सऊदी अरब का जुलाई में कच्चे तेल की कीमतों को बढ़ाने का ऐलान
सऊदी अरब का जुलाई में कच्चे तेल की कीमतों को बढ़ाने का ऐलानSocial Media

सऊदी अरब का जुलाई में कच्चे तेल की कीमतों को बढ़ाने का ऐलान

दुनिया के सबसे बड़े तेल निर्यातक सऊदी अरब ने एशियाई खरीदारों को तगड़ा झटका देते हुए तंग आपूर्ति और गर्मियों में मजबूत मांग के बीच जुलाई में कच्चे तेल की कीमतों को बढ़ाने का ऐलान कर दिया है।

राज एक्सप्रेस। जब भी कभी दो देशों के बीच युद्ध होता है तो उसका नुकसान सिर्फ उन देशों को ही नहीं होता है। बल्कि, उन दोनों देशों के साथ ही यह नुकसान अन्य देशों को भी झेलना पड़ता है। वहीं, यूक्रेन और रूस के बीच चल रहे इस युद्ध के चलते भारत भी बुरी तरह प्रभावित हो रहा है। हालात यह हैं कि, अब दुनिया के सबसे बड़े तेल निर्यातक सऊदी अरब ने एशियाई खरीदारों को तगड़ा झटका देते हुए तंग आपूर्ति और गर्मियों में मजबूत मांग के बीच जुलाई में कच्चे तेल की कीमतों को बढ़ाने का ऐलान कर दिया है। बता दें, कच्चे तेल की कीमतों में होने वाली इस बढ़त का असर भारत पर भी देखने को मिलेगा।

कच्चे तेल की कीमतों में दर्ज होगी बढ़त :

दरअसल, पिछले कुछ महीनों से कच्चे तेल की कीमतों में काफी उतर चढ़ाव देखने को मिल रहा था। जिसके कारण भारत में पेट्रोल-डीजल की कीमतें भी बढ़ी थी। वहीं, अब ऐसा लग रहा है जैसे फिर से भारत में पेट्रोल-दिअज्ल की कीमतें आसमान छूने वाली है, क्योंकि, दुनिया भर के देशों में बढ़ रही महंगाई के बीच दुनिया के सबसे बड़े तेल निर्यातक सऊदी अरब ने जुलाई में कच्चे तेल की कीमतों को अपेक्षा से अधिक स्तर तक बढ़ाने का ऐलान किया है। यह कीमतें एक डॉलर से 1.5 डॉलर के बीच तक बढ़ने की संभावना जताई गई थी, लेकिन एशिया के लिए जुलाई-लोडिंग OSP जून से 2.1 डॉलर प्रति बैरल बढ़कर ओमान/दुबई उद्धरणों पर 6.5 डॉलर प्रति बैरल हो गया, जो मई में दर्ज किए गए उच्चतम स्तर के करीब है।

एशियाई तेल व्यापारी का कहना :

इस मामले में एक एशियाई तेल व्यापारी ने कहा कि, 'कच्चे तेल की कीमतों में यह उछाल अप्रत्याशित है, खासकर अरब लाइट के लिए हम इस फैसले से बेहद हैरान हैं।'

क्यों बढ़ती हैं पेट्रोल-डीजल की कीमतें ?

आप हो या हम हर किसी के दिमाग में यह सवाल जरूर उठता होगा कि, आखिर पेट्रोल-डीजल की कीमतें क्यों बढ़ती हैं ? भारत में इन दिनों एक बार फिर पेट्रोल-डीजल की कीमतें लगातार क्यों बढ़ रही हैं? या भारत के ही अलग-अलग राज्यों में पेट्रोल-डीजल की कीमतें अलग-अलग क्यों होती है तो आपको बता दें, इसके तीन मुख्य कारण हैं,

  • भारत में ही पेट्रोल-डीजल की कीमतों पर लगने वाला टैक्स

  • डॉलर के मुकाबले रुपये की कमजोरी

  • कच्चे तेल की कीमतें

आपको बता दें कि, भारत में पेट्रोल-डीजल पर लगने वाले टैक्स में एक्साइज ड्यूटी, वैट और डीलर कमीशन की कीमत शामिल रहती हैं। इस सबके आधार पर प्रतिदिन 6 बजे पेट्रोल-डीजल की कीमतें बढ़ती हैं। इसके अलावा ज्ञात हो कि, हर दिन पेट्रोल-डीजल की नई कीमतें तय की जाती हैं। इस दौरान इन कीमतों में कमी या बढ़ोतरी दोनों हो सकती हैं।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

No stories found.
| Raj Express | Top Hindi News, Trending, Latest Viral News, Breaking News
www.rajexpress.co