Reliance Retail ने किया Metro Cash And Carry India का अधिग्रहण
Reliance Retail ने किया Metro Cash And Carry India का अधिग्रहणPriyanka Sahu -RE

Reliance Retail ने किया Metro AG की Metro Cash And Carry India का अधिग्रहण

अब मुकेश अंबानी की कंपनी रिलायंस इंडस्ट्रीज़ ने जर्मन रिटेलर कंपनी मेट्रो एजी (Metro AG) की भारत स्थित 'मेट्रो कैश ऐंड कैरी' (Metro Cash And Carry) के साथ समझौता कर हिस्सेदारी हासिल कर ली है।

Mukesh Ambani New Deal : मुकेश अंबानी और उनकी कंपनी का नाम आज देश-विदेश में हर कोई जानता है। लॉकडाउन में मुकेश अंबानी द्वारा उनके Jio प्लेटफॉर्म के माध्यम से लगातार एक के बाद एक कंपनियों के साथ की गई डील के बाद तो वह 15-16 देशी और विदेशी कंपनियों की हिस्सेदारी खरीद चुके है। वहीं, अब काफी समय बाद उनकी कंपनी का नाम एक बार फिर जर्मन की एक कंपनी के साथ डील के लिए चर्चा में बना हुआ है। पिछले कुछ ही समय में मुकेश अंबानी की कंपनियों ने तेजी से अलग-अलग क्षेत्र में कदम रखा है। वहीं, अब मुकेश अंबानी की कंपनी रिलायंस इंडस्ट्रीज़ ने जर्मन रिटेलर कंपनी मेट्रो एजी (Metro AG) की भारत स्थित 'मेट्रो कैश ऐंड कैरी' (Metro Cash And Carry) के साथ समझौता कर हिस्सेदारी हासिल कर ली है।

Reliance Retail की डील हुई फाइनल :

दरअसल, पिछले दिनों ऐसी खबर सामने आई थी कि, जर्मन रिटेलर कंपनी मेट्रो एजी (Metro AG) द्वारा लगाई गई बोली की रेस में रिलायंस इंडस्ट्रीज़ अकेले दौड़ रही थी। जिसके बाद उसका इस रेस में जितना तय था। वहीँ, मुकेश अंबानी की ही एक कंपनी रिलायंस रिटेल (Reliance Retail) ने जर्मनी की रिटेल कंपनी मेट्रो कैश एंड कैरी (Metro Cash and Carry) के 50 करोड़ यूरो (यानी लगभग 4,060 करोड़ रुपये) में डील फाइनल कर ली है। इस डील से Reliance Retail को अपने बी2बी (B2B) श्रेणी में अपनी मौजूदगी बढ़ाने में मदद मिलेगी। बता दें, वर्तमान समय में मेट्रो कैश एंड कैरी कंपनी के पास 31 होलसेल डिस्ट्रीब्यूशन सेंटर, जमीन और मेट्रो कैश एंड कैरी के मालिकाना हक और अन्य कई संपत्तियां भी हैं।

कैसे हुई दोनों कंपनियों के बीच डील :

खबरों की मानें तो, मुकेश अंबानी की कंपनी रिलायंस इंडस्ट्रीज (Reliance Industries) की Metro AG के साथ होने वाली यह डील पिछले काफी महीनों से चर्चा में बनी हुई थी। इस डील से जुड़ी खबर कंपनियों से जुड़े सूत्रों से सामने आई है। जबकि दोनों ही कंपनियों ने फिलहाल इस बारे में कोई बयान नहीं दिया है। बता दें, Metro AG कंपनी की भारत में एंट्री साल 2003 में हुई थी।बता दें, मेट्रो कैश एंड कैरी के मर्चेंट बैंकर JP Morgan और Goldman Sachs द्वारा कंपनी के बिजनेस की कीमत लगभग 1 अरब डॉलर आंकी थी। इस कीमत पर सबसे पहले थाईलैंड की सबसे बड़ी कंपनी Charoen Pokphand (CP) ग्रुप ने इसे खरीदने की इच्छा जताई थी, लेकिन बाद कंपनी ने अपना मन बदल लिया और फिर इस रेस में RIL अकेले ही रह गई। इस तरह अब दोनों कंपनियों की यह डील पूरी हो गई है।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

No stories found.
| Raj Express | Top Hindi News, Trending, Latest Viral News, Breaking News
www.rajexpress.co