SpiceJet ने पायलट्स को 'लीव विदाउट पे' पर भेजा
SpiceJet ने पायलट्स को 'लीव विदाउट पे' पर भेजाSocial Media

SpiceJet ने इस कारण से लिया पायलट्स को 'लीव विदाउट पे' पर भेजने का फैसला

कुछ एयरलाइन नुकसान का सामना कर रही हैं। जिसके कारण वह अहम् फैसले ले रहीं है और इसी का नतीजा है कि, अब एयरलाइन कंपनी स्पाइसजेट (SpiceJet) ने भी अपने कर्मचारियों को लीव विदाउट पे पर भेज दिया है।

राज एक्सप्रेस। भारत में कोरोना काल से ही नुकसान के चलते भारत की हवाई यात्रा प्रदाता कंपनियों ने अपने कर्मचारियों से जुड़े अहम् फैसले लेते हुए कभी छंटनी की थी तो कभी कर्मचारियों को लीव विदाउट पे पर भेज दिया था। इसक बड़ा कारण यह था कि, उस समय पूरी दुनिया आर्थिक मंदी झेल रही थी। हालांकि, अभी हालात पहले से काफी बेहतर हो गए हैं। अब कुछ एयरलाइन कंपनियां ही नुकसान का सामना कर रही है। जिसके कारण वह खर्च में कटौती करने के लिए अहम् फैसले ले रहीं है और इसी का नतीजा है कि, अब एयरलाइन कंपनी स्पाइसजेट (SpiceJet) ने भी अपने कर्मचारियों को लीव विदाउट पे पर भेज दिया है।

SpiceJet का फैसला :

दरअसल, एयरलाइन कंपनी स्पाइसजेट (SpiceJet) ने अपने पायलट्स की पोस्ट पर कार्यरत कर्मचारियों को लेकर अहम् फैसला लेते हुए उन्हें तीन महीने के लिए लीव विदाउट पे (बिना सैलरी की छुट्‌टी) पर भेजने का ऐलान किया है। कंपनी ने अपने बोइंग और Q400 फ्लीट के कुल 80 पायलट्स को लीव विदाउट पे पर भेजने के निर्देश दिए हैं। SpiceJet ने मंगलवार को अपने स्टाफ को इस बारे में जानकारी देते हुए एक स्टेटमेंट जारी किया है। हालांकि, एयरलाइन ने पायलट्स की संख्या नहीं बताई, लेकिन मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, यह संख्या 80 बताई जा रही है। बता दें, इससे पहले और भी एयरलाइन इस तरह का फैसला ले चुकी हैं।

कंपनी ने दी जानकारी :

कंपनी ने जानकारी देते हुए बताया है कि, 'खर्च में कटौती के लिए हमने अस्थायी तौर पर कुछ पायलट्स को तीन महीने बिना सैलरी की छुट्‌टी पर भेजने का फैसला लिया है। यह फैसला SpiceJet की पॉलिसी के हिसाब से है। इस पॉलिसी के तहत SpiceJet अपने कर्मचारियों की छंटनी नहीं करता है और इसका पालन कंपनी ने कोरोना महामारी के पीक में भी किया। इस फैसले से हमारी आधी फ्लीट को पायलट करने के लिए पर्याप्त संख्या में पायलट्स रहेंगे। इसके अलावा एक तकनीकी खराबी आने के बाद बोइंग 737 मैक्स एयरक्राफ्ट दो जानलेवा क्रैश से बचा। इसके चलते मार्च 2019 से नवंबर 2020 के बीच इस एयरक्राफ्ट को ग्राउंड करना पड़ा। इनसब के चलते कंपनी आर्थिक संकट से गुजर रही है।'

जरूरत से ज्यादा पायलट्स को भर्ती :

SpiceJet की तरफ से जारी बयान में यह भी कहा गया है कि, 'बोइंग 737 मैक्स एयरक्राफ्ट के ग्राउंड होने के बाद 2019 में स्पाइसजेट ने 30 एयरक्राफ्ट अपने बेड़े में शामिल किए गए है। इसके बाद भी एयरलाइन नए पायलट्स को इस उम्मीद में नियुक्त करती रही कि मैक्स जल्द ही फिर से सेवा में शामिल किया जाएगा। लेकिन मैक्स फ्लीट की ग्राउंडिंग बढ़ती ही गई, जिसके चलते स्पाइसजेट के पास जरूरत से ज्यादा पायलट्स हो गए हैं। हालांकि हमें भरोसा है कि, यह स्थिति जल्द ही ठीक होगी। हम मैक्स एयरक्राफ्ट को जल्द ही दोबारा सेवा में लेकर आएंगे और सभी पायलट्स फिर नौकरी जॉइन कर सकेंगे। लीव विदाउट पे के दौरान सभी पायलट्स कमर्चारियों को मिलने वाले सभी फायदों के लिए पहले की तरह एलिजिबल रहेंगे।'

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

No stories found.
| Raj Express | Top Hindi News, Trending, Latest Viral News, Breaking News
www.rajexpress.co