Ola में अब पक रही कौन सी खिचड़ी
Ola FoodsKavita Singh Rathore -RE

Ola में अब पक रही कौन सी खिचड़ी

खाद्य वितरण कारोबार में परेशानियों को देख अब फूड बिज़नेस बेस्ड Ola फूड्स ऐप की अपने प्राइवेट ब्रांड्स को ऑनलाइन मार्केट और फिज़िकल आउटलेट्स में उतारने की योजना है।

हाइलाइट्स :

  • अगले साल बड़ी तैयारी के मिल रहे संकेत

  • छह शहरों में आजमाएगा अपने नए ब्रांड को

  • बेंगलुरु में चल रहा स्पेशल एक्सपेरिमेंट

राज एक्सप्रेस। कंपनी Ola ने जब भी बोला है, कुछ अलग बोला। खाद्य वितरण कारोबार में परेशानियों को देख अब फूड बिज़नेस बेस्ड Ola फूड्स ऐप (Ola Foods) की अपने प्राइवेट ब्रांड्स को ऑनलाइन मार्केट और फिज़िकल आउटलेट्स में उतारने की योजना है। कंपनी जो शुद्ध देशी भोजन लेकर बाजार में आने वाली है उसका नाम आप सुनेंगे तो, चौंके बिना नहीं रह पाएंगे।

ओला फूड्स स्पेशल :

कंपनी ने शुरूआत में छह शहरों में अपनी नई योजना 'खिचड़ी एक्सपेरिमेंट' को प्रयोग के तौर पर आजमाने का निर्णय लिया है। खिचड़ी अच्छी लगी तो फिर उसे अगले चरणों में अधिक शहरों और मार्केट में उतारने की भी तैयारी कंपनी ने की है। सिर्फ खिचड़ी ही नहीं बल्कि राइज़ बाउल ब्रांड लवमेड, नॉर्थ इंडियन फूड ब्रांड ग्रैंडमाज़ किचेन एवं डेज़र्ट ब्रांड FLRT के विस्तार का भी लक्ष्य कंपनी ने बनाया है।

इनसे टक्कर :

ओला फूड ब्रांड्स इंडस्ट्री में अपनी खिचड़ी लेकर तब आ रहा है जब इंटरनेट मेज़र स्विगी, ओयो और अमेज़न इंटरनेट मार्केट में धूम मचा रहे हैं। जबकि क्लाउड किचन के लिए रेस्तरां के साथ साझेदारी करने ज़ोमैटो और स्विगी बुनियादी ढाँचा स्थापित कर रहे हैं।

फूड बिज़नेस आधारित ओला फूड्स ऐप की अपने प्राइवेट ब्रांड्स को ऑनलाइन मार्केट और फिज़िकल आउटलेट्स में उतारने की योजना है। इसकी शुरूआत खिचड़ी एक्सपेरिमेंट से हो चुकी है।

“हमने फूड डिलेवरी कंपनी से अपना ध्यान फूड फर्स्ट कंपनी बनने पर केंद्रित किया है। अब पूरा फोकस खुद के ब्रांड्स का पोर्टफोलियो बनाने पर रहेगा। हमारा मानना है यह एक प्रमुख अवसर और लॉन्ग टर्म एसेट भी है।”

प्रणय जीवराजका, CEO, Ola's फूड बिज़नेस

यह कदम फूडपांडा में निवेश वापस करने की रणनीति में बदलाव के हिस्से से जोड़कर देखा जा रहा है।

“अन्य 7-8 ब्रांड पायलट्स पर भी समानांतर तौर पर काम चल रहा है। हम कॉर्पोरेट कियोस्क, मॉल्स में भागीदारी, फूड ट्रक्स इत्यादि अलग फिज़िकल रिटेल मॉडल्स पर प्रयोग कर रहे हैं। साथ ही स्विगी, डुंज़ो और ओला पर भी लिस्टिंग की हमारी तैयारी है।”

प्रणय जीवराजका, CEO, Ola's फूड बिज़नेस

बेंगलुरु में शुरूआत :

ओला फूड्स ने बेंगलुरु में खिचड़ी प्रयोग के लिए अपना पहला स्टोर भी खोला है। कंपनी ने हैदराबाद और मुंबई के साथ कुल छह शहरों में इसके विस्तार की योजना बनाई है। अगले साल टियर-2 शहरों में इसे ले जाने का भी ओला फूड्स का प्लान है। कंपनी के मुताबिक वर्तमान में उनके पास लगभग 50 रसोई हैं। कंपनी का लक्ष्य आगामी 12 से 18 महीनों में और 150 से 200 रसोईयां तैयार करने का है।

रुचि पर ध्यान :

तय लक्ष्यों के मुताबिक कंपनी ने रोजाना भोजन रुचि पर अपना ध्यान केंद्रित किया है। अगले चरण में बिरयानी पर कंपनी का फोकस होगा। मिठाई ब्रांड्स को भी विस्तार देने की कंपनी की तैयारी नज़र आ रही है।

कंपनी ने खाद्य वितरण के कारोबार में नुकसान महसूस होने पर पिछले नौ महीनों के दौरान फूडपांडा के ऑपरेशंस को कम कर दिया है। जबकि स्विगी और ज़ोमैटो ने ग्राहकों के बीच अपनी पैठ बनाना जारी रखा।

फूड ब्रांड्स में ओला ने अपना कदम ऐसे समय बढ़ाया है जब इंटरनेट संसार की बड़ी कंपनियों स्विगी, ओयो और अमेज़ॅन वर्चुअल ब्रांड स्थापित कर रहे हैं। जबकि ज़ोमैटो और स्विगी क्लाउड किचन के रेस्तरां के लिए साझेदारी करने बुनियादी ढाँचा स्थापित कर रहे हैं।

दूसरे क्लाउड्स :

उबेरईट्स (UberEats) अपने साथी कैफे कॉफी डे (Cafe Coffee Day) के सहयोग से होम ब्रांड क्रेविंग्स संचालित करता है। अन्य क्लाउड किचन ब्रांडों में फ्रेशमेनू, ईट-फिट और रिबेल फूड्स के स्वामित्व वाले फैसोस, लंच बॉक्स, ओवन स्टोरी और बेह्रोज़ जैसे नाम शामिल हैं।

भारत में संभावना :

अमेरिका-चाईना जैसी अर्थव्यवस्थाओं के मुकाबले भारत में इस समय रेस्तरां की संख्या कम है। ऐसे में रेस्तरां और उसकी आपूर्ति के लिए सप्लाई चेन बनाना भारत में एक बहुत बड़ा अवसर है।

तब और अब :

ओला ने दिसंबर 2017 में फूडपांडा में बर्लिन स्थित ऑनलाइन फूड ऑर्डरिंग और डिलीवरी मार्केट डिलिवरी हीरो की 95% हिस्सेदारी 26.5 मिलियन यूरो (200.7 करोड़ रूपये) में ऑल-स्टॉक डील में हासिल की थी। लेकिन अब फूडपांडा बाजार से अपना ध्यान हटा कर विकास की आधारशिला के रूप में क्लाउड किचन व्यवसाय की ओर बढ़ रहा है।

ऑफर्स की झड़ी :

एक्साइटिंग राइड एंड डाइन ऑफर्स में ओला लज़ीज़ व्यंजन ऑफर कर रहा है। इसमें फेवरिट फूड का ऑर्डर करने पर एक्साइटिंग ऑफर्स दिए जा रहे हैं। लेकिन शर्त ये है कि ओला पर ऑर्डर बुक करने पर ही रिवार्ड प्रोग्राम का लाभ मिलेगा। कंपनी ने कूपन और वाउचर्स को ईमेल और SMS के माध्यम से 48 घंटों में पहुंचाने की जानकारी ब्लॉग पर दी है।

कहा गया है कि दसवां ऑर्डर मिलने के बाद 7 से 14 कार्य दिवसों में मुफ्त उपहार वितरित करने की योजना है। कंपनी ने साफ किया है कि ऑफर केवल खिचड़ी एक्सपेरिमेंट पर ही मान्य होगा।

विश्व खाद्य दिवस :

इस साल 16 अक्टूबर को विश्व खाद्य दिवस के मौके पर कंपनी ने इस खिचड़ी प्रयोग की शुरूआत की। कंपनी ने दुनिया भर में जारी ज़ीरो हंगर मिशन में सहभागिता के मकसद से ओला बिज़नेस के फ्लैगशिप ब्रांड खिचड़ी एक्पेरिमेंट के जरिए योगदान दिया।

ऐसे की मदद :

ओला ने अपने ऐप पर फीड हंग्री कैंपेन चलाया जिसमें कस्टमर्स प्रति राइड पांच रुपए का दान जरूरतमंदों के लिए करने का ऑप्शन रखा गया। इस प्रत्येक दान के बदले में कंपनी ने जरूरतमंदों को शुद्ध एवं पौष्टिक खिचड़ी का पैकेट देने का प्रबंध किया।

कंपनी के मुताबिक ओला ऐप पर बुकिंग में कस्टमर्स ने बढ़कर हिस्सा लिया। इस महादान अभियान के जरिए 25 हजार खिचड़ी के पैकेट्स का बेंगलुरु में जरूरतमंद लोगों के बीच वितरण किया गया।

तो अब सादी खिचड़ी भी ब्रांड बन गई है क्योंकि ओला उसे बाजार में उतारने जा रहा है। खिचड़ी एक्सपेरिमेंट- एक ब्रांड है जिसे ओलाज़ फूड बिज़नेस ने बनाया, पकाया और आपके बीच पहुंचाया है।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलिग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलिग्राम पर।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

Raj Express
www.rajexpress.co