Raj Express
www.rajexpress.co
Call Ringing Duration
Call Ringing Duration|Kavita Singh Rathore -RE
व्यापार

रिलायंस Jio द्वारा रिंग ड्यूरेशन पर लिए फैसले से मचा बवाल

रिलायंस Jio द्वारा रिंग ड्यूरेशन की समय अवधि को घटाए जाने पर टेलिकॉम इंडस्ट्री में बवाल मच गया है। सभी Jio कंपनी द्वारा लिए गए इस फैसले से नाराज है, कंपनियों का कहना है, फिर हम भी हो जाएंगे मजबूर।

Kavita Singh Rathore

Kavita Singh Rathore

हाइलाइट्स :

  • Jio ने रिंग ड्यूरेशन 30 सेकंड से घटा कर 25 सेकंड किया

  • अन्य टेलीकॉम कंपनियों ने जताया एतराज

  • एयरटेल ने TRAI को लिखा पत्र

  • TRAI ने मांगी राय

राज एक्सप्रेस। आप जब भी किसी को कॉल करते है, तो आपको कुछ समय तक रिंग सुनाई (रिंग ड्यूरेशन) देती है, शायद आपने कभी ध्यान न दिया हो, क्योंकि आपका ध्यान उस रिंग (Call Ringing Duration) की वजह इस पर होता है कि, कब सामने वाला कॉल अटैंड करेगा। चलिए, हम आपको बताते है, कॉल अटैंड होने से पहले जो रिंग बजती है, उसका समय 30 सेकंड होता है, लेकिन रिलायंस Jio कंपनी के मालिक मुकेश अंबानी ने इस समय को 30 सेकंड से घटा कर 25 सेकंड करने का फैसला ले लिया है। इस फैसले से टेलिकॉम इंडस्ट्री में विवाद शुरू हो गया है।

क्यों हो रहा है विवाद :

इस मुद्दे पर, टेलिकॉम कंपनी एयरटेल का कहना है कि, यदि Jio कंपनी इस टाइम को 25 सेकंड करेगी तो मजबूरन हमे भी इस समय को और अधिक घटा कर 20 सेकंड करना पड़ेगा। इस समय अवधि को घटाने से जिस कंपनी के उपभोगता द्वारा कॉल की जाएगी, किसी कंडीशन में कॉल न उठाये जाने पर या कॉल मिस्ड हो जाने पर मिस्ड कॉल्स की संख्या में वृद्धि होती है, उस कंपनी को इसके लिए ज्यादा भुगतान करना होगा और ऐसे में Jio के नेटवर्क पर ज्यादा रिटर्न कॉल्स आती हैं। यही कारण है कि, बाकि की टेलिकॉम कंपनियां एयरटेल और वोडाफोन आइडिया इस फैसले का विरोध कर रही हैं। इन कंपनियों का कहना है कि, यह समय अवधि कम से कम 30 सेकंड की होनी ही चहिये।

एयरटेल ने की TRAI से शिकायत :

एयरटेल कंपनी ने TRAI को एक लेटर लिखा है, जिसमे उसने Jio कंपनी द्वारा अपनी मनमानी करने की बात कही है, एयरटेल कंपनी ने इस लेटर में यह भी कहा है कि, अगर रिलायंस जिओ अपनी मनमानी कर इस समय अवधि को 30 सेकंड से काम करेगी तो, हमे इस समय अवधी को और कम करके 20 सेकंड करना ही पड़ेगा। एयरटेल का मानना है कि, Jio कंपनी इस रिंग ड्यूरेशन को इसलिए कम कर रही है, ताकि वह इंटरकनेक्शन यूजेज चार्ज को तय करने में अपनी मनमानी कर अपने हिसाब से तय कर सके।

एयरटेल का दावा :

एयरटेल कंपनी दवा कर रही है कि, अन्य सभी टेलिकॉम कंपनियों की टक्कर में Jio कंपनी को अपने इंटरकनेक्शन यूजेज चार्ज पेआउट को कम करने में मदद मिलती है। इस पर Jio कंपनी ने एयरटेल द्वारा लगाए गए आरोप का खंडन करते हुए बताया कि, कॉल लगने की समय अवधि (कॉल ड्यूरेशन) 15-20 सेकंड होना ग्लोबल स्टैंडर्ड के मुताबिक सही है।

ट्राई के साथ हुई बैठक में हुआ तय :

बीतें दिनों 6 सितंबर को ट्राई और कई टेलिकॉम कंपनियों (एयरटेल, वोडाफोन, बीएसएनएल और एमटीएनएल) की एक बैठक हुई थी। इस बैठक में कॉल ड्यूरेशन पर भी बात हुई थी जिसमे यह समय अवधि 30 सेकंड ही रखे जाने की बात कही थी, जो कंज्यूमर और नेटवर्क परफॉर्मेंस दोनों के हित में है, लेकिन इस पर Jio कंपनी का कहना है कि, वह इस कॉल ड्यूरेशन को 25 सेकंड ही रखना चाहता है, क्योंकि कॉल का जवाब देने के लिए 20 सेकंड का वक्त काफी है और कॉल ड्यूरेशन के लंबा होने से स्पेक्ट्रम रिसोर्सेज की बरबादी होती है।

TRAI ने मांगी राय :

इस मुद्दे को लेकर चल रहे विवाद के चलते TRAI ने अधिकतम रिंग ड्यूरेशन के लिए टेलिकॉम कंपनियों की राय मांगी है, इसके तहत TRAI ने 'Duration of alert for the called party' नाम का एक डिस्कशन पेपर भी तैयार किया है। इसके द्वारा TRAI ने आपसी सहमती से इस मुद्दे पर जल्द ही फैसला लेने को कहा है।