प्याज की कीमतों में उछाल, सितंबर में खुदरा मुद्रास्फीति बढ़कर 3.99 प्रतिशत पर
प्याज की कीमतों में उछालPriyanka Yadav

प्याज की कीमतों में उछाल, सितंबर में खुदरा मुद्रास्फीति बढ़कर 3.99 प्रतिशत पर

सितंबर 2019 के सितंबर में प्याज की कीमतों में उछाल होने से खुदरा महंगाई दर में 3.99 प्रतिशत पर पहुंच गई है।

राज एक्सप्रेस। सितंबर 2019 के दौरान खाद्य वस्तु समूह के फल एवं सब्जियों और सूअर के मांस के दाम तीन-तीन प्रतिशत घटे हैं। ज्वार, बाजरा और अरहर दो प्रतिशत, समुद्री मछली, चाय और बकरे का मांस एक प्रतिशत नीचे आये हैं। इसी समूह में मसाले चार प्रतिशत, पान पत्ता एवं मटर तीन प्रतिशत, अंडा एवं रागी दो प्रतिशत तथा राजमा, गेंहू, जौ, उड़द, मछली, गाय एवं भैंस का मांस, मूंग, मुर्गें का मांस, धान और मक्का के दाम एक प्रतिशत चढे़ हैं। गैर खाद्य वस्तु समूह में फूल 25 प्रतिशत, कच्ची रबड़ आठ प्रतिशत, कच्ची खाल चार प्रतिशत, कच्ची कपास तीन प्रतिशत, चारा दो प्रतिशत तथा नारियल रेशा और सूरजमुखी के दाम एक प्रतिशत गिरावट में रहे हैं। इसी समूह में कच्ची सिल्क आठ प्रतिशत, सोयाबीन पांच प्रतिशत, तिल तीन प्रतिशत, कच्चा जूट दो प्रतिशत और सरसों एक प्रतिशत महंगे हुए हैं।

आंकड़ों में कहा गया है कि-

पिछले छह महीनों के दौरान प्याज के दामों में असाधारण 122. 40 प्रतिशत की तेजी आयी है। इसके उलट कच्चे तेल 21.41 प्रतिशत, रसोई गैस 27.51 प्रतिशत और आलू में 22.50 प्रतिशत की गिरावट हुई है। खुदरा मुद्रास्फीति बढ़कर 3.99 प्रतिशत पर सब्जी एवं मांस-मछली की कीमतों में बढ़ोत्तरी होने से सितंबर 2019 में खुदरा मूल्यों पर आधारित मुद्रास्फीति की दर बढ़कर 3.99 प्रतिशत दर्ज की गयी है। इससे पहले अगस्त में खुदरा महंगाई दर 3.21 फीसदी थी।

सरकारी आंकड़ों में बताया गया कि-

पिछले महीने अगस्त 2019 में खुदरा मुद्रास्फीति की दर 3.28 प्रतिशत रही थी। पिछले वर्ष के सितंबर में खुदरा मुद्रास्फीति की दर 3.70 प्रतिशत दर्ज की गयी थी।

आंकड़ों के अनुसार, सितंबर 2019 में उपभोक्ता खाद्य मूल्य सूचकांक 5.11 प्रतिशत पर रहा है। इसी माह में खुदरा बाजार में मांस-मछली की कीमत 10.29 प्रतिशत, सब्जी की 15.40 प्रतिशत और दाल की 8.40 प्रतिशत की वृद्धि हुई है। आलोच्य माह में मोटे अनाज के दाम 1.66 प्रतिशत, अंडा के 3.33 प्रतिशत, दूध एवं दुग्ध उत्पाद के 1.75 प्रतिशत, तेल एवं वसा के 1.15 प्रतिशत, फल के 0.83 प्रतिशत, चीनी के 0.35 प्रतिशत, मसाले के 3.30 प्रतिशत, शीतल पेय के 4.70 प्रतिशत, पाम ऑयल के 4.59 प्रतिशत और कपड़ा के 1.02 प्रतिशत चढ़े हैं।

इन वस्तुओं के दाम बढ़े

सितंबर में कच्चे तेल तीन प्रतिशत घटा है जबकि रसोई गैस तीन प्रतिशत और केरोसीन एक प्रतिशत चढ़े हैं। विनिर्मित खाद्य समूह में मैकरोनी और नूडल पांच प्रतिशत महंगे हुए हैं। सूखी मछली और नारियल तेल तीन प्रतिशत और काफी, वनस्पति, चावल छिलका तेल, मक्खन और घी दो प्रतिशत की तेजी में रहे हैं। पशु आहार, मसाले, पाम ऑयल , गुड़, चावल, चीनी, सूजी, गेंहू छिलका, सरसों तेल और मैदा के दाम एक प्रतिशत चढ़े हैं। अरंडी तेल तीन प्रतिशत, कोकोआ दो प्रतिशत, तैयार खाद्य उत्पाद, बिनौला तेल, मूंगफली तेल, आइसक्रीम और बेसन के दाम एक प्रतिशत गिरे हैं।

इन वस्तुओं के दाम गिरे

  • प्याज के मूल्यों में 122 फीसदी की असाधारण बढ़ोत्तरी के बावजूद सितंबर में थोक मूल्यों पर आधारित मुद्रास्फीति की दर घटकर 0.33 प्रतिशत दर्ज की गई है।

  • इसी माह के दौरान कच्चे तेल, रसोई गैस एलपीजी और आलू के दामों में उल्लेखनीय गिरावट हुई है।

  • केंद्रीय वाणिज्य एवं उद्योग मंत्रालय के सोमवार को यहां जारी आंकड़ों के अनुसार सितंबर 2018 की तुलना में सितंबर 2019 में थोक मुद्रास्फीति की दर 0.33 प्रतिशत रही है।

  • सितंबर 2018 में यह आंकड़ा 5.22 प्रतिशत था। जुलाई 2019 में थोक मुद्रास्फीति की दर 1.08 प्रतिशत दर्ज की गयी थी।

  • चालू वित्त वर्ष में अभी तक बिल्ड अप मुद्रास्फीति की दर 1.17 प्रतिशत रही है जबकि इससे पिछले वित्त वर्ष की इसी अवधि में यह आंकड़ा 3.96 प्रतिशत था।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

No stories found.
Top Hindi News Bhopal,Trending, Latest viral news,Breaking News - Raj Express
www.rajexpress.co