UPI payment limit will increase
UPI payment limit will increaseRaj Express

10 जनवरी से बढ़ेगी यूपीआई लेनदेन की सीमा, ऑनलाइन किया जा सकेगा 5 लाख तक पेमेंट

नेशनल पेमेंट्स कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया (एनपीसीएल) ने 10 जनवरी 2024 से अस्पतालों और शैक्षिक सेवाओं के लिए यूपीआई लेनदेन की सीमा बढ़ा दी है।

हाईलाइट्स

  • एनपीसीआई ने बैंकों, पेमेंट सर्विस प्रोवाइडर्स को यूपीआई लिमिट बढ़ाने का आदेश दिया।

  • अस्पतालों व शैक्षिक सेवाओं में अब 5 लाख तक का पेमेंट यूपीआई से किया जा सकेगा।

  • सीमा केवल वेरिफाइड मर्चेंट्स पर ही लागू होगी। मर्चेंट्स को यूपीआई शुरू करना होगा।

राज एक्सप्रेस। नेशनल पेमेंट्स कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया (एनपीसीएल) ने 10 जनवरी 2024 से अस्पतालों और शैक्षिक सेवाओं के लिए यूपीआई लेनदेन की सीमा बढ़ा दी है। यूपीआई के नए अपडेट के अनुसार दस जनवरी के बाद 5 लाख रुपये तक का ऑनलाइन पेमेंट किया जा सकेगा। भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) ने पिछले माह निर्देश दिया था कि अस्पतालों और शैक्षिक सेवाओं में अब 5 लाख रुपये तक का पेमेंट यूपीआई के माध्यम से किया जा सकेगा। एनपीसीआई ने बैंकों, पेमेंट सर्विस प्रोवाइडर्स और यूपीआई एप्लिकेशन को लिमिट बढ़ाने का आदेश दिया है।

एनपीसीआई ने बैंकों, पेमेंट सर्विस प्रोवाइडर्स और यूपीआई एप्लिकेशन को लिमिट बढ़ाने का आदेश दिया है। पहले यूपआई की लिमिट एक लाख रुपये ही थी, जो अब बढ़ाकर 5 लाख रुपये हो गई है। यह सीमा केवल वेरिफाइड मर्चेंट्स पर ही लागू होगी। ऐसे में मर्चेंट्स को पेमेंट मोड के रूप में यूपीआई को शुरू करना होगा। इसके साथ ही यूपीआई के एक दिन की लिमिट को बढ़ाकर एक लाख रुपये कर दी है।

आरहूबीआई की मॉनिटरी पॉलिसी कमिटी की दिसंबर में हुई बैठक में आरबीआई ने यूपीआई लिमिट को बढ़ाकर 5 लाख रुपये कर दिया है। इसका लाभ यूपीआई के सभी सहायक ऐप्स जैसे पेटीएम,गूगल पे, फोनपे पर भी सुविधा उपलब्ध होगी। सभी बैंक में भी ग्राहकों को यह सुविधा दा जीएगी। देश में यूपीआई पेमेंट में तेजी देखने को मिली है। वर्ष 2023 तक में यह 100 अरब के पार पहुंच गई। एनपसीआई द्वारा जारी आंकड़ों के अनुसार वर्ष 2022 में लगभग 126 करोड़ यूपीआई पेमेंट हुई थी। वहीं, पिछले साल 2023 में इसकी संख्या में 60 फीसदी की तेजी दर्ज हुई है।

ताज़ा समाचार और रोचक जानकारियों के लिए आप हमारे राज एक्सप्रेस वाट्सऐप चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। वाट्सऐप पर Raj Express के नाम से सर्च कर, सब्स्क्राइब करें।

Related Stories

No stories found.
logo
Raj Express | Top Hindi News, Trending, Latest Viral News, Breaking News
www.rajexpress.co