British Economist Jems Wilson
British Economist Jems Wilson Raj Express

ब्रिटिश अर्थशास्त्री जेम्स विल्सन ने सात अप्रैल 1860 को पेश किया था भारत का पहला बजट

देश का पहला बजट 7 अप्रैल 1860 को ईस्ट इंडिया कंपनी ने पेश किया था। उस समय के प्रख्यात ब्रिटिश अर्थशास्त्री जेम्स विल्सन ने बजट पेश किया था।

हाईलाइट्स

  • उस दौर में देश पर हुआ करता था ईस्ट इंडिया कंपनी का शासन

  • इस हिसाब से देश में 163 साल पुरानी है बजट पेश करने की परंपरा

  • आजाद देश का पहला बजट 26 नवंबर 1947 को RKS चेट्टी ने पेश किया

राज एक्सप्रेस। देश का पहला बजट 7 अप्रैल 1860 को ईस्ट इंडिया कंपनी ने पेश किया था। तब उस समय के प्रख्यात ब्रिटिश अर्थशास्त्री जेम्स विल्सन ने बजट पेश किया था। इसके साथ ही व्यवस्थित रूप से देश में बजट पेश करने का सिलसिले की शुरुआत हुई। जेम्स विल्सन को उन्हें कई आर्थिक सुधारों के लिए जाना जाता है। सरकारी कागजी मुद्रा, भारतीय पुलिस, सैन्य वित्त आयोग और नागरिक वित्त आयोग के अलावा, सरकारी लेखा प्रणाली, वेतन कार्यालय और लेखा परीक्षा जैसी अनेक पहलों का श्रेय उन्हें दिया जाता है। इस तरह हम पाते हैं कि देश में बजट पेश करने की परंपरा 164 साल पुरानी है। विल्सन बजट पेश करने की परंपरा में समय-समय पर बदलाव किए गए और तब जाकर मौजूदा रूप सामने आ सका।

3 जून 1805 को हुआ था ब्रिटिश अर्थशास्त्री जेम्स विल्सन का जन्म

स्कॉटिश कारोबारी, अर्थशास्त्री और उदारवादी राजनीतिज्ञ जेम्स विल्सन का जन्म 3 जून 1805 में हुआ था। जबकि उनकी मृत्यु 11 अगस्त 1860 में हुई थी। जेम्स विल्सन ने द इकोनॉमिस्ट साप्ताहिक समाचार पत्र और चार्टर्ड बैंक ऑफ इंडिया, ऑस्ट्रेलिया और चीन की भी स्थापना की था, जिसका बाद में 1969 में स्टैंडर्ड बैंक के साथ विलय हो गया और स्टैंडर्ड चार्टर्ड बैंक के नए रूप में सामने आया। वह दिसंबर 1859 से अगस्त 1860 में अपनी मृत्यु तक वायसराय की कार्यकारी परिषद के पहले वित्त सदस्य थे। उन्हें कई आर्थिक सुधारों के लिए जाना जाता है। सरकारी कागजी मुद्रा, भारतीय पुलिस, सैन्य वित्त आयोग और नागरिक वित्त आयोग के अलावा, सरकारी लेखा प्रणाली, वेतन कार्यालय और लेखा परीक्षा जैसी अनेक पहलों के पीछे उनका ही दिमाग था।

26 नवंबर 1947 को पेश किया गया आजाद भारत का पहला बजट

15 अगस्त 1947 को देश आजाद हो गया। देश आजाद होने के बाद पहला बजट 26 नवंबर 1947 को तत्कालीन वित्त मंत्री आरके सन्मुखम चेट्टी ने पेश किया था। अब तक देश में 75 केंद्रीय बजट, 14 अंतरिम बजट और 4 स्पेशल बजट पेश किए जा चुके हैं। वित्तवर्ष 204-25 का बजट वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण 1 फरवरी 2024 को अंतरिम बजट पेश करेंगी। इस दिन केंद्रीय वित्तमंत्री लंबे बजट भाषण के माध्यम से देश को बताएंगी कि बजट प्रावधानों में किस सेक्टर के लिए क्या-क्या प्रावधान किया गया है। बजट भाषण में वित्तमंत्री देश की आर्थिक प्रतिबद्धताओं का भी विस्तार से जिक्र करते हैं। निर्मला सीतारमण द्वारा 1 फरवरी को 2020 को दिए गए बजट भाषण को अब तक का सबसे लंबा बजट भाषण माना जाता है। इन्होंने वित्त वर्ष 2020-21 के लिए केंद्रीय बजट पेश करते समय यह भाषण दिया था।

निर्मला सीतारमण के नाम दर्ज है सबसे लंबा बजट भाषण

अब तक के सबसे लंबे बजट भाषण का समय 2 घंटे 52 मिनट था। इस भाषण में उन्होंने जुलाई 2019 में बनाए 2 घंटे 17 मिनट के अपने ही रिकार्ड को तोड़ दिया था। वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण ने वर्ष 2019 में पहली बार बजट पेश किया था। क्या आप जानते हैं कि देश में सबसे छोटा बजट भाषण किसने दिया था। देश में सबसे लंबा बजट निर्मला सीतारमण ने दिया था, लेकिन क्या आप जानते हैं कि सबसे छोटा बजट भाषण किसने दिया था ? साल 1977 में तत्कालीन वित्त मंत्री हीरूभाई मुलजीभाई पटेल ने देश का सबसे छोटा बजट पेश किया था। यह अंतरिम बजट था, जिसे 28 मार्च, 1977 को पेश किया गया था। मोरारजी देसाई के नेतृत्व वाली तत्कालीन सरकार का उस साल का बजट भाषण 800 शब्दों में सिमटा हुआ था।

देश में मोरारजी देसाई ने पेश किए सबसे ज्यादा दस बजट

जबकि, अधिकांश वित्तमंत्रियों द्वारा पिछले कुछ सालों में पेश किए गए बजट में 18,000 से ज्यादा ही शब्द रहे हैं। सबसे ज्यादा बजट पेश करने का रिकॉर्ड पूर्व प्रधानमंत्री मोरारजी देसाई के नाम पर दर्ज है। मोरारजी देसाई वर्ष 1962 से 1969 तक वित्त मंत्री रहे। उन्होंने अपने कार्यकाल में 10 बजट पेश किए। पी चिदंबरम बजट पेश करने के मामले में दूसरे स्थान पर हैं। जबकि, प्रणब मुखर्जी 8 बजट पेश करने वाले तीसरे वित्तमंत्री हैं। पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने भी उनके ही बराबर 8 बजट पेश किए हैं। जबकि, अरुण जेटली ने वित्तमंत्री के रूपब में अपने कार्यकाल में 5 बजट पेश किये थे। वर्तमान वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण अब तक 5 बजट पेश कर चुकी हैं। एक फरवरी 2024 को वह अपने कार्यकाल का छठा बजट पेश करेंगी।

ताज़ा समाचार और रोचक जानकारियों के लिए आप हमारे राज एक्सप्रेस वाट्सऐप चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। वाट्सऐप पर Raj Express के नाम से सर्च कर, सब्स्क्राइब करें।

Related Stories

No stories found.
logo
Raj Express | Top Hindi News, Trending, Latest Viral News, Breaking News
www.rajexpress.co