कई दिनों के बाद Petrol की कीमतें तो बढ़ीं, लेकिन डीजल की कीमत रहीं स्थिर
कई दिनों के बाद Petrol की कीमतें तो बढ़ीं, लेकिन डीजल की कीमत रहीं स्थिर
Kavita Singh Rathore - RE

कई दिनों के बाद Petrol की कीमतें तो बढ़ीं, लेकिन डीजल की कीमत रहीं स्थिर

पेट्रोल-डीजल की लगातार बढ़ती कीमतें लोगों की मुश्किलें और बढ़ा रही हैं। पिछले कुछ दिन कीमतें स्थिर रहने के बाद आज पेट्रोल के दाम फिर बढे। राहत की बात ये है कि, आज डीजल की कीमत स्थिर रही।

Petrol-Diesel Price : एक तरफ देश पहले से ही कोरोना के बढ़ते प्रकोप से परेशान है। देश में कोरोना के मामले थमने का नाम ही नहीं ले रहे हैं, हालांकि, पहले की तुलना में मामलों में काफी गिरावट दर्ज की गई है, लेकिन आंकड़ा लगातार बढ़ ही रहा है। ऐसे में पहले ही लॉकडाउन के कारण देश आर्थिक मंदी का सामना कर रहा है। ऊपर से पेट्रोल-डीजल की लगातार बढ़ती कीमतें लोगों की मुश्किलें और बढ़ा रही हैं। पिछले कुछ दिन कीमतें स्थिर रहने के बाद आज पेट्रोल के दाम फिर बढे। राहत की बात ये है कि, आज डीजल की कीमत स्थिर रही।

पेट्रोल की कीमतें फिर बढ़ी :

इस आर्थिक मंदी के माहौल में पेट्रोल-डीजल की कीमतें आम आदमी की मुश्किलें और बढ़ा रही हैं। एक दिन स्थिर रहने के बाद आज शुक्रवार को एक बार फिर पेट्रोल की कीमतों में बढ़त दर्ज की गई है। जबकि, डीजल की कीमतें स्थिर रही। इस साल में पहले ही पेट्रोल-डीजल की कीमतें बहुत ज्यादा बार बढ़ चुकीं हैं और अब भी यह कीमतें थमी नहीं हैं। इस प्रकार आज पेट्रोल की कीमतों में अधिकतम 40 पैसे की बढ़त देखी गई है। जबकि डीजल में कोई बढ़ोतरी नहीं हुई और यह कीमतें स्थिर रही। शुक्रवार को देश के 4 महानगरों में पेट्रोल-डीजल की प्रति लीटर कीमत -

बड़े शहरों में पेट्रोल की कीमतें :

  • दिल्ली में पेट्रोल की कीमतें - 99.16 रुपये प्रति लीटर

  • मुंबई में पेट्रोल की कीमतें - 105.24 रुपये रुपये प्रति लीटर

  • चेन्नई में पेट्रोल की कीमतें - 100.13 रुपये प्रति लीटर

  • कोलकाता में पेट्रोल की कीमतें - 99.04 रुपये प्रति लीटर

बड़े शहरों में डीजल की कीमतें :

  • दिल्ली में डीजल की कीमतें - 89.18 रुपये प्रति लीटर

  • मुंबई में डीजल की कीमतें - 96.72 रुपये प्रति लीटर

  • चेन्नई में डीजल की कीमतें - 93.72 रुपये प्रति लीटर

  • कोलकाता में डीजल की कीमतें - 92.03 रुपये प्रति लीटर

क्यों बढ़ती हैं पेट्रोल-डीजल की कीमतें ?

हर किसी के दिमाग में यह सवाल जरूर उठता है कि, भारत में पेट्रोल-डीजल की कीमतें लगातार क्यों बढ़ रही हैं। तो आपको बता दें, इसके दो मुख्य कारण हैं,

  • भारत में ही पेट्रोल-डीजल की कीमतों पर लगने वाला टैक्स

  • डॉलर के मुकाबले रुपये की कमजोरी

आपको बता दें कि, भारत में पेट्रोल-डीजल पर लगने वाले टैक्स में 60% एक्साइज ड्यूटी और राज्यों के टैक्स का होता है। जबकि डीजल में ये 54% होता है। साथ ही इसमें वैट और डीलर कमीशन की कीमत शामिल रहती हैं। इस सबके आधार पर प्रतिदिन 6 बजे पेट्रोल-डीजल की कीमतें बढ़ती हैं। इसके अलावा ज्ञात हो कि, हर दिन पेट्रोल-डीजल की नई कीमतें तय की जाती हैं। इस दौरान इन कीमतों में कमी या बढ़ोतरी दोनों हो सकती है।

रोज सुबह तय की जाती हैं कीमतें :

पेट्रोल की कीमतें क्रूड ऑइल (कच्चा तेल) की कीमतों पर डिपेंड करती हैं। इसका मतलब यह हुआ यदि क्रूड ऑइल की कीमतों में कमी आती हैं तो ऑटोमेटिक पट्रोल की कीमतों में भी कमी आ जाती है। बता दें कि, पेट्रोल और डीजल की कीमतें हर दिन सुबह बेंचमार्क अंतरराष्ट्रीय क्रूड कीमतों और फॉरेन एक्सचेंज रेट के आधार पर तय की जाती हैं, यह कीमतें ऑयल मार्केटिंग कंपनियां (OMC) की कीमतों के आधार पर तय की जाती हैं। पेट्रोल और डीजल की प्रमुख कंपनियां इंडियन ऑयल (IOC), भारत पेट्रोलियम (BPCL) और हिंदुस्तान पेट्रोलियम (HPCL) है और यह सभी कंपनियां हर दिन सुबह 6 बजे पेट्रोल और डीजल की कीमतें निर्धारित कर देती हैं। निर्धारित की गई कीमतों में एक्साइज ड्यूटी, डीलर कमीशन सब कुछ जुड़ने से यह दोगुनी हो जाती हैं।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

No stories found.
Top Hindi News Bhopal,Trending, Latest viral news,Breaking News - Raj Express
www.rajexpress.co