Air India के बाद अब Tata Group होगा NINL पर मेहरबान, करेगा अधिग्रहण
Tata Group की ही दो कंपनियों का होने जा रहा आपस में विलयSocial Media

Air India के बाद अब Tata Group होगा NINL पर मेहरबान, करेगा अधिग्रहण

अब Tata Group सरकारी कंपनी नीलाचल इस्पात निगम लिमिटेड (NINL) पर मेहरबान होने जा रहा है। क्योंकि, Tata Group अब NINL का अधिग्रहण करने जा रहा है।

पिछले कुछ समय से कई कंपनियों का एक दूसरे के अधिग्रहण का सिलसिला लगातार जारी है। कई बार कंपनी नुकसान में चल रही कंपनी को नुकसान से बचाने के लिए खरीद लेती है तो, कई बार किसी अन्य कारण के चलते। जिस प्रकार टाटा ग्रुप (Tata Group) ने नुकसान में चल रही कंपनी एयर इंड‍िया (Air India) पर मेहरबानी की थी। वहीं, अब Tata Group सरकारी कंपनी नीलाचल इस्पात निगम लिमिटेड (NINL) पर मेहरबान होने जा रहा है। क्योंकि, Tata Group अब NINL का अधिग्रहण करने जा रहा है।

Tata Group करेगा NINL का अधिग्रहण :

दरअसल, सरकारी कंपनी नीलाचल इस्पात निगम लिमिटेड (NINL) पिछले काफी समय से नुकसान का सामना कर रही है। जिसके कारण अब Tata Group की ही एक कंपनी टाटा स्‍टील (Tata Steel) ने NINL का अध‍िग्रहण करने का मन बनाया है। दोनों कंपनियों की यह डील जून के अंत तक पूरी होने की खबर सामने आई है। इस बारे में Tata Steel के CEO और प्रबंध निदेशक (MD) टीवी नरेंद्रन ने जानकारी देते हुए कहा है कि, 'कंपनी नीलाचल इस्पात निगम लिमिटेड (NINL) का अधिग्रहण जून के अंत तक पूरा कर लेगी। NINL का अधिग्रहण चालू वित्त वर्ष की पहली तिमाही में पूरा हो जाएगा और हम अपने उच्च मूल्य वाले खुदरा व्यापार के विस्तार को बढ़ावा देने के लिए इसे तेजी से बढ़ाएंगे।'

डील को लेकर माना जा रहा :

इस डील को लेकर ऐसा माना जा रहा है कि, Tata Steel द्वारा NINL का अधिग्रहण करना एक बड़े उत्पाद परिसर को तैयार करने की दृष्टि से बहुत महत्वपूर्ण है। याद दिला दें कि, Tata Steel ने 31 जनवरी को ओड‍िशा की इस्पात निर्माता कंपनी नीलाचल इस्पात निगम लिमिटेड (NINL) की बोली जीतने की घोषणा की थी। इस घोषणा के तहत बताया गया था कि, 'कंपनी ने 12,100 करोड़ रुपये में 93.71% हिस्सेदारी खरीने के लिए बोली जीती है।'

NINL का स्टील प्लांट :

बता दें, नीलाचल इस्पात निगम लिमिटेड (NINL) का एक इंटीग्रेटेड स्टील प्लांट कलिंगनगर ओडिशा में है। जिसकी क्षमता 1.1 मीर्ट‍िक टन है। घाटे में चलने के चलते यह प्लांट 30 मार्च, 2020 से बंद है। कंपनी पर 31 मार्च 2021 को 6,600 करोड़ रुपये से ज्‍यादा का कर्ज हैं। इस कर्ज में प्रमोटरों का हिस्सा 4,116 करोड़ रुपये, बैंकों का हिस्सा 1,741 करोड़ रुपये और अन्य हिस्सा लेनदारों और कर्मचारियों का है।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

No stories found.