2030 तक देश में 30 करोड़ तक हो जाएगी घरेलू विमान यात्रियों की संख्या : ज्योतिरादित्य सिंधिया

केंद्रीय नागरिक उड्डयन मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कहा भारत में घरेलू यात्रियों की संख्या तेजी से बढ़ रही है। 2030 तक इनकी 30 करोड़ सालाना हो जाएगी।
30 करोड़ तक हो जाएगी घरेलू विमान  यात्रियों की संख्या
30 करोड़ तक हो जाएगी घरेलू विमान यात्रियों की संख्याRaj Express

हाईलाइट्स

  • देश में हवाई यात्रियों की संख्या में बढ़ोतरी देखने को मिल रही है।

  • बीते साल 2023 में घरेलू यात्रियों की संख्या 153 मिलियन रही थी।

  • हवाई अड्डों की संख्या बढ़कर 149 से 200 से अधिक हो जाएगी।

राज एक्सप्रेस। विंग्स इंडिया 2024 सिविल एवीएशन कॉनक्लेव और एक्जीबीशन के उद्घाटन सत्र में केंद्रीय नागरिक उड्डयन मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कहा कि भारत में घरेलू यात्रियों की संख्या 2030 तक बढ़कर 300 मिलियन या 30 करोड़ सालाना होने की उम्मीद है। बता दें कि बीते साल 2023 में घरेलू यात्रियों की संख्या 153 मिलियन थी। सिंधिया ने कहा देश जिस तेजी से विमान यात्रियों की संख्या बढ़ रही है, उसी गति से देश में हवाई अड्डों की संख्या बढ़कर 149 से 200 से अधिक हो जाएगी।

ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कहा पिछले दशक में घरेलू हवाई यात्री यातायात में 15 प्रतिशत की सीएजीआर की तेजी देखने को मिली है। वहीं, इंटरनेशनल स्तर पर 6.1 फीसजी की बढ़ोतरी देखने को मिली है। पिछले 15 सालों में डोमेस्टिक कार्गो में 60 फीसदी और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर 53 फीसदी की वृद्धि दर्ज की गई है। इस समारोह में केंद्रीय नागरिक उड्डयन राज्य मंत्री जनरल वीके सिंह और तेलंगाना मंत्री के वेंकट रेड्डी भी मौजूद रहे।

ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कहा आज हमारी पहुंच लगभग 3-4 प्रतिशत है, जो बढ़कर 10-15 प्रतिशत हो जाएगी। हमें अभी भी 85 प्रतिशत तक पहुंच हासिल करनी है। हम अपनी क्षमताओं का विस्तार करके, इस क्षेत्र में मौजूद बाधाओं को दूर करके और प्रक्रियाओं को सरल बनाकर यह क्षमता हासिल करने का प्रयास कर रहे हैं, ताकि 2047 तक विमानन का क्षेत्र 20 ट्रिलियन डॉलर की अर्थव्यवस्था बन सके।

कोविड से पहले दैनिक विमान यातायात 4,00,425 था। अप्रैल-मई में यह बढ़कर 4,50,000 हो गया और नवंबर-दिसंबर 2023 में प्रति दिन 4,67,000 यात्रियों तक जा पहुंचा। गौर तलब है कि पिछले 10 सालों में घरेलू यात्री यातायात 15.3 प्रतिशत की सीएजीआर से बढ़ा जबकि अंतर्राष्ट्रीय यातायात 6.1 प्रतिशत की दर से बढ़ा। भारत तीसरा सबसे बड़ा घरेलू नागरिक उड्डयन बाजार और सातवां सबसे बड़ा अंतरराष्ट्रीय नागरिक उड्डयन बाजार है।

दोनों को मिला दिया जाए तो भारत दुनिया का पांचवां सबसे बड़ा नागरिक उड्डयन बाजार है। केंद्रीय मंत्री सिंधिया ने कहा कि हाल के दिनों में भारत अमेरिका और चीन के बाद दुनिया में विमान का सबसे बड़ा खरीदार बन कर सामने आया है। उम्मीद है कि अगले दशक में भारत का विमानों का बेड़ा 713 से बढ़कर 2,000 से अधिक हो जाएगा। उन्होंने कहा देश के पास 2013-14 में केवल 400 विमान थे, जो अब बढ़कर 713 विमान हो गए हैं।

उन्होंने कहा पिछले 10 सालों के दौरान, भारत ने 74 हवाईअड्डे, वॉटरड्रोम और हेलीपोर्ट जोड़े हैं, जिसके बाद इनकी कुल संख्या बढ़कर 149 हो गई है। जिस गति से विकास हो रहा है, उसे देखते हुए 2030 तक हवाई अड्डों की संख्या बढ़कर 200 के पार हो जाएगी।

ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कहा कि टियर 2 और टियर 3 शहरों को जोड़ने के दौरान मंत्रालय की नजर महानगरों पर है। छह महानगरों में 2021 में 221 मिलियन यात्रियों की प्रवाह क्षमता थी। पिछले ढाई सालों में यह बढ़कर 261 मिलियन हो गई। जिस गति से विकास हो रहा है, उसे देखते हुए तय है कि अगले चार सालों में, दो नए ग्रीनफील्ड हवाईअड्डों के साथ प्रवाह क्षमता 420 मिलियन के करीब जा पहुंचेगी।

ताज़ा समाचार और रोचक जानकारियों के लिए आप हमारे राज एक्सप्रेस वाट्सऐप चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। वाट्सऐप पर Raj Express के नाम से सर्च कर, सब्स्क्राइब करें।

और खबरें

No stories found.
logo
Raj Express | Top Hindi News, Trending, Latest Viral News, Breaking News
www.rajexpress.co