PM Narendra Modi
PM Narendra ModiRaj Express

देश की ऊर्जा यात्रा में महत्वपूर्ण कदम साबित होगा कृष्णा गोदावरी बेसिन में तेल का उत्पादनः मोदी

पीएम नरेंद्र मोदी ने कहा कि कृष्णा गोदावरी बेसिन में ओएनजीसी की गहरे पानी की प्रमुख परियोजना से तेल उत्पादन देश की ऊर्जा यात्रा में एक उल्लेखनीय कदम है।

खास बातें

  • यह भारत की ऊर्जा यात्रा में एक उल्लेखनीय कदम है।

  • इससे आत्मनिर्भर भारत के मिशन को बढ़ावा मिलेगा।

  • इससे हमारे देश की अर्थव्यवस्था को भी फायदे होंगे।

राज एक्सप्रेस । प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सोमवार को कहा कृष्णा गोदावरी बेसिन में भारत के राज्य-नियंत्रित तेल और प्राकृतिक गैस निगम (ओएनजीसी) की गहरे पानी की प्रमुख परियोजना से तेल उत्पादन देश की ऊर्जा यात्रा में एक उल्लेखनीय कदम है। पीएम मोदी ने कहा इस विकास से आत्मनिर्भर भारत मिशन को बढ़ावा मिलेगा। पीएम मोदी ने माइक्रोब्लागिंग वेबसाइट एक्स पर जारी पोस्ट में कहा है कि यह भारत की ऊर्जा यात्रा में एक उल्लेखनीय कदम है। इससे आत्मनिर्भर भारत के हमारे मिशन को बढ़ावा मिलेगा। पीएम मोदी ने कहा इससे देश की अर्थव्यवस्था को भी कई फायदे होंगे।

ओएनजीसी ने शुरू किया तेल उत्पादन

ओएनजीसी ने रविवार को देश के पूर्वी तट के कृष्णा गोदावरी बेसिन में अपनी प्रमुख गहरे पानी की परियोजना से तेल उत्पादन शुरू कर दिया है। इस 98/2 परियोजना से ओएनजीसी के कुल तेल और गैस उत्पादन में क्रमशः 11 प्रतिशत और 15 प्रतिशत की वृद्धि होने की संभावना है। ओएनजीसी ने मार्च 2020 में परियोजना के पहले चरण को सफलतापूर्वक पूरा कर लिया था। इस प्रोजेक्ट से गैस उत्पादन की शुरुआत हो गई है। इस प्रोडक्टशन बेस केजी-डीडब्ल्यूएन-98/2 ब्लॉक 10 महीने के रिकॉर्ड समय में विकास किया गया। रविवार को इस पहले तेल उत्पादन की शुरुआत होने के साथ ही ओएनजीसी का दूसरा चरण भी लगभग पूरा होने के करीब है। इसके पूरा होते ही केजी-डीडब्ल्यूएन-98/2 के 'एम' क्षेत्र से तेल उत्पादन शुरू हो जाएगा।

इनोवेटिव पाइप इन पाइप तकनीक का इस्तेमाल

निगम के अनुसार, कच्चे तेल की मोमी प्रकृति के कारण इस क्षेत्र के विकास को अद्वितीय तकनीकी चुनौतियों का सामना करना पड़ा है। उन पर काबू पाने के लिए, ओएनजीसी ने इनोवेटिव पाइप इन पाइप तकनीक का इस्तेमाल किया, जो भारत में अपनी तरह की पहली पहल है। यद्यपि, इस विकास में किए जाने वाले कुछ उप-समुद्री हार्डवेयर को कुछ खास तरह की जरूरतों को पूरा करने के लिए विदेश से मंगाया गया है। लेकिन अधिकांश निर्माण कार्य कट्टुपल्ली में मॉड्यूलर फैब्रिकेशन सुविधा में किए गए थे। इससे आत्मनिर्भर ऊर्जा की दिशा में योगदान करते हुए 'मेक इन इंडिया' को बढ़ावा देने के लिए ओएनजीसी की प्रतिबद्धता उजागर होती है।

इस क्षेत्र से प्रति दिन 45,000 बैरल तेल का उत्पादन

इस परियोजना का दूसरा चरण भी अंतिम चरण में पहुंच गया है। ब्लॉक में शेष तेल और गैस क्षेत्रों से 2024 के मध्य तक उत्पादन शुरू हो जाने की संभावना है। इस क्षेत्र से अधिकतम प्रति दिन 45,000 बैरल तेल (बीओपीडी) और 10 एमएमएससीएमडी से अधिक गैस उत्पादन होने की उम्मीद है, जो पीएम नरेंद्र मोदी के ऊर्जा आत्मनिर्भर भारत के दृष्टिकोण में महत्वपूर्ण योगदान देगा। केंद्रीय पेट्रोलियम और प्राकृतिक गैस और आवास और शहरी मामलों के मंत्री हरदीप सिंह पुरी ने रविवार को कहा जैसा कि भारत पीएम नरेंद्र मोदी जी के नेतृत्व में सबसे तेजी से बढ़ती अर्थव्यवस्था के रूप में आगे बढ़ रहा है। हमारा ऊर्जा उत्पादन भी कृष्णा गोदावरी बेसिन के गहराई वाले क्षेत्र केजी-डीडब्ल्यूएन-98/2 ब्लॉक से बढ़ना तय है, जोकि बंगाल की खाड़ी के तट पर स्थित है।

ताज़ा समाचार और रोचक जानकारियों के लिए आप हमारे राज एक्सप्रेस वाट्सऐप चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। वाट्सऐप पर Raj Express के नाम से सर्च कर, सब्स्क्राइब करें।

Related Stories

No stories found.
logo
Raj Express | Top Hindi News, Trending, Latest Viral News, Breaking News
www.rajexpress.co