Share Maket
Share Maket Raj /ex

समझिए सात हफ्ते से जारी तेजी पर क्यों लगा ब्रेक ? NSE मिडकैप में 44 और स्माल कैप में 54% तेजी

7 हफ्ते से बाजार में जारी तेजी पर बीते सप्ताह के अंतिम दो दिनों में ब्रेक लग गया है। शेयर बाजार के विशेषज्ञों का मानना है कि यह गिरावट का अस्थाई दौर है।

हाईलाइट्स

  • कई अनुकूल वजहों से इस साल शेयर बाजार में देखने को मिली तेजी।

  • निफ्टी मिडकैप व स्माल कैप में विशेष रूप से देखने को मिली बढ़त।

  • निफ्टी-50 और सेंसेक्स ने हाल ही में नया आल टाइम हाई बनाया है।

राज एक्सप्रेस। पिछले सात हफ्ते से बाजार में जारी तेजी पर बीते सप्ताह के अंतिम दो दिनों में ब्रेक लग गया। शेयर बाजार के विशेषज्ञों का मानना है कि यह गिरावट का अस्थाई दौर है। बाजार में निवेशकों द्वारा की गई प्राफिट बुकिंग की वजह से गिरावट आई है। जल्दी ही यह दौर खत्म हो जाएगा और बाजार फिर से तेजी पकड़ लेगा। देश की विकासमान अर्थव्यवस्था, मुद्रास्फीति सीमा में रहने, विदेशी निवेश बढ़ने, जीडीपी के उम्मीद से बेहतर आंकड़े शेयर बाजार को आगे बढ़ाने वाले अहम कारण रहे हैं। इस दौरान सभी सेक्टोरल इंडेक्स ने अच्छी बढ़त देखने को मिली है। इस दौरान निफ्टी मिडकैप और स्माल कैप में विशेष रूप से बढ़त देखने को मिली है। निफ्टी मिडकैप-100 में इस साल अब तक 44 फ़ीसदी की तेजी देखने को मिली है। जबकि, निफ्टी स्मॉल कैप-100 में 54 फ़ीसदी तेजी है।

इस साल अच्छा प्रदर्शन कर रहा शेयर बाजार

शेयर बाजार इस साल अच्छा प्रदर्शन कर रहा है। निफ्टी ने हाल ही में 21,593.00 अंक का नया हाई बनाया है। जबकि बीएसई सेंसेक्स 71,913.07 के नए स्तर को छूकर लौट चुका है। नवंबर और दिसंबर में भारत में निवेशकों के सेंटीमेंट की वजह से शेयर बाजार में काफी तेजी दर्ज की गई है। इस साल देश में 58 आईपीओ लांच किए गए, जिन्होंने बाजार में 48000 करोड रुपए की कमाई की है। यह शेयर बाजार में निवेशकों की बढ़ती दिलचस्पी का प्रमाण है। इसके मुकाबले पिछले साल 40 आईपीओ लांच किए गए थे, लेकिन उनके माध्यम से कुल 64000 करोड रुपए की पूंजी एकत्र की गई थी।

निफ्टी ने इस साल अब तक 18 फ़ीसदी का रिटर्न दिया

निफ्टी ने साल 2023 में अब तक 18 फ़ीसदी का रिटर्न दिया है। कैलेंडर वर्ष 2023 में मिडकैप और स्मॉल कैप में शानदार तेजी देखने को मिली है। निफ्टी मिडकैप-100 44 फ़ीसदी ऊपर है, जबकि निफ्टी स्मॉल कैप-100 में 54 फ़ीसदी की तेजी देखने को मिली है। इस साल पीएसयू, रियल्टी, ऑटो और पावर, डिफेंस, शिपिंग, फर्टिलाइजर सेक्टरों में निवेशकों ने विशेष रूप से दिलचस्पी दिखाई है। सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों ने भी इस साल अच्छा प्रदर्शन किया है। पीएसयू बैंकों ने निजी बैंकों को पीछे कर दिया है।

बीएसई-एनएसई ने पार की 4 ट्रिलियन मार्केट कैप की सीमा

शेयर बाजार में जो तेजी देखने को मिली है, उसकी वजह से बीएसई पर लिस्टेड कंपनियों का मार्केट कैप 4 ट्रिलियन डॉलर की सीमा को पार कर गया है।इसके बाद एनएसई ने भी चार ट्रिलियन की सीमा को छू लिया है। मार्केट कैप के मामले में नेशनल स्टॉक एक्सचेंज ने हांगकांग के स्टॉक एक्सचेंज को पीछे ढकेल कर दुनिया का सातवां सबसे बड़ा स्टॉक एक्सचेंज होने का खिताब हासिल कर लिया है। शेयर बाजार के विशेषज्ञों का मानना है कि भारतीय अर्थव्यवस्था जिस गति से विकास कर रही है, उसे देखते हुए उम्मीद की जा सकती है कि मौजूदा करेक्शन एक अस्थाई गतिरोध है, और यह ज्यादा दिनों तक जारी नहीं रहेगा।

डिस्क्लेमरः यह आलेख शेयर बाजारों के विशेषज्ञों से बातचीत के आधार पर लिखा गया है। शेयर बाजार में ट्रेडिंग अत्यन्त जोखिम का काम है। इस लिए अपने निवेश सलाहकार की राय से ही शेयर बाजार में निवेश करें।

ताज़ा समाचार और रोचक जानकारियों के लिए आप हमारे राज एक्सप्रेस वाट्सऐप चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। वाट्सऐप पर Raj Express के नाम से सर्च कर, सब्स्क्राइब करें।

Related Stories

No stories found.
logo
Raj Express | Top Hindi News, Trending, Latest Viral News, Breaking News
www.rajexpress.co