रेलवे खाली पड़ी जमीनों को देगा प्राइवेट कंपनियों को लीज पर
Railways will lease vacant lands to private companiesSocial Media

रेलवे खाली पड़ी जमीनों को देगा प्राइवेट कंपनियों को लीज पर

भारतीय रेलवे ने पिछले कुछ समाय में हुए नुकसान से निपटने के लिए एक उपाय निकाला है। इस उपाय के तहत रेलवे खाली पड़ी जमीनों को प्राइवेट कंपनियों को लीज पर देगा।

राज एक्सप्रेस। भारत में कोरोना की एंट्री के बाद से ही कई सेक्टर भारी नुकसान में आ गये थे। बता दें, भारत के इतिहास में ऐसा पहली बार हुआ है कि, किसी महामारी के चलते भारतीय रेलवे को अपनी सेवाएं रोकनी पड़ी हों। इतने महीने तक रेल यात्रा ठप्प रहने से रेलवे को भी काफी नुकसान का सामना करना पड़ा है। वहीं, अब रेलवे ने इस नुकसान से निपटने के लिए नया उपाय निकाला है। इस उपाय के तहत रेलवे खाली पड़ी जमीनों को प्राइवेट कंपनियों को लीज पर देगा।

रेलवे का बड़ा फैसला :

दरअसल, रेलवे को पिछले कुछ महीनो में काफी नुकसान उठाना पड़ा है और इस नुक्सान के चलते ही इंडियन रेलवे ने अपनी खरी खाली पड़ी जमीनों को प्राइवेट कंपनियों को लीज पर देने का फैसला लिया है। इस बारे में जानकारी देते हुए रेलवे ने बताया है कि, रेल भूमि विकास प्राधिकरण (RLDA) द्वारा दिल्ली में रेलवे की 2.18 हेक्टेयर जमीन के पुनर्विकास के लिए बोली आमंत्रित की जा रही है। ये बोलिया ऑनलाइन लगाई जाएंगी। इसके अलावा बोली लगाने की अंतिम तारीख 27 जनवरी 2021 तक की तय की गई है।

जमीन का रिजर्व प्राइस :

बताते चलें, भारतीय रेलवे द्वारा अपनी दिल्ली के बुलेवार्ड रोड स्थित रेलवे कॉलोनी में 21800 स्क्वायर मीटर जमीन को 99 साल के लिए लीज पर दी जाएगी। इसी के लिए रेलवे ने प्राइवेट कंपनियों को बोली लगाने के अवसर दिए हैं। हालांकि, अभी इसकी रिजर्व प्राइस 393 करोड़ रुपये तय की गई है। इस साइट का दिल्ली मास्टर प्लान-2021 के अनुसार पुनर्विकास किया जाएगा। बताते चलें, दिल्ली की यह रेलवे कॉलोनी लाला हरदेव सहाय मार्ग / जीटी करनाल रोड पर तीस हजारी मेट्रो स्टेशन, आईएसबीटी कश्मीरी गेट और रानी झांसी फ्लाईओवर के पास स्थित है। यह रेलवे कॉलोनी पुरानी दिल्ली रेलवे स्टेशन से 2.5 किलोमीटर और नई दिल्ली रेलवे स्टेशन से 7 किमी दूर है। रिंग रोड के पास होने कारण साइट गुड़गांव और नोएडा से काफी जुड़ी हुई हैं।

क्या है RLDA ?

बताते चलें, रेल भूमि विकास प्राधिकरण (RLDA) रेल मंत्रालय की एक संस्था है। जो वर्तमान में 84 रेलवे कॉलोनी पुनर्विकास परियोजनाओं की देखरेख करती है। बता दें, रेलवे ने इससे पहले हाल ही में पुनर्विकास के लिए गुवाहाटी में एक रेलवे कॉलोनी को लीज पर दिया है। गौरतलब है कि, रेलवे के पास यदि पूरे भारत में देखा जाये तो कुल 43,000 हेक्टेयर खाली जमीन उपलब्ध है। जिसमें से RLDA के पास डेवलपर्स को लीज पर देने के लिए 92 ग्रीनफील्ड साइटें हैं।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

Raj Express
www.rajexpress.co