सालाना आधार पर 25% वृद्धि के साथ 3,517 करोड़ रहा एनएसई का तीसरी तिमाही का समेकित राजस्व

नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (एनएसई) ने वित्त वर्ष 2024 के 9 महीनों में यानी तीसरी तिमाही में सरकारी खजाने में 28,131 करोड़ रुपये का योगदान दिया है।
National Stock Exchange
National Stock ExchangeRaj Express

हाईलाइट्स

  • एनएसई ने तीसरी तिमाही में 1,975 करोड़ रुपए अर्जित किया समेकित लाभ

  • तीसरी तिमाही में सरकारी खजाने में दिया 28,131 करोड़ का योगदान

  • एनएसई ने तीसरी तिमाही में 1,975 करोड़ रुपये का शुद्ध लाभ अर्जित किया

राज एक्सप्रेस। नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (एनएसई) ने वित्त वर्ष 2024 के 9 महीनों में यानी तीसरी तिमाही में सरकारी खजाने में 28,131 करोड़ रुपये का योगदान दिया है। जिसमें एसटीटी 23,137 करोड़ रुपये, आयकर 1,490 करोड़ रुपये, स्टांप शुल्क 1,456 करोड़ रुपये, जीएसटी 1,257 करोड़ रुपये और सेबी शुल्क 791 करोड़ रुपये शामिल हैं। चालू वित्त वर्ष 2023-24 के पहले नौ महीनों के लिए प्रत्यक्ष कर संग्रह में एसटीटी अकाउन्ट्स का हिस्सा 1.57% है। भारत के अग्रणी एक्सचेंज एनएसई ने वित्त वर्ष 2024 की तीसरी तिमाही का समेकित राजस्व 3,517 करोड़ रुपये रहा है। जो सालाना आधार पर 25% अधिक है।

ट्रेडिंग के प्राप्त होने वाले राजस्व के अलावा डेटा सेंटर और कनेक्टिविटी शुल्क, समाशोधन सेवा, लिस्टिंग सेवा, सूचकांक सेवा और डेटा सेवा से मिलने वाला राजस्व प्राप्त किया है। एनएसई ने वित्त वर्ष 24 की तीसरी तिमाही के लिए समेकित आधार पर 1,975 करोड़ रुपये का शुद्ध लाभ अर्जित किया है, जो साल-दर-साल आधार पर 8% अधिक है। वित्तवर्ष 2024 की तीसरी तिमाही के लिए शुद्ध लाभ मार्जिन 51% रहा है। समेकित आधार पर, प्रति शेयर आय तीसरी तिमाही में बढ़कर 39.90 रुपये हो गई है, जो पिछले साल की इसी अवधि में 36.90 रुपये रही थी।

ट्रेडिंग वॉल्यूम के मोर्चे पर, नकदी बाजारों में औसत दैनिक कारोबार वॉल्यूम (एडीटीवी) 80,512 करोड़ रुपये (सालाना आधार पर 50% अधिक) दर्ज किया गया। इक्विटी वायदा 1,31,010 करोड़ रुपये (सालाना आधार पर 18% अधिक) के एडीटीवी तक पहुंच गया। इस दौरान ट्रेडिंग वॉल्यूम में भी उल्लेखनीय वृद्धि देखने को मिली है। जिसमें नकद बाजारों में औसत दैनिक कारोबार मात्रा (एडीटीवी) 50% बढ़कर 80,512 करोड़ हो गई है। कुल लेनदेन शुल्क में 18% बढ़ोतरी देखने को मिली है, यह अप्रैल 2023 से बढ़े शुल्कों को वापस लेने का परिणाम है।

एनएसई ने पूरे वित्तीय वर्ष में एसटीटी राजस्व के सरकार के अनुमानित बजट का लगभग 83.75% पहले ही एकत्र कर लिया है। एनएसई ने सेबी द्वारा वांछित कोर एसजीएफ में अतिरिक्त योगदान और आईपीएफटी में योगदान के कारण स्टैंडअलोन खर्चों में वृद्धि देखने को मिली है। कंपनी ने सेबी के निर्देशानुसार कोर सेटलमेंट गारंटी फंड कोष को 10,000 करोड़ तक बढ़ाने के लिए वित्त वर्ष 2024 के पहले 9 माह में 1,167 करोड़ का अतिरिक्त योगदान दिया। कुल मिलाकर एनएसई ने तीसरी तिमाही में मजबूत प्रदर्शन किया है, जो राजस्व और लाभ वृद्धि, स्वस्थ मार्जिन और बढ़ते ट्रेडिंग वॉल्यूम से प्रेरित है। कंपनी सरकार के राजस्व संग्रह में भी महत्वपूर्ण योगदान दे रही है।

ताज़ा समाचार और रोचक जानकारियों के लिए आप हमारे राज एक्सप्रेस वाट्सऐप चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। वाट्सऐप पर Raj Express के नाम से सर्च कर, सब्स्क्राइब करें।

और खबरें

No stories found.
logo
Raj Express | Top Hindi News, Trending, Latest Viral News, Breaking News
www.rajexpress.co