#VodafoneIdea
#VodafoneIdea |Kavita Singh Rathore -RE
व्यापार

टेलिकॉम कंपनियों पर गिरी AGR की गाज, ट्रेंड कर रहा #VodafoneIdea

सुप्रीम कोर्ट का फैसला आने के बाद टेलिकॉम कंपनियों की मुसीबतें काफी बढ़ती नजर आई क्योंकि, कोर्ट ने कंपनियों को AGR का भुगतान करने के लिए बहुत कम समय दिया है। वहीं, ट्वीटर पर ट्रेंड हो रहा #VodafoneIdea

Kavita Singh Rathore

Kavita Singh Rathore

हाइलाइट्स :

  • टेलिकॉम कंपनियों पर गिरी AGR की गाज

  • कंपनियों को करना होगा एक लाख करोड़ रुपये का भुगतान

  • टेलिकॉम विभाग ने किये टेलिकॉम कंपनियों को नोटिस जारी

  • वोडाफोन आइडिया और एयरटेल को चुकाने होंगे 92 हजार करोड़ रुपए

  • ट्वीटर पर ट्रेंड करता नजर आ रहा #VodafoneIdea

राज एक्सप्रेस। एक तरफ पहले ही टेलीकॉम सेक्टर मंदी की मार झेल रहा, दूसरी तरफ अब सुप्रीम कोर्ट ने टेलीकॉम सेक्टर को लेकर सख्ती दिखाई है। दरअसल, सुप्रीम कोर्ट का फैसला आने के बाद टेलिकॉम कंपनियों की मुसीबतें अब काफी बढ़ती नजर आ रही हैं क्योंकि, कोर्ट द्वारा टेलिकॉम कंपनियों को AGR का भुगतान करने के लिए बहुत कम समय दिया है। AGR के चलते ही सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म ट्वीटर पर #VodafoneIdea हैशटैग ट्रेंड करता नजर आ रहा है।

16 कंपनियों पर गिरी AGR की गाज :

सुप्रीम कोर्ट के इस फैसले के बाद AGR की यह गाज आईडिया-वोडाफोन और एयरटेल सहित 16 कंपनियों पर गिरी है क्योंकि, इन कंपनियों को AGR के लगभग एक लाख करोड़ रुपये का भुगतान टेलिकॉम विभाग को करना पड़ेगा। सुप्रीम कोर्ट के आदेश आने के बाद टेलिकॉम विभाग द्वारा सभी टेलिकॉम कंपनियों को नोटिस जारी कर दिया गया है। सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद अब वोडाफोन आइडिया और भारती एयरटेल को 17 मार्च तक का समय मिला है। इस समय अवधि तक दोनों कंपनियों को सरकार को 92 हजार करोड़ रुपए चुकाने होंगे।

क्यों ट्रेंड कर रहा #VodafoneIdea हैशटैग :

दरअसल, कोर्ट के आदेश आने के बाद सबसे ज्यादा मुसीबत में Vodafone-Idea कंपनी ही है क्योंकि, Vodafone-Idea कंपनी के AGR की रकम सबसे अधिक हैं और कंपनी की तरफ से इस रकम को जुटाने के अभी तक कोई संकेत नजर नहीं आ रहे है। अगर Vodafone-Idea यह रकम नहीं चुका पाई तो, कंपनी बंद भी हो सकती है। कंपनी की स्थिति काफी गंभीर और कमजोर बनी हुई है। Vodafone कंपनी के CEO ने पहले ही साफ़ किया था कि, उनकी भारतीय यूनिट को AGR की रकम से राहत नहीं मिली तो कंपनी का परिचालन करना बहुत ही मुश्किल हो जाएगा। इसी के चलते सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म ट्वीटर पर #VodafoneIdea हैशटैग ट्रेंड करता नजर आ रहा है।

टोटल टेलिकॉम कंपनियां :

आपकी जानकारी के लिए बता दें, वर्तमान में मार्केट में टेलिकॉम सेक्टर में सरकारी कंपनियों में भारत संचार निगम लिमिटेड (BSNL) और MTNL है। इसके अलावा प्राइवेट कम्पनियों में तीन कंपनियां भारती एयरटेल (Bharti Airtel), वोडाफोन आइडिया (Vodafone-Idea) और रिलायंस जियो (Reliance Jio) हैं। आगे की स्थिति यह है कि, यदि वोडाफोन-आईडिया AGR की रकम नहीं चुका पाई तो, परिचालन बंद करने के अलावा कंपनी के पास अन्य कोई रास्ता नहीं बचेगा और ऐसे में टेलिकॉम सेक्टर में दो ही कंपनियों के बचे रह जाने का जोखिम पहले की तुलना में अधिक होता नजर आ रहा है।

कंपनियों का बकाया AGR :

  • वोडाफोन आइडिया का AGR की राशि सबसे अधिक है। जिसमे लाइसेंस फीस 28,309 करोड़ रूपये और एसयूसी 24,729 करोड़ रूपये शामिल है।

  • भारती एयरटेल की AGR की राशि में लाइसेंस फीस 21,882 करोड़ रूपये और एसयूसी 13,904 करोड़ रूपये शामिल है।

  • टाटा टेलीसर्विसेज की AGR की राशि में लाइसेंस फीस 9,987 करोड़ रूपये और एसयूसी 3,836 करोड़ रूपये शामिल है।

  • रिलायंस जियो कंपनी को 60 करोड़ रुपये चुकाना था जो कंपनी अदा कर चुकी है।

बताते चलें कि, टेलिकॉम कंपनियों को रेवेन्यू (AGR) के तौर पर कुछ पैसे सरकार को चुकाने पड़ते है जिसमे स्पेक्ट्रम यूजेज चार्ज और लाइसेंस फीस को शामिल किया जाता है। टेलिकॉम विभाग द्वारा सभी टेलिकॉम कंपनियों को लाइसेंस अग्रीमेंट मिलता है, जिसमें AGR से जुड़े सभी टर्म एंड कंडीशन्स साफ़ तौर पर बताये गए होते हैं। यहाँ देखें ट्वीट्स-

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Raj Express
www.rajexpress.co