Twitter and zoom closed in pakistan
Twitter and zoom closed in pakistan|Syed Dabeer Hussain - RE
टेक & गैजेट्स

जानिए, पाकिस्तान में क्यों हुए थे Twitter और Zoom बंद

पाकिस्तान के कई इलाकों में सोशल मीडिया वेबसाइट "Twitter " (ट्विटर) और वीडियो स्ट्रीमिंग वेबसाइट "Zoom" (ज़ूम) बीते कुछ घंटों के लिए बंद थी। जो प्रधानमंत्री इमरान खान आदेश पर यह साइट बंद की गई थी।

Kavita Singh Rathore

Kavita Singh Rathore

राज एक्सप्रेस। पाकिस्तान के कई इलाकों में सोशल मीडिया वेबसाइट "Twitter " (ट्विटर) और वीडियो स्ट्रीमिंग वेबसाइट "Zoom" (ज़ूम) बीते कुछ घंटों के लिए बंद थी। परन्तु जिस समय यह वेबसाइट्स बंद थी। उस दौरान किसी को भी इस बारे में जानकारी नहीं थी कि, यह दोनों वेबसाइट क्यों बंद हैं। परंतु बाद में जानकारी सामने आने पर पता चला कि, पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान के आदेश पर यह साइट बंद की गई थीं।

इमरान खान ने दिए थे आदेश :

बता दें, हाल ही में पाकिस्तान में बीते कुछ घंटों के लिए ट्विटर और जूम वेबसाइट्स बंद थी। वहीं दूसरी तरफ पाक में बलूचिस्तान पर हो रहे अत्याचारों को लेकर साथ वर्चुअल कॉन्फ्रेंस का आयोजन किया गया था। दरअसल, प्रधानमंत्री इमरान खान और पाकिस्तानी सेना को डर था। इसलिए ही इमरान खान ने ट्विटर और जूम को कुछ घंटों के लिए ब्लॉक करने के आदेश दे दिए थे। जिन्हे कुछ समय के बाद पाकिस्तान सरकार ने हटाने के आदेश दिए गए और हटा दिया गया।

ब्लॉक करने की वजह थी डर :

दरअसल, पाकिस्तान सरकार ने यह फैसला डर से लिया था। उनके डर का कारण हाल ही में हुई बलूचों के ऊपर हो रहे अत्याचारों को लेकर 'साथ वर्चुअल कॉन्फ्रेंस' थी। हालांकि, यह दोनों वेबसाइट पाक के कुछ इलाकों में ब्लॉक की गई थीं। इसके अलावा पाकिस्तान के अन्य क्षेत्रों में रहने वाले लोग इन दोनों ही वेबसाइट पर एक्सेस कर पा रहे थे।

राजनीतिक विश्लेषकों के अनुसार :

राजनीतिक विश्लेषकों के अनुसार, पाक में आये दिन बलूचों के ऊपर पाकिस्तान सरकार और सेना द्वारा अत्याचार करने से जुड़ी खबरें सामने आती रहती हैं। ऐसे में 'साथ वर्चुअल कॉन्फ्रेंस' का आयोजन होना सरकार के लिए किसी खतरे से कम नहीं था।

'साथ फोरम' की स्थापना :

अमेरिका में पूर्व राजदूत हुसैन हक्कानी और स्तंभकार मोहम्मद ताकी ने 'साथ फोरम' की स्थापना की है। दरअसल, पाकिस्तान में रविवार को साथ फोरम द्वारा ऐलान किया गया था कि, वह अत्याचार के खिलाफ "वर्चुअल कॉन्फ्रेंस" का आयोजन करेंगे, जिसमें बलूच पत्रकार सज्जाद हुसैन और पश्तून तहाफुज मूवमेंट के नेता आरिफ वजीर की रहस्यमय परिस्थितयों में हुई हत्या को लेकर चर्चा की जाएगी। वहीं, इस फोरम में बलूचों के प्रमुख नेता, नबी बख्श बलोच, गुल बुखारी, अहमद वकास गोराया, ताहा सिद्दीकी समेत कई जाने माने-लोग भी आने वाले थे।

बलूचों के प्रमुख नेता ने लगाया इमरान सरकार पर आरोप :

बलूचों के प्रमुख नेता अहमद वकास गोराया ने इमरान सरकार पर आरोप लगाते हुए कहा है कि, "सरकार के अधिकारियों ने देश हिस्सों में जूम को ब्लॉक किया है जिससे पाकिस्तानी नागरिक इस कॉन्फ्रेंस से न जुड़ पाएं। गोराया के अनुसार, जल्द इस कॉन्फ्रेंस का वीडियो जारी किया जाएगा। इसके अलावा पाक सरकार ने अभी तक से इस प्रतिबंध को लागू करने की कोई अन्य आधिकारिक वजह नहीं बताई हैं।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर ।

Raj Express
www.rajexpress.co