Amazon Founder Jeff Bezos
Amazon Founder Jeff Bezos|Priyanka Sahu -RE
व्यापार

भारत दौरे पर Amazon फाउंडर: हो रहा जबरदस्त विरोध-प्रदर्शन

दुनिया के सबसे अमीर व्‍यक्ति व Amazon के फाउंडर जेफ बेजोस के भारत दौरे आने का व्यापारिक संगठनों द्वारा जोरदार विरोध हो रहा है, जानिए क्‍या है इस विरोध-प्रदर्शन का कारण?

Priyanka Sahu

Priyanka Sahu

हाइलाइट्स :

  • भारत दौरे पर आए Amazon के फाउंडर जेफ बेजोस

  • दुनिया के सबसे अमीर व्‍यक्ति जेफ बेजोस के खिलाफ विरोध

  • दिल्‍ली में 'अमेजन संभव' कार्यक्रम में हुए शामिल

  • देशभर के विभिन्न राज्यों के लगभग 300 शहरों में प्रदर्शन

  • बेजोस की कुल संपत्ति 116 बिलियन डॉलर यानी 8.20 लाख करोड़

राज एक्सप्रेस। ऑनलाइन शॉपिंग के लिए कुछ जानी-मानी साइट्स होती हैं, उसी में से एक ई-वाणिज्य कंपनी Amazon और इसके फाउंडर जेफ बेजोस है, जिनका नाम दुनिया के सबसे अमीर व्यक्तियों में भी शामिल है, जो इन दिनों भारत के दौरे पर है, लेकिन उनके इस दौरे का जबरदस्त विरोध हो रहा है।

जेफ बेजोस की उद्यमियों से बातचीत :

दरअसल, Amazon के फाउंडर जेफ बेजोस ने भारत आने के बाद 15 जनवरी को छोटे एवं मझोले उद्यमियों के साथ व्‍यापार में जोखिम उठाए जाने को लेकर खुलकर बातचीत के साथ ही अंतरिक्ष क्षेत्र में अपने उद्यम योजना की भी चर्चा की।

अमेजन संभव कार्यक्रम में जेफ बेजोस की प्रतिक्रिया :

भारत में 'जेफ बेजोस' ने राजधानी दिल्‍ली में हुए 'अमेजन संभव' कार्यक्रम के दौरान बातचीत में अपने विचार व्‍यक्‍त कर कहा कि, "व्यवसाय में प्रयोग के दौरान विफलता कई बार नई चीजों को जन्म देती है, लेकिन उन्होंने यह भी कहा कि परिचालन का काम उत्कृष्ट होना चाहिए और इसमें विफलता से बचना चाहिए। विफलता कोई भी पसंद नहीं करता, लोग उस समय भी विफल नहीं होना चाहते जब उन्हें पता होता है कि, विफल होना जरूरी और अच्छा है क्योंकि इससे शर्मिंदगी होती है।"

इसके अलावा Amazon के फाउंडर जेफ बेजोस का यह कहना भी है कि, "कई बार हमें लगता है कि हमारा विचार अच्छा है, लेकिन कोई उसकी ओर आकर्षित नहीं होता। एक कामयाबी, एक विजेता दर्जनों नाकामियों की भरपाई कर देता है।"

क्‍यों हो रहा बेजोस के भारत दौर का विरोध?

दरअसल, जेफ बेजोस के भारत दौरे का विरोध खुदरा कारोबारियों के संगठन कॉन्फ़ेडरेशन ऑफ़ आल इंडिया ट्रेडर्स (कैट) की अगुवाई में देशभर के विभिन्न राज्यों के कई व्‍यापारी संगठन ने भारत में Amazon के विस्‍तार का विरोध किया। संगठन का कहना है कि, भारी छूट देकर Amazon भारत के विदेशी निवेश नियमों की धज्जियां उड़ा रहा है। वहीं संगठन कैट के मुताबिक, Amazon के फाउंडर का यह भारत दौरा सरकार को भरमाने की उनकी योजना का हिस्सा है।

जेफ बेजोस वापिस जाओ के लगे नारे :

देश के विभिन्न राज्यों के लगभग 300 शहरों में बुधवार को व्यापारियों ने जबरदस्त विरोध-प्रदर्शन करते हुए 'जेफ़ बेजोस वापिस जाओ, अमेजन वापिस जाओ' के नारे लगाए एवं इस प्रदर्शन में 5000 से भी अधिक व्यापारिक संगठनों के लगभग 5 लाख व्यापारी एकजुट होकर भारत के व्यापार में Amazon की अनैतिक व्यापारिक नीतियों का जमकर विरोध किया।

इतना ही नहीं, जेफ़ बेजोस द्वारा भारत में एक बिलियन डॉलर के निवेश करने पर भी कैट के राष्ट्रीय महामंत्री प्रवीन खंडेलवाल ने टिप्पणी करते हुए यह कही-

यह निवेश नहीं है, बल्कि प्रमोशनल वित्त है जो भारत के रिटेल व्यापार को तहस-नहस करने के काम आएगा और अमेजन इंडिया जमकर अब लागत से भी कम मूल्य पर माल बेचेगी और ज्यादा भारी डिस्काउंट देगी। अब भारत की FDI पॉलिसी का ओर अधिक उल्लंघन करेगी।
प्रवीन खंडेलवाल

अमेजन के खिलाफ जांच के आदेश :

वहीं, भारतीय प्रतिस्पर्धा आयोग (CCI) ने बिक्री मूल्य में भारी छूट व पसंदीदा विक्रेताओं के साथ गठजोड़ समेत दिल्ली व्यापार महासंघ की कई अन्य आरोपों को लेकर Amazon के खिलाफ जांच किए जाने का आदेश दिया है। इसी के साथ यह जानकारी भी आपको देते चलें कि, सिर्फ Amazon ही नहीं बल्कि जांच के इस दायरे में Flipkart भी है।

बताते चलें कि, भारत आने के बाद Amazon के फाउंडर जेफ बेजोस ने सबसे पहले दिल्ली के राजघाट पहुंचे और यहां महात्मा गांधी मेमोरियल का दौरा कर बापू को श्रद्धांजलि अर्पित की, हालांकि ऐसा कहा जा रहा है कि, वह अपनी इस यात्रा के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाकात कर सकते हैं।

कब हुई थीं Amazon कंपनी की शुरुआत

जानकारी के लिए यह बात भी बता दें कि, जेफ बेजोस ने 16 जुलाई, 1995 को अपनी एक कंपनी Amazon की शुरुआत की थी, जो आज के समय में दुनिया की सबसे बड़ी ई-कॉमर्स कंपनियों में शुमार है। हैरानी की बात है कि, वह एक साल में 62,431 करोड़ रुपए गंवा देने के बाद भी उनका नाम दुनिया के सबसे अमीर व्यक्ति में आता है और अगर उनकी संपत्ति की बात करें, तो कुल संपत्ति 116 बिलियन डॉलर यानी 8.20 लाख करोड़ के आस-पास है।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Raj Express
www.rajexpress.co