अमेरिकी लॉ फर्म कराएगी HDFC की जांच, निवेशकों ने खींचे हाथ
अमेरिकी लॉ फर्म कराएगी HDFC की जांच!- Social Media

अमेरिकी लॉ फर्म कराएगी HDFC की जांच, निवेशकों ने खींचे हाथ

“NYSE पर सूचीबद्ध HDFC बैंक की अमेरिकी डिपॉजिटरी रिसीप्ट्स मुकदमे की खबरों की प्रतिक्रिया स्वरूप कल रात 2.8% गिर गईं।”

हाइलाइट्स

  • वाहन लोन का मामला

  • जीपीएस खरीदने बनाया दबाव

  • मुकदमे की खबरों से प्रदर्शन में गिरावट

राज एक्सप्रेस। यह जांच कथित तौर पर उन आरोपों का परिणाम है। जिसमें कहा गया है कि हो सकता है कि एचडीएफसी बैंक ने निवेशकों को भौतिक रूप से भ्रामक जानकारी जारी प्रदान की हो।

रोसेन लॉ –

अमेरिकन लॉ फर्म, रोसेन लॉ ने एचडीएफसी बैंक के शेयरधारकों की ओर से संभावित प्रतिभूतियों के दावों की जांच की घोषणा की है। यह फर्म बैंक के शेयरधारकों की ओर से क्लास एक्शन सूट की तैयारी भी कर रही है।

रोसेन लॉ ने अपनी वेबसाइट पर निवेशकों से एचडीएफसी बैंक लिमिटेड की प्रतिभूतियों को खरीदने संबंधी उनका विवरण देने को कहा है।

साथ ही फर्म ने एचडीएफसी बैंक लिमिटेड प्रतिभूतियों में निवेशकों के नुकसान की वसूली के लिए वर्ग कार्रवाई से संबंधित जांच के बारे में जानकारी जुटाने में भी रुचि दिखाई है।

“द लॉसन लॉ फर्म का एक प्रतिनिधि आपसे बगैर शुल्क संपर्क करेगा और आपको HDFC बैंक लिमिटेड की प्रतिभूतियों में आपकी हानि की खानापूर्ति के बारे में व्यापक जानकारी प्रदान करेगा।”

द लॉसन लॉ फर्म

आरोपों का आधार -

आरोप हैं कि बैंक के प्रतिनिधियों ने उधार लेने वालों पर ऑटो ऋण के साथ जीपीएस उपकरण खरीदने का दबाव बनाया। साथ ही यहां तक जोर देकर कहा गया कि जब तक जीपीएस उपकरण नहीं खरीदे जाएंगे ऋण को मंजूरी नहीं मिलेगी।

इसने बनाया -

इन उपकरणों को मुंबई की फर्म ट्रैकपॉइंट जीपीएस ने बनाया है। इसके प्रति उपकरण की कीमत 18 हजार रुपया बताई जा रही है। मामले की आंतरिक जांच के बाद, बैंक ने कुछ अधिकारियों को बर्खास्त कर दिया था।

बैंक के अधिकारियों के कदाचार को खुद पुरी ने बैंक की वार्षिक साधारण सभा में स्वीकार किया था। इस दौरान उन्होंने कहा था कि कुछ गलत कर्मचारियों की एक विभागीय आंतरिक जांच की गई और उचित कार्रवाई की गई।

जल्द ही, रिपोर्टें सामने आईं कि बैंक ने मामले के संबंध में छह अधिकारियों को बर्खास्त कर दिया है और आरबीआई ने जांच का विवरण मांगा है।

फर्म की जांच और पुरी -

अमेरिकी सुरक्षा फर्म की जांच ऐसे समय में हो रही है जब बैंक के वर्तमान सीईओ आदित्य पुरी को पद पर 26 साल बाद सेवा से सेवानिवृत्त होने में केवल दो महीने बाकी हैं।

सूत्रों के मुताबिक पुरी का कार्यकाल समाप्त होने के बाद नए सीईओ के तौर पर शशिधर जगदीशन का नाम लगभग तय है। एचडीएफसी बैंक ने अमेरिकी फर्म की जांच मामले में कहा है कि जब उचित होगा वे जवाब देंगे।

"हम इस तरह के किसी भी कदम (क्लास एक्शन मुकदमा) से अनजान थे जब तक कि हमने मीडिया से इसके बारे में नहीं सुना था। हम इसका विवरण प्राप्त कर रहे हैं। हम इसकी जांच करेंगे और उचित रूप में इसका जवाब देंगे।"

एचडीएफसी बैंक

तनाव के वक्त -

तनाव के दौर में HDFC बैंक ने आश्चर्यजनक प्रदर्शन किया था। लेकिन इस बार बैंक दिक्कत में नजर आ रहा है। वाहनों के लोन और क्रेडिट ब्यूरो के साथ जानकारी को देर से साझा करने के मामले में बैंक पर आफत के बादल घिर आए हैं।

यूएस-आधारित रोसेन लॉ फर्म और स्कॉल लॉ फर्म ने एचडीएफसी बैंक पर प्रतिभूति धोखाधड़ी के मुकदमे के लिए अलग-अलग जांच की घोषणा करते हुए तर्क दिया है कि ऋणदाता ने निवेशकों को गुमराह किया है।

रोसेन लॉ द्वारा जिन दो मुद्दों को उजागर किया गया था, वे एचडीएफसी बैंक के वाहन ऋणों में अनुचित उधार प्रक्रियाओँ से संबंधित हैं।

मुकदमा चलाने की घोषणा के बाद निवेशकों का भरोसा एचडीएफसी पर से कम हुआ है। न्यूयॉर्क स्टॉक एक्सचैंज में सूचीबद्ध एचडीएफसी बैंक के अमेरिकन डिपॉजिटरी रिसीप्ट्स में कल रात 2.8 फीसद की गिरावट हुई। इसे संकेत माना जा सकता है कि निवेशक बैंक से किनारा कर रहे हैं।

डिस्क्लेमर – आर्टिकल प्रचलित रिपोर्ट्स पर आधारित है। इसमें शीर्षक-उप शीर्षक और संबंधित अतिरिक्त प्रचलित जानकारी जोड़ी गई हैं। इस आर्टिकल में प्रकाशित तथ्यों की जिम्मेदारी राज एक्सप्रेस की नहीं होगी।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

Raj Express
www.rajexpress.co