आम जनता के लिए RBI के राहत भरे दो कदम

RBI गवर्नर शक्तिकांत दास ने गुरुवार को मौद्रिक नीति समीक्षा के दौरान बैंक ग्राहकों को राहत की खबर देते हुए दो महत्वपूर्ण घोषणा की हैं। ये दोनों घोषणाएं लोन रिस्ट्रक्चरिंग और चेक पेमेंट से जुड़ी है।
आम जनता के लिए RBI के राहत भरे दो कदम
RBI decisions during Monetary Policy ReviewSocial Media

राज एक्सप्रेस। भारत में कोरोना वायरस के चलते लोगों के सामने कई परेशानियां उठ खड़ी हुई हैं। इन्हीं को देखते हुए भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) के गवर्नर शक्तिकांत दास कई मुद्दों को लेकर बैठक करते रहते हैं। वहीं, गुरुवार को उन्होंने मौद्रिक नीति समीक्षा की। इस दौरान RBI गवर्नर ने बैंक ग्राहकों को राहत की खबर देते हुए दो महत्वपूर्ण घोषणा की हैं। बता दें ये दोनों घोषणाएं लोन (कर्ज) रिस्ट्रक्चरिंग और चेक पेमेंट से जुड़ी है।

RBI के दो कदम :

  1. आम जनता के लिए लोन रिस्ट्रक्चरिंग की सुविधा

  2. चेक पेमेंट पर सुरक्षा बढ़ाने को लेकर कदम

क्या है लोन रिस्ट्रक्चरिंग :

लोन रिस्ट्रक्चरिंग या लोन को लौटाने से जुड़ी इन घोषणाओं को जानने के लिए पहले आपको लोन रिस्ट्रक्चरिंग को जानलेना उचित होगा। तो बताते चलें, लोन रिस्ट्रक्चरिंग एक ऐसी आर्थिक सुविधा है जो, किसी बड़े नुकसान के चलते RBI द्वारा दी जाती है। वहीं, वर्तमान में कोरोना संकट से बने हालातों को देखते हुए ये सुविधा आम जनता के लिए RBI द्वारा पेश की गई है। जबकि इससे पहले तक यह सुविधा सिर्फ कंपनियों को ही दी जाती थी। इस समय में इस सुविधा को आम जनता के लिए पेश करने का RBI का मकसद ऐसे लोगों को राहत पहुंचना है जो कोरोना काल में आर्थिक तंगी से परेशान हैं।

आम जनता के साथ यह भी लेक सकेंगे फायदा :

RBI द्वारा दी जा रही लोन रिस्ट्रक्चरिंगसुविधा का लाभ आम जनता के अलावा कोरोना से प्रभावित हुए होटल, एयरलाइंस से जुड़ी और स्टील एवं सीमेंट की कंपनियां भी ले सकेंगी। बताते चलें, नए नियमों के तहत लोन के लिए नई योजना लांच होगी। जिसका लाभ दिसंबर 2020 तक मिलेगा। बता दें, इसके तहत लोन भुगतान की तारीख, लोन की अवधि में बदलाव, ब्याज न चुका पाने पर और लोन देने और मोरेटोरियम की सुविधा आदि शामिल की गई है। किसी भी ग्राहक पर यह योजना लागू होने का आधार उसकी आमदनी ही होगी। RBI ने यह सुविधा अधिकतम दो सालों के लिए पेश की है।

सुविधा का लाभ लेने के लिए करना होगा आवेदन :

बता दें, कोई भी ग्राहक यदि लोन रिस्ट्रक्चरिंग का लाभ लेना चाहता है तो उसे बैंक को आवेदन करना होगा। ग्राहक के आवेदन के बाद बैंकों को इस योजना को 90 दिन के अंदर लागू करना होगा। हालांकि, मार्च 2020 से मोरेटोरियम की सुविधा की घोषणा से पहले के भुगतान में जिन ग्राहकों को डिफॉल्ट किया था। वह ग्राहक इस सुविधा का लाभ नहीं ले सकेंगे।

चेक पेमेंट पर सुरक्षा बढ़ाने को लेकर कदम :

लोन रिस्ट्रक्चरिंग के अलावा RBI ने चेक पेमेंट पर सुरक्षा बढ़ाने को लेकर भी इंतजाम करने पर विचार किया है। इस प्रकार RBI चेक से होने वाले पेमेंट पर नजर रख सकेगा और ग्राहकों को और भी ज्यादा सुरक्षा प्रदान कर सकेगा। इस बारे में RBI गवर्नर ने गुरुवार को बताया कि, अब से चेक से जुड़ी धोखाधड़ी पर लगाम कसने के लिए बैंकिंग सिस्टम चेक ट्रांजेक्शन में पॉजिटिव पे व्यवस्था की तरफ कदम बढ़ाएगा। बताते चलें, नई नीतियों के तहत बैंक को ग्राहक का चेक डिपॉजिट होने से पहले ही लाभार्थी के चेक का पता चल जाएगा।

RBI गवर्नर का कहना :

RBI गवर्नर शक्तिकांत दास का कहना है कि, "चेक पेमेंट्स की सेफ्टी बढ़ाने के लिए 50 हजार रुपये और उससे अधिक राशि के सभी चेक के लिए पॉजिटिव पे की व्यवस्था शुरू की गई है। वॉल्यूम के हिसाब से करीब 20% लेनदेन और वैल्यू के हिसाब से 80% लेनदेन 50 हजार रुपये की सीमा के दायरे में होंगे। इसके लिए जल्द ही गाइडलाइंस जारी कर दी जाएगी।"

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

Raj Express
www.rajexpress.co