जहरीले चैनलों को ऐड न देने के फैसले पर #ParleG की हो रही वाहवाही

#ParleG: Parle G बिस्किट बनने वाली कंपनी के एक बड़े फैसले के चलते कंपनी की काफी वाहवाही होती नजर आई। इसी के चलते ट्वीटर पर #ParleG काफी ट्रेंड करता नजर आया।
जहरीले चैनलों को ऐड न देने के फैसले पर #ParleG की हो रही वाहवाही
#ParleGSyed Dabeer Hussain - RE

#ParleG : आज Parle G बिस्किट की कंपनी एक ऐसी कंपनी है जिसे गरीब से लेकर अमीर तक सभी लोग जानते हैं। हाल ही में कोरोना काल के दौरान Parle G बिस्किट ने बिक्री को लेकर नए रिकॉर्ड कायम किये थे। वहीं, अब एक बार फिर कंपनी की काफी वाहवाही होती नजर आ रही है। हालांकि, इस बार कंपनी ने कोई रिकॉर्ड तो कायम नहीं किया हैं, लेकिन एक बड़ा फैसला लिया है। जिसके चलते ही Parle G ट्वीटर पर काफी ट्रेंड करता नजर आया।

TV पर नहीं देगी विज्ञापन :

दरअसल, Parle G बिस्किट बनाने वाली कंपनी ने एक अहम् फैसला लेते हुए ऐलान किया है कि, वह TV पर विज्ञापन नहीं करेगी। जिससे वह एक बार फिर चर्चा में नजर आ रही है। लोग Parle G कंपनी की तारीफ करते नहीं थक रहे हैं। बताते चलें, Parle G कंपनी ने यह फैसला हाल ही में सामने आए TRP फ्रॉड के चलते लिया है। हालांकि, Parle G से पहले भी कई अन्य कंपनियों ने भी TV पर विज्ञापन न देने का फैसला कर लिया हैं। इन कंपनियों में बजाज ऑटो भी शामिल हैं। हाल ही में बजाज ऑटो के MD राजीव बजाज ने तीन चैनल्‍स को ब्‍लैकलिस्‍ट करने की घोषणा की थी।

Parle G का बयान :

बताते चलें, Parle G बिस्किट बनाने वाली कंपनी ने जानकारी देते हुए कहा कि, 'कंपनी समाज में जहर घोलने वाले कंटेट दिखाने वाले न्यूज़ चैनलों पर विज्ञापन नहीं देगी। हम कोशिश कर रहे हैं कि सभी विज्ञापनकर्ता एक साथ आएं और न्यूज चैनलों पर कम से कम ऐड दें ताकि सभी चैनलों को यह मैसेज मिले कि, उन्हें अपने कंटेट में बदलाव लाना होगा।' कंपनी के इस ऐलान के बाद से तो सोशल मीडिया प्लेटफार्म ट्विटर पर तो तारीफों की झड़ी लग गई। लोग अपने अपने शब्दों में कंपनी की तारीफ कर रहे हैं।

सीनियर कैटेगरी हेड का बयान :

Parle G बिस्किट बनाने वाली कपंनी के सीनियर कैटेगरी हेड कृष्‍णाराव बुद्ध ने एक अखबार से बात करते हुए कहा कि, कंपनी 'जहरीला कंटेंट' प्रसारित करने वाले चैनल्‍स को ऐड नहीं देगी। हम बाकी विज्ञापनदाताओं से भी इस बारे में साथ आने पर बात कर रहे हैं। हम ऐसी संभावनाएं तलाश रहे हैं जहां बाकी ऐडवर्टाइजर्स भी साथ आ सकें और न्‍यूज चैनलों पर उनके खर्च में कटौती कर सकें, ताकि सारे न्‍यूज चैनल्‍स को साफ संदेश जाए कि वे अपना कंटेंट बदल लें। कंपनी आक्रामकता और जहर फैलाने वाले चैनलों पर पैसा नहीं खर्च करना चाहती।'

सोशल मीडिया प्लेटफार्म ट्विटर पर #ParleG के साथ कुछ इस प्रकार हो रही वाहवाही -

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

Raj Express
www.rajexpress.co