दीवाली पर रुई की कीमतों में 400 रूपए मन की तेजी

देश के उत्तरी क्षेत्रीय राज्यों पंजाब, हरियाणा और राजस्थान की मंडियों में इस वर्ष दीवाली के मौके पर रुई कीमतों में गत साल की तुलना में लगभग 305 से 400 रूपए प्रति मन की तेजी रही।
दीवाली पर रुई की कीमतों में 400 रूपए मन की तेजी
दीवाली पर रुई की कीमतों में 400 रूपए मन की तेजीSocial Media

जैतो, पंजाब। देश के उत्तरी क्षेत्रीय राज्यों पंजाब, हरियाणा और राजस्थान की मंडियों में इस वर्ष दीवाली के मौके पर रुई कीमतों में गत साल की तुलना में लगभग 305 से 400 रूपए प्रति मन की तेजी रही।

सूत्रों के अनुसार इस वर्ष दीवाली के मौके लगभग 27000 रुई गांठों का कारोबार हुआ जबकि गत वर्ष इस मौके पर लगभग 50,000 गांठों का कारोबार रहा था। पंजाब में इस बार रुई व्यापार 4260-4280 रुपए प्रति मन, हरियाणा 4161, 4165 और 4170 रुपए प्रति मन और श्रीगंगानगर-हनुमानगढ़ सर्कल में 4161-4165 रुपए प्रति मन व्यापार रहा। सूत्रों की बात मानें तो इस बार रुई व्यापार कम होने का मुख्य कारण उत्तरी क्षेत्रीय राज्यों में भारतीय कपास निगम लिमिटेड (सीसीआई) द्वारा न्यूनतम समर्थन मूल्य(एमएसपी) पर बड़ी मात्रा में कपास खरीदना है।

दूसरी तरफ रुई तेजड़ियों का मानना है कि आगामी दिनों में बहुत जल्द रुई बाजार में 300-350 रुपए प्रति मन उछाल आ सकता हैं। वहीं, रुई बाजार के मंदड़ियों का कहना है कि रुई बाजार में जो तेजी आने थी, वह आ चुकी है क्योंकि अब विदेशों से यार्न, कपड़ा और रुई की मांग कोरोना वायरस के डर से कमजोर पड़ रही है जिससे भारतीय कपड़ा उद्योग और कताई मिलों पर इसका असर पड़ेगा। सीसीआई ने 12 नवम्बर तक पंजाब, हरियाणा, राजस्थान, मध्य प्रदेश, तेलंगाना, आंध्र प्रदेश, गुजरात और महाराष्ट्र से 1422583 गांठों से अधिक कपास एमएसपी पर खरीदी है।

सूत्रों के अनुसार सीसीआई ने दीवाली के मद्देनजर तीन दिन कपास की खरीद बंद रखी और अब सोमवार से फिर कपास की खरीद शुरू की जाएगी। इस साल कपास का एमएसपी 5400 से 5700 रुपए प्रति क्विंटल निर्धारित किया गया है। जबकि निजी कारोबारी 5000 से 5300 रुपए प्रति क्विंटल पर कपास खरीद कर रहे हैं। पंजाब और हरियाणा की अधिकतर मंडियों में रुई खरीदने की सीसीआई की अच्छी पकड़ है और इसके साथ ही पड़ोसी राज्य राजस्थान में भी कई मंडियों से वह कपास की खरीद कर रही हैं।

सूत्रों के अनुसार सीसीआई चालू कपास सीजन साल इस बार कपास खरीद में अपना नया रिकॉर्ड बनाने जा रही है। सीसीआई ने इस साल किसानों से 125 लाख गांठों का एमएसपी पर खरीदने का लक्ष्य रखा है जबकि गत वर्ष 105 लाख गांठें कपास खरीदी थी।

भारत कपास का दुनिया का सबसे बड़ा उत्पादक देश है जबकि चीन, बंगलादेश और वियतनाम आदि जैसे एशियाई खरीदारों के लिए एक प्रमुख आपूर्तिकर्ता हैं। सीसीआई के सूत्रों के अनुसार भारत से चालू कपास सीजन में अन्य देशों को निर्यात 20 फीसदी बढ़कर 60 लाख गांठों का हो सकता है। वहीं, एक अन्य संगठन का कहना है कि इस बार कपास निर्यात 65-70 लाख गांठों का हो सकता है।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

Raj Express
www.rajexpress.co