ट्रिलियन रुपये अनुमानित हैं।

ताज़ा समाचार और रोचक जानकारियों के लिए आप हमारे राज एक्सप्रेस वाट्सऐप चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। वाट्सऐप पर Raj Express के नाम से सर्च कर, सब्स्क्राइब करें।

और खबरें

No stories found.
logo
Raj Express | Top Hindi News, Trending, Latest Viral News, Breaking News
www.rajexpress.co