Raj Express
www.rajexpress.co
Patanjali Company Acquired Ruchi Soya
Patanjali Company Acquired Ruchi Soya|Kavita Singh Rathore - RE
व्यापार

पतंजलि कंपनी ने रूचि सोया से किया पहला बड़ा अधिग्रहण

बाबा रामदेव की पतंजलि कंपनी द्वारा खाद्य तेल कंपनी रूचि सोया का अधिग्रहण किया गया। इस बात की खबर कंपनी ने बुधवार को दी। यहां पढ़े किन हालातों में हुआ यह अधिग्रहण।

Kavita Singh Rathore

Kavita Singh Rathore

हाइलाइट्स :

  • पतंजलि कंपनी ने किया रूचि सोया से अधिग्रहण

  • यह है पतंजलि कंपनी का पहला बड़ा अधिग्रहण

  • रूचि सोया को अब बाबा रामदेव की कंपनी के नाम से जाना जाएगा

  • बाबा रामदेव ने 125 करोड़ देशवासियों को दिया धन्यवाद

राज एक्सप्रेस। अन्य कंपनियों की तरह ही बाबा रामदेव की कंपनी पतंजलि आयुर्वेद (Patanjali Ayurved) भी लम्बे समय से घाटे का सामना कर रही थी, लेकिन अब कंपनी को कुछ राहत मिलने की उम्मीद जाग गई है, क्योंकि पतंजलि ने घाटे के बाद कर्ज के तले दिवालिया घोषित हो गई कंपनी न्यूट्रीला मेकर रुचि सोया को खरीद लिया है। अब से रुचि सोया कंपनी पतंजलि के साथ ही मिल कर काम करेगी और अब से इस कंपनी को बाबा रामदेव की ही कंपनी के नाम से जाना जाएगा।

कितने में हुई यह डील :

बाबा रामदेव की पतंजलि कंपनी ने रुचि सोया को 4,350 करोड़ रुपए में ख़रीदा है, कंपनी ने इस डील की जानकारी बुधवार को दी। जब दोनों कंपनियों के बीच डील की प्रक्रिया पूरी हो चुकी है। दोनों कंपनियों की डील इंसाल्वेंसी प्रक्रिया के चलते हुई है। हालांकि पतंजलि कंपनी ने इससे पहले किसी बड़ी कंपनी का अधिग्रहण नहीं किया, यह कंपनी का पहला बड़ा अधिग्रहण है। बता दें कि, पतंजलि कंपनी ने इस अधिग्रहण के लिए अप्रूवल 2019 में ही प्राप्त कर लिया था। फ़िलहाल पतंजलि की तरफ से अधिग्रहण के लिए जमा की गई राशि में 600 करोड़ रुपए की सही जानकारी न मिलने के कारण नेशनल लॉ ट्रिब्यून (NCLT) ने अधिग्रहण के फैसले को सुरक्षित रख लिया।

पतंजलि के प्रवक्ता का कहना :

पतंजलि के प्रवक्ता एस के तिजारावाला का कहना है कि, "रुचि सोया के अधिग्रहण करने से जुड़ी सारी प्रोसेस पूरी हो चुकी है और अधिग्रहण के लिए तय की गई राशि भी जमा कर दी गई है।" उन्होंने बताया कि, इस अधिग्रहण के बाद बाबा रामदेव ने 125 करोड़ देशवासियों को अपना सहयोग व समर्थन देने के लिए धन्यवाद दिया।

रुचि सोया को मिले नीलामी के आदेश :

रुचि सोया कंपनी भी काफी समय तक घाटे में रही, फिर नेशनल लॉ ट्रिब्यून (NCLT) द्वारा इनसॉल्वेंसी के चलते साल 2017 के दिसंबर में कंपनी को नीलामी के आदेश दे दिए गए। इसके बाद साल 2019 में पतंजलि आयुर्वेद ने इस कंपनी को खरीदने में रुचि ली और इस कंपनी का अधिग्रहण करने के लिए अप्रूवल प्राप्त कर लिया।

रुचि सोया पर बैंकों का कर्ज :

खाद्य तेल की कंपनी रुचि सोया पर कई बैंकों का कर्ज था। इस कर्ज की कुल राशि 9,345 करोड़ रुपए है। इस राशि में से भारतीय स्‍टेट बैंक (SBI) के नेतृत्‍व वाले बैंकों का कुल कर्ज 9,345 करोड़ रुपए बकाया था। वहीं,

  • SBI का कर्ज 1800 करोड़ रुपए

  • सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया का कर्ज 816 करोड़ रुपए

  • पंजाब नेशनल बैंक (PNB) का कर्ज 743 करोड़ रुपए

  • स्‍टैंडर्ड चार्टर्ड बैंक का कर्ज 608 करोड़ रुपए

  • DBS का कर्ज 243 करोड़ रुपए

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।