IRCTC में चूकने वालों को मिलेगा SBI कार्ड IPO से लाभ का मौका
SBI Card for IRCTCKavita Singh Rathore -RE

IRCTC में चूकने वालों को मिलेगा SBI कार्ड IPO से लाभ का मौका

IPO के जरिए निजी कॉर्पोरेशन जनता के बीच अपने नए स्टॉक के लिए शेयर्स का प्रस्ताव पेश करते हैं। पब्लिक शेयर्स से कंपनी को अपनी पूंजी में पब्लिक इन्वेस्टर्स के जरिए वृद्धि करने में मदद मिलती है।

हाइलाइट्स :

  • SBI कार्ड के प्रारंभिक सार्वजनिक प्रस्ताव की तैयारी

  • IPO में IRCTC की भारी सफलता से जागा विश्वास

  • बैंकिंग कारोबार में लीडिंग प्लेयर है SBI

राज एक्सप्रेस। प्रारंभिक सार्वजनिक प्रस्ताव यानी इनीशियल पब्लिक ऑफरिंग (IPO) में इंडियन रेलवे कैटरिंग एंड टूरिज़्म (IRCTC) की भारी सफलता से दूसरे सार्वजनिक उपक्रमों में भी शेयर मार्केट में उतरने का साहस पैदा हुआ है। अब भारतीय स्टेट बैंक भी अपने कार्ड के लिए IPO लेकर आने वाला है।

क्यों जरूरी :

IPO के जरिए निजी कॉर्पोरेशन जनता के बीच अपने नए स्टॉक के लिए शेयर्स का प्रस्ताव पेश करते हैं। पब्लिक शेयर्स से कंपनी को अपनी पूंजी में पब्लिक इन्वेस्टर्स के जरिए वृद्धि करने में मदद मिलती है।

पीएमसीबी की घटना के बाद बैंकों में जमा धन भी सुरक्षित न होने के कारण अब निवेशक शेयर मार्केट में निवेश करना ज्यादा मुफीद मान रहे हैं। आईपीओ में रुपया निवेश करने में पारदर्शिता होने से भी निवेशकर्ताओं का कमाई के इस सोर्स पर रुझान बढ़ा है।

सुनहरा मौका :

बीते दिनों IPO में IRCTC की धमाकेदार एंट्री के बाद लगातार शानदार परफॉर्मेंस से भारत का दूसरा बड़ा सार्वजनिक उपक्रम स्टेट बैंक ऑफ इंडिया (SBI) भी उत्साहित है। प्रबंधन ने अपना कैपिटल बढ़ाने के मकसद से SBI कार्ड को IPO में शेयर के जरिए जनता के बीच पहुंचाने का निर्णय लिया है। ऐसे में जो निवेशक IRCTC के आईपीओ से वंचित रह गए थे उनको भारत की सबसे बड़ी वित्तीय संस्था में निवेश करने का सुनहरा मौका जल्द मिलने वाला है।

इन्होंने बताया :

इस बारे में SBI के चेयरमैन रजनीश कुमार ने खुलासा किया है। व्यापार जगत की पड़ताल पर आधारित एक रिपोर्ट में बिज़नेस न्यूज बेस्ड चैनल संग चेयरमैन ने भारतीय स्टेट बैंक की रणनीतियों के बारे में विस्तार से चर्चा की।

SBI चेयरमैन कुमार ने संभावना जताई है कि बैंकिंग जायंट SBI अगली तिमाही में SBI कार्ड का प्रारंभिक सार्वजनिक प्रस्ताव (IPO) पेश कर सकता है। कुमार के मुताबिक इस प्रस्ताव के बारे में सभी बिंदुओं को ध्यान में रखकर काम किया जा रहा है, ताकि प्रस्ताव को पूर्णतः सुरक्षित और निवेशकर्तां की रुचि के माकूल बनाया जा सके।

IRCTC के नाम की धूम :

गौरतलब है कारोबारी मसौदों से इतर काम करने वाली IRCTC के नाम की शेयर मार्केट में धूम है। ऐसे में रुपयों के शुद्ध लेनदेन का सफल तंत्र-ज्ञान रखने वाली एसबीआई देरी से ही सही लेकिन आईपीओ के जरिए पूंजी बाजार में उतरना चाहती है। संभावना जताई जा रही है कि अगले साल जनवरी से मार्च तक कारोबारी जगत का बड़ा नाम शेयर मार्केट में SBI Card के IPO के जरिए धमाकेदार एंट्री कर सकता है।

योजना ये :

व्यापार जगत की खबरें बताती हैं कि SBI की योजना IPO के जरिए 14 फीसदी शेयर यानी लगभग 13 करोड़ शेयर बेचकर 1,000 करोड़ रुपया जुटाने की है। गौरतलब है पिछले दिनों SBI कार्ड के लिए बुक रनिंग लीड मैनेजर्स (BRLM) के अनुरोध का प्रस्ताव जारी किया जा चुका है।

इसलिए अहम :

दरअसल भारतीय स्टेट बैंक की SBI कार्ड में कुल 74 प्रतिशत की पार्टनरशिप है। जबकि बाकी के हिस्से पर कार्लाइल ग्रुप का अधिकार है। गौरतलब है भारतीय नागरिकों के बीच भारतीय स्टेट बैंक एक प्रतिष्ठित संस्था मानी जाती है। ऐसे में निवेशकों को भी SBI कार्ड के IPO में पैसा लगाने का बेसब्री से इंतजार रहेगा।

ताजा डाटा :

बैंक के ताजा आंकड़ों पर गौर करें तो SBI ने सितंबर क्वॉर्टर में जो डाटा पेश किया है उसमें कहीं भी झोल नज़र नहीं आ रहा। एक और खास बात वो यह कि बैंक प्रबंधन ने नॉन परफॉर्मिंग एसेट्स (NPA) यानी गैर निष्पादित परिसंपत्ति को कम करने में बाजी मारी है। आंकड़ों के मुताबिक बैंक हर मोर्चे पर सफल रहा। बताया गया कि परसंपत्तियों की बिक्री से मिली रकम की प्रोवीज़निंग कर दी गई।

“SBI के सितंबर तिमाही में नतीजे काफी बढ़िया रहे। बैंक ने हाल ही में कुछ संपत्तियों की भी बिक्री की थी। वन टाइम सेल से बैंक को तकरीबन 3500 करोड़ रुपया मिला।“

रजनीश कुमार, चेयरमैन, SBI

बढ़ानी होगी कवर लिमिट :

पंजाब-महाराष्ट्र को-ऑपरेटिव बैंक (PMCB) त्रासदी से बैंक में जमा राशि पर असुरक्षा की भावना जमाकर्ताओं के दिमाग में घर कर रही है। बैंक में जमा राशि पर पिछले कई सालों से लागू एक लाख रुपए की इन्श्योरेंस कवर लिमिट को SBI चेयरमैन कुमार ने नाकाफी माना उन्होंने RBI को इस बारे में समाधानकारी विचार करने की राय सवाल के जवाब में दी।

“बैंकों में जमा मेहनत की गाढ़ी कमाई के ऐवज में हमें बैंकों के डूबने की स्थिति में मिलेगा मात्र दो लाख! PMCB में तो फिलहाल ऐसा ही होता नज़र आया। ऐसे में थोड़ा रिस्क होने के बावजूद मैं निजी तौर पर शेयर मार्केट में निवेश करना ज्यादा ठीक समझता हूं।“

संदेश शुक्ला, एरिया मैनेजर, फार्मा इंडस्ट्री

SBI कार्ड की ताकत :

सोशल मीडिया पर दी गई अधिकृत जानकारी के अनुसार SBI कार्ड इंडियन क्रेडिट कार्ड मार्केट का एक लीडिंग प्लेयर है। जिसका कस्टमर बेस 9 मिलियन से अधिक है। साथ ही भारत के 100 से ज्यादा शहरों में इसका सफल संचालन किया जा रहा है।

बड़ी ओपनिंग की उम्मीद :

IPO के जरिए SBI कार्ड को इसलिए IRCTC के मुकाबले बड़ी ओपनिंग मिलने की उम्मीद जताई जा रही है क्योंकि इसका कारोबार ही रुपयों के लेनदेन पर आधारित है। पीएमसीबी की तुलना में भारतीय स्टेट बैंक एक प्रतिष्ठित संस्था है, जिस पर भारत के नागरिकों को अगाध विश्वास भी है।

बैंक की शाखाओं का संचालन पहाड़ों से लेकर दुर्गम मैदानी और जंगली इलाकों तक होना इस भरोसे को और मजबूत बनाता है। देश-विदेश की कारोबारी संस्थाएं एसबीआई के संग जुड़कर गौरव महसूस करती हैं क्योंकि उनकी साख भी SBI के संग जुड़कर अपने आप बढ़ जाती है। अब जब मार्केट में प्रवेश के पहले ही किसी संगठन की छवि इतनी बुलंद हो तो फिर उसकी धमाकेदार एंट्री से इनकार कैसे किया जा सकता है भला?

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

Raj Express
www.rajexpress.co