नीरव मोदी के भारत प्रत्यर्पण को मिली ब्रिटेन के गृह मंत्रालय की मंजूरी
नीरव मोदी के भारत प्रत्यर्पण को मिली ब्रिटेन के गृह मंत्रालय की मंजूरीKavita Singh Rathore -RE

नीरव मोदी के भारत प्रत्यर्पण को मिली ब्रिटेन के गृह मंत्रालय की मंजूरी

नीरव मोदी के भारत प्रत्यर्पण मामले में लंदन की अदालत ने उसकी अपील खारिज करते हुए अंतिम फैसला सुनाया था। वहीं, नीरव मोदी के भारत प्रत्यर्पण को ब्रिटेन के गृह मंत्रालय से भी मंजूरी मिल गई है।

राज एक्सप्रेस। पंजाब नेशनल बैंक से सामने आये बड़े घोटाले का मुख्य आरोपी हीरा कारोबारी नीरव मोदी जिसे भारत द्वारा भगोड़ा घोषित कर दिया गया था, उसे 19 मार्च, 2019 को लंदन में पकड़ा गया था। वह तब से वहीं की जेल में बंद है और उस पर लंदन में ही केस चल रहा था। वहीं इसी साल फरवरी में नीरव मोदी के भारत प्रत्यर्पण मामले में लंदन की अदालत ने उसकी अपील खारिज करते हुए अंतिम फैसला सुनाया था। इस फैसले के तहत उस भारत आने के निर्देश दिए गए थे। वहीं, नीरव मोदी के भारत प्रत्यर्पण को ब्रिटेन के गृह मंत्रालय से भी मंजूरी मिल गई है।

गृह मंत्रालय से मिली मंजूरी :

दरअसल, PNB घोटाले में मुख्य आरोपी नीरव मोदी की ब्रिटेन की अदालत (वेस्टमिन्सटर कोर्ट) में फरवरी में हुई सुनवाई के बाद उसका भारत आना लगभग तय हो गया था, लेकिन तब भी उसके प्रत्यर्पण को ब्रिटेन के गृह मंत्रालय से मंजूरी मिलना बाकि था, लेकिन अब ब्रिटेन के गृह मंत्रालय से मिली मंजूरी के बाद नीरव मोदी का भारत आना 100% तय हो गया है। इस मामले में जज सेमुअल गूजी ने फैसला सुनाया था।

नीरव मोदी को भारत में मिलेगा इंसाफ - कोर्ट :

नीरव मोदी के प्रत्यर्पण मामले में जज सेमुअल गूजी ने फैसला सुनाते हुए कहा था कि, 'नीरव मोदी को भारत में चल रहे केस में जवाब देना होगा। क्योंकि, नीरव मोदी के खिलाफ पर्याप्त सबूत हैं। नीरव मोदी को भारत भेजा जाता है तो ऐसा नहीं है कि उन्हें वहां इंसाफ न मिले।' बताते चलें, इस मामले की कानूनी लड़ाई लगातार 2 साल तक चलने के बाद अब अंतिम फैसला आया है। नितव मोदी घोटाला सामने आने के बाद जनवरी 2018 में देश छोड़कर भाग गया था।

नीरव मोदी की सभी दलीलें खारिज :

कोर्ट ने नीरव मोदी के मामले में हो रही सुनवाई में उसके तरफ से सी गई मानसिक स्थिति ठीक न होने की दलील को भी खारिज करते हुए कहा कि, 'ऐसा नहीं लगता उन्हें ऐसी कोई परेशानी है। मुंबई की ऑर्थर रोड जेल की बैरक नंबर-12 को नीरव एक दम फिट है। बता दें, नीरव मोदी पर मनी लॉन्ड्रिंग, सबूतों से छेड़छाड़ और गवाहों को डराने की साजिश करने के आरोप है।

कोर्ट ने कहा :

कोर्ट ने कहा है कि, 'नीरव मोदी बैरक नंबर-12 में पूरी तरह से सेफ रहेंगे। नीरव की दलील थी कि उसकी मानसिक हालत ठीक नहीं है और अगर उसे भारत भेजा जाता है, तो वो सुसाइड कर लेगा। इस पर भी कोर्ट ने कहा कि बैरक नंबर-12 में नीरव के सुसाइड करने के चांस नहीं हैं, क्योंकि वहां उनकी हेल्थ का पूरा ख्याल रखा जाएगा।'

प्रिजन डिपार्टमेंट ने बताया :

प्रिजन डिपार्टमेंट ने बताया था कि, नीरव मोदी को जहां रखा जाएगा, वो जगह हाई सिक्योरिटी वाली होगी और वहां उसे मेडिकल फैसिलिटी भी मिलेगी। अगस्त 2020 में वेस्टमिंस्टर कोर्ट ने बैरक नंबर-12 का वीडियो भी देखा था। इसके बाद ही कोर्ट ने नीरव मोदी को भारत लाने की मंजूरी दी।

पंजाब नेशनल बैंक (PNB) घोटाले के दोषी :

ज्ञात हो, पंजाब नेशनल बैंक घोटाला 13 हजार करोड़ रुपए से ज़्यादा रूपये के घोटाले का मामला है जो, बैंक की मार्केट वैल्यू का क़रीब एक-तिहाई और साल 2017 की आख़िरी तिमाही के मुनाफ़े का 50 गुना था। ये घोटाला मुंबई की एक ब्रांच से गलत ट्रांसेक्शन के द्वारा किया गया था। इस घोटाले में मुख्य तौर पर 2 डायमंड कंपनियों के मालिक नीरव मोदी का नाम सामने था साथ ही गीतांजलि जेम्स लिमिटेड कंपनी के प्रमुख मेहुल चौकसी का नाम भी इस मामले से जुड़ा था।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

No stories found.
Top Hindi News Bhopal,Trending, Latest viral news,Breaking News - Raj Express
www.rajexpress.co