पेट्रोल-डीजल के लिहाज से महीने का आखिरी दिन साबित हुआ महंगा
पेट्रोल-डीजल के लिहाज से महीने का आखिरी दिन साबित हुआ महंगाSyed Dabeer Hussain - RE

पेट्रोल-डीजल के लिहाज से महीने का आखिरी दिन साबित हुआ महंगा

इस महीने के आखिरी दिन भी कीमतें एक बार फिर बढ़ी हैं। इस प्रकार आज राज्यों में पेट्रोल की कीमत में अधिकतम 29 पैसे की और डीजल की कीमत में अधिकतम 28 पैसे तक की बढ़ोतरी दर्ज की गई है।

राज एक्सप्रेस। पिछले कुछ समय से देश कोरोना का कहर और पेट्रोल- डीजल के दाम थमने का नाम नहीं ले रहे हैं। जी हां, देश में जारी कोरोना के संकट के बीच पेट्रोल-डीजल की कीमतें लगातार बढ़ रहीं हैं। हालांकि, बीच में एक आध दिन ऐसा भी रहता है जब पट्रोल डीजल की कीमतें स्थिर रही हों, लेकिन कुछ-कुछ दिनों के अंतर पर इन कीमतों के बढ़ने से वाहन चालकों की समस्या बढ़ रही हैं। बता दें, वैसे तो इन कीमतों में हर रोज कुछ पैसों की ही बढ़त दर्ज की जा रही है, लेकिन लॉकडाउन के बाद से देश में पहले ही थोड़ा आर्थिक मंदी का माहौल है ऊपर से पेट्रोल-डीजल की कीमतें वाहन चालकों के लिए मुश्किलें खड़ी कर रही है।

पेट्रोल-डीजल की कीमतें फिर बढ़ीं :

बताते चलें, इस साल में पहले ही पेट्रोल-डीजल की कीमतें बहुत ज्यादा बढ़त दर्ज कर चुकी हैं, लेकिन बीच के कुछ महीने यह कीमतें थमी रहीं जिससे वाहन चालकों को कुछ राहत मिली। वहीं, इसी महीने में यह कीमतें कुछ दिन लगातार बढ़ने के बाद फिर कुछ दिन रुक कर फिरसे बढ़ती ही जा रही हैं। वहीं, इस महीने के आखिरी दिन भी कीमतें एक बार फिर बढ़ी हैं। इस प्रकार आज राज्यों में पेट्रोल की कीमत में अधिकतम 29 पैसे की और डीजल की कीमत में अधिकतम 28 पैसे तक की बढ़ोतरी दर्ज की गई है। शनिवार को देश के 4 महानगरों में पेट्रोल-डीजल की प्रति लीटर कीमत -

बड़े शहरों में पेट्रोल की कीमतें :

  • दिल्ली में पेट्रोल की कीमतें - 94.23 रुपये प्रति लीटर

  • मुंबई में पेट्रोल की कीमतें - 100.47 रुपये रुपये प्रति लीटर

  • चेन्नई में पेट्रोल की कीमतें - 95.76 रुपये प्रति लीटर

  • कोलकाता में पेट्रोल की कीमतें - 94.25 रुपये प्रति लीटर

बड़े शहरों में डीजल की कीमतें :

  • दिल्ली में डीजल की कीमतें - 85.15 रुपये प्रति लीटर

  • मुंबई में डीजल की कीमतें - 92.45 रुपये प्रति लीटर

  • चेन्नई में डीजल की कीमतें - 89.90 रुपये प्रति लीटर

  • कोलकाता में डीजल की कीमतें - 88.00 रुपये प्रति लीटर

क्यों बढ़ती हैं पेट्रोल-डीजल की कीमतें ?

हर किसी के दिमाग में यह सवाल जरूर उठता है कि, भारत में पेट्रोल-डीजल की कीमतें लगातार क्यों बढ़ रही हैं। तो आपको बता दें, इसके दो मुख्य कारण हैं,

  • भारत में ही पेट्रोल-डीजल की कीमतों पर लगने वाला टैक्स

  • डॉलर के मुकाबले रुपये की कमजोरी

आपको बता दें कि, भारत में पेट्रोल-डीजल पर लगने वाले टैक्स में एक्साइज ड्यूटी, वैट और डीलर कमीशन की कीमत शामिल रहती हैं। इस सबके आधार पर प्रतिदिन 6 बजे पेट्रोल-डीजल की कीमतें बढ़ती हैं। इसके अलावा ज्ञात हो कि, हर दिन पेट्रोल-डीजल की नई कीमतें तय की जाती हैं। इस दौरान इन कीमतों में कमी या बढ़ोतरी दोनों हो सकती है।

रोज सुबह तय की जाती हैं कीमतें :

पेट्रोल की कीमतें क्रूड ऑइल की कीमतों पर डिपेंड करती हैं। इसका मतलब यह हुआ यदि क्रूड ऑइल की कीमतों में कमी आती हैं तो ऑटोमेटिक पट्रोल की कीमतों में भी कमी आ जाती है। बता दें कि, पेट्रोल और डीजल की कीमतें हर दिन सुबह ही तय की जाती हैं, यह कीमतें ऑयल मार्केटिंग कंपनियां (OMC) की कीमतों के आधार पर तय की जाती हैं। पेट्रोल और डीजल की प्रमुख कंपनियां इंडियन ऑयल (IOC), भारत पेट्रोलियम (BPCL) और हिंदुस्तान पेट्रोलियम (HPCL) है और यह सभी कंपनियां हर दिन सुबह 6 बजे पेट्रोल और डीजल की कीमतें निर्धारित कर देती हैं। निर्धारित की गई कीमतों में एक्साइज ड्यूटी, डीलर कमीशन सब कुछ जुड़ने से यह दोगुनी हो जाती हैं।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

No stories found.
Top Hindi News Bhopal,Trending, Latest viral news,Breaking News - Raj Express
www.rajexpress.co