गूगल पे से विदेश में भी कर सकेंगे यूपीआई पेमेंट, गूगल ने NPCI के साथ किया समझौता

देश में डिजिटल पेमेंट को प्रोत्साहित करने के लिए एनपीसीआई लगातार प्रयास कर रहा है। भारत में डिजिटल भुगतान एक रोजमर्रा की जरूरत बन गया है।
Popularity of UPI payment is increasing
Popularity of UPI payment is increasingRaj Express

हाईलाइट्स

  • हाल के दिनों में यूपीआई की लोकप्रियता तेजी से विदेश में भी फैल रही है

  • डिजिटल पेमेंट को बढ़ावा देने के लिए गूगल पे ने NPCI के साथ किया करार

  • समझौते के बाद अब विदेश में भी गूगल पे के जरिये कर सकेंगे यूपीआई पेमेंट

राज एक्सप्रेस । देश में डिजिटल पेमेंट को प्रोत्साहित करने के लिए एनपीसीआई लगातार प्रयास कर रहा है। भारत में डिजिटल भुगतान एक रोजमर्रा की जरूरत बन गया है। भारत की यूपीआई भुगतान प्रणाली की पूरी दुनिया में सराहना की जा रही है। कई देशों ने अपने देश में यूपीआई पेमेंट प्रणाली शुरू करने में दिलचस्पी दिखाई है। जल्दी ही दुनिया के कई देशों में यूपीआई के जरिए भुगतान शुरू किया जा सकता है। यूपीआई पेमेंट को प्रोत्साहित करने के लिए एनपीसी और गूगल के बीच समझौता किया गया है।

गूगल इंडिया डिजिटल सर्विसेज और एनपीसीआई इंटरनेशनल पेमेंट्स लिमिटेड ने भारत के बाहर के देशों में यूपीआई भुगतान का विस्तार करने के लिए भागीदारी के लिए करार किया है। इस करार पर अमल के बाद भारतीय यात्रियों को गूगल पे के जरिये अन्य देशों में भुगतान कर सकेंगे। इसका मतलब यह है कि अब विदेश जाते समय कैश या विदेशी करेंसी ले जाने की समस्या खत्म हो जाएगी। गूगल पे ने अपने बयान में बताया कि इस एमओयू के तीन प्रमुख उद्देश्य हैं। यह भारत के बाहर के यात्रियों के लिए यूपीआई पेमेंट के इस्तेमाल को व्यापक बनाना चाहता है। इससे वह विदेशों में आसानी से लेनदेन कर पाएंगे।

एमओयू का उद्देश्य अन्य देशों में यूपीआई जैसी डिजिटल पेमेंट सिस्टम स्थापित करने में सहायता करना है। यह निर्बाध वित्तीय लेनदेन के लिए एक मॉडल उपसब्ध कराता है। यह यूपीआई बुनियादी ढांचे का उपयोग करके देशों के बीच क्रॉस बॉर्डर फाइनेंशियल एक्सचेंज के प्रोसेस को आसान बनाने पर ध्यान देता है। एनआईपीएल के मुख्य कार्यकारी रितेश शुक्ला ने कहा यह रणनीतिक साझेदारी भारतीय यात्रियों के लिए विदेशी लेनदेन को सरल बनाएगी।

साथ ही हमें एक सफल डिजिटल भुगतान सिस्टम के संचालन के बारे में अपने ज्ञान और विशेषज्ञता को अन्य देशों में फैलाने का अवसर भी उलब्ध कराएगी। यह करार यूपीआई की वैश्विक उपस्थिति को मजबूत करेगा। विदेशी व्यापारियों को भारतीय ग्राहकों तक पहुंच उपलब्ध कराएगा। इसके बाद से डिजिटल भुगतान करने के लिए केवल विदेशी मुद्रा और या क्रेडिट या विदेशी मुद्रा कार्ड पर निर्भर नहीं रहना पड़ेगा। अब लोगों के पास भारत से यूपीआई संचालित ऐप्स का उपयोग करने का विकल्प होगा। जिससे उनके लिए भुगतान बेहद आसान हो जाएगा।

ताज़ा समाचार और रोचक जानकारियों के लिए आप हमारे राज एक्सप्रेस वाट्सऐप चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। वाट्सऐप पर Raj Express के नाम से सर्च कर, सब्स्क्राइब करें।

और खबरें

No stories found.
logo
Raj Express | Top Hindi News, Trending, Latest Viral News, Breaking News
www.rajexpress.co