टेलीकॉम कंपनियां दे सकती हैं मोबाइल यूजर्स को तगड़ा झटका, महंगी पड़ेंगी बातें
टेलीकॉम कंपनियां दे सकती है मोबाइल यूजर्स को तगड़ा झटकाSyed Dabeer Hussain - RE

टेलीकॉम कंपनियां दे सकती हैं मोबाइल यूजर्स को तगड़ा झटका, महंगी पड़ेंगी बातें

टेलिकॉम कंपनियों ने अपने टैरिफ प्लान्स की कीमतों को बढ़ाने का फैसला किया है। जिसके बाद महंगाई के इस दौर में आपको मोबाईल चलाना भी महंगा पड़ने वाला है।

राज एक्सप्रेस। भारत में रिलयांस Jio की एंट्री के बाद से ही इंटरनेट की सेवाएं और कालिंग की सुविधा बहुत ही सस्ती हो गई है। जहां पहले महीने भर के लिए यूजर्स को 1GB डाटा मिलता था। वहीं अब 1.5GB डाटा यूजर्स को एक दिन का मिलता है। हालांकि बीच में टेलिकॉम कंपनियों ने अपने प्लान्स की कीमतों में थोड़ी बढ़ोतरी की थी, लेकिन उसके बाद से यह कीमतें स्थिर रहीं। वहीं, अब टेलिकॉम कंपनियों ने अपने टैरिफ प्लान्स की कीमतों को बढ़ाने का फैसला किया है। जिसके बाद महंगाई के इस दौर में आपको मोबाईल चलन भी महंगा पड़ने वाला है।

बढ़ जाएंगी टैरिफ प्लान्स की कीमतें :

दरअसल, टेलिकॉम कंपनियों ने अपने टैरिफ प्लान्स की कीमतों को बढ़ाने का फैसला लिया है। हालांकि, कंपनियों ने अभी यह नहीं बताया है कि, उनके टैरिफ प्लान की कीमतें कब से बधाई जाएंगी, लेकिन इन्वेस्टमेंट इनफार्मेशन एंड क्रेडिट रेटिंग एजेंसी (ICRA) की रिपोर्ट के अनुसार आगामी 1 अप्रैल से यह कीमतें बढ़ सकती है। इसी रिपोर्ट के अनुसार, टेलिकॉम कंपनियां वित्त वर्ष 2021-22 में अपने रेवेन्यू को बढ़ाने के लिए यह कीमतें बढ़ने जा रही हैं। वर्तमान समय में भारत की सभी बड़ी टेलिकॉम कंपनियां जैसे Airtel, रिलयांस Jio, BSNL और Vi अपने मौजूदा टैरिफ प्लान में बढ़ोतरी करने की तैयारी कर रही हैं।

कंपनियां दे रही हैं संकेत :

बताते चलें, टेलिकॉम कंपनियों ने अपने टैरिफ प्लान की कीमतों को बढ़ने के संकेत देना भी शुरू कर दिया है। इसी कड़ी में वोडाफोन- आइडिया (Vi) ने हाल ही में संकेत दिया था कि, आने वाले कुछ दिनों में कंपनी अपने टैरिफ प्लान में बढ़ोतरी कर सकती है। जिसके लिए तैयारियां लगभग पूरी हो चुकी हैं। वहीं यदि इन्वेस्टमेंट इनफार्मेशन एंड क्रेडिट रेटिंग एजेंसी (ICRA) की रिपोर्ट की मानें तो, ICRA को उम्मीद है कि, Tariff में इजाफा करने से एवरेज रेवेन्यू पर यूजर प्रति ग्राहक औसत राजस्व (ARPU) में सुधार होने की पूरी उम्मीद है। जिससे यह साल के बीच तक लगभग 220 रुपये हो सकता है। ऐसा होने पर अगले 2 साल में इंडस्ट्री का रेवेन्यू 11% से 13% और वित्त वर्ष 2022 में आपरेटिंग मार्जिन करीब 38% बढ़ेगा।

कब बढ़ी थी आखिरी बार टैरिफ प्लान की कीमतें :

बताते चलें कि, यदि इस आगामी 1 अप्रेल को टैरिफ प्लान की कीमतों में बढ़ोतरी की गई तो, इस बार से पहले आखिरी बार टैरिफ प्लान की कीमतों में 2019 में बढ़ोतरी की गई थी। टेलीकॉम कंपनियों ने 2019 के दिसंबर माह में टैरिफ प्लान की कीमतें बढ़ाई थीं।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

No stories found.
Raj Express
www.rajexpress.co