SBI ने MCLR की दर में की लगातार 13वीं बार कटौती
SBI cuts MCLR rate for 13th timeKavita Singh Rathore -RE

SBI ने MCLR की दर में की लगातार 13वीं बार कटौती

यदि लॉकडाउन में आप टर्म लोन लेने का मन बना रहे हैं तो, यह आपके लिए ख़ुशी की खबर हो सकती है। क्योंकि, देश के सबसे बड़े बैंक SBI ने मार्जिन कॉस्ट ऑफ लेंडिंग रेट (MCLR) में कटौती करने का फैसला किया है।

राज एक्सप्रेस। जहां एक तरफ पूरा देश कोरोना वायरस के बढ़ते प्रकोप की परेशानी से लड़ रहा है और भारी नुकसान का सामना कर रहा है। यदि इस नुकसान से उभरने के लिए आप टर्म लोन लेने का मन बना रहे हैं तो, यह आपके लिए ख़ुशी की खबर हो सकती है। क्योंकि, देश के सबसे बड़े बैंक स्टेट बैंक ऑफ़ इंडिया (SBI) ने मार्जिन कॉस्ट ऑफ लेंडिंग रेट (MCLR) में कटौती करने का फैसला किया है।

SBI ने दी खुशखबरी :

दरअसल, SBI ने अपने ग्राहकों को लॉकडाउन के चलते हुए नुकसान से बचाने के लिए अपनी मार्जिन कॉस्ट ऑफ लेंडिंग रेट (MCLR) आधारित लोन के रेट में कमी कर दी है। SBI द्वारा MCLR की सालभर की दर को घटाकर 7.00% कर दिया गया है। जो कि, पहले 7.25% सालभर के लिए थी। साथ ही साथ बैंक ने एक्सटर्नल लिंक्ड ब्याज दरों में भी 40 बेसिस प्वाइंट की कटौती करने का ऐलान किया है। SBI द्वारा इस MCLR की दर में ये लगातार 13वीं बार कटौती की गई है। जानकारी के लिए बता दें, वर्तमान में SBI बैंक के MCLR आधारित लोन लेने वाले लगभग 44-45 करोड़ से भी ज्यादा ग्राहक हैं। बताते चलें, एक साल की अवधि की MCLR दर ही व्यक्तिगत, कार और होम लोन जैसे कर्ज के लिए प्रमुख आधार होती है।

बेस रेट में की कटौती :

SBI ने MCLR की दर के साथ ही अपने बेस रेट में भी कटौती करके इसे 7.40% कर दिया है। जो कि, पहले 8.15% थी। SBI की बेस दर के साथ ही ये सभी नई दरें 10 जून 2020 से लागू हो जाएंगी।

किन्हें मिलेगा फायदा :

बताते चलें, इस कटौती का लाभ ऐसे लोगों को भी मिलेगा जो MCLR आधारित नया लोन लेंगे। इसका मतलब यह यह है कि, जिन ग्राहकों ने MCLR आधारित लोन लिया है, उन्हें इसका फायदा नहीं मिलेगा, लेकिन वहीं यदि कोई ग्राहक नया लोन लेता है तो, उसे EMI की किश्त में पहले की तुलना में EMI की राशि कम जमा करनी पड़ेगी।

MCLR की दर घटाने का कारण :

बैंक द्वारा MCLR की दर में कमी करने का कारण कोरोनावायरस को माना जा सकता है। क्योंकि, कोविड-19 के चलते हुए लॉकडाउन से आर्थिक नुकसान हुआ और आर्थिक गतिविधियों में भी काफी कमी आई। इसी के साथ लोन की मांग भी काफी घट गई। इन सब हालातों को मद्देनजर रखते हुए बैंक ने MCLR की दर एक बार फिर घटाने का फैसला किया है।

बैंक ने दी थी लॉकडाउन में भी ग्राहकों को राहत :

बताते चलें, कोरोना वायरस के चलते जब पूरे देश में लॉकडाउन की घोषणा हुई थी, तब से अब तक SBI कई बार अपने ग्राहकों को लोन या EMI में राहत दे चुका है। वहीं, इससे पहले बैंक ने मार्च के आखिरी हफ्ते और अप्रैल के पहले हफ्ते में भी ग्राहकों को राहत के तहत EMI की किश्त भरने में छूट देने का ऐलान किया था।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

Raj Express
www.rajexpress.co