पश्चिम रेलवे ने चलाई 891 विशेष पार्सल ट्रेनें
पश्चिम रेलवे ने चलाई 891 विशेष पार्सल ट्रेनेंसांकेतिक चित्र

पश्चिम रेलवे ने चलाई 891 विशेष पार्सल ट्रेनें

पश्चिम रेलवे ने अत्यावश्यक सामग्री की आपूर्ति जारी रखने के लिए अब तक 891 पार्सल विशेष ट्रेनों का परिचालन किया है।

राज एक्सप्रेस। पश्चिम रेलवे ने अत्यावश्यक सामग्री की आपूर्ति जारी रखने के लिए अब तक 891 पार्सल विशेष ट्रेनों का परिचालन किया है। मुख्य जनसम्पर्क अधिकारी सुमित ठाकुर ने सोमवार को यहां जारी विज्ञप्ति में बताया कि पश्चिम रेलवे की विशेष पार्सल ट्रेनें अत्यावश्यक वस्तुओं की आपूर्ति जारी रखने के लिए देशभर में लगातार चलाई जा रही हैं और लॉकडाउन में अभी तक पश्चिम रेलवे ने 891 विशेष पार्सल ट्रेनें चलाई हैं। इसी क्रम में 12 फरवरी को पश्चिम रेलवे के बांद्रा टर्मिनस से जम्मू तवी और राजकोट से कोयम्बटूर के बीच दो विशेष पार्सल ट्रेनें चलाई गईं।

चालू वित्तीय वर्ष में 11 फरवरी 2021 तक माल लदान पिछले वर्ष के 68.02 मिलियन टन की तुलना में 69.36 मिलियन टन रहा है। श्री ठाकुर ने बताया कि 23 मार्च 2020 से 11 फरवरी 2021 तक पश्चिम रेलवे की 891 पार्सल विशेष ट्रेनों के माध्यम से लगभग 2.56 लाख टन वजन के सामान की ढुलाई हुई। जिनमें मुख्य रूप से कृषि उत्पाद, दवाइयाँ, मछली, दूध आदि शामिल हैं। इस परिवहन से लगभग 90 करोड़ रु. के राजस्व की प्राप्ति हुई। इस अवधि के दौरान पश्चिम रेलवे द्वारा 165 मिल्क स्पेशल ट्रेनें चलाई गईं, जिनके जरिये 1.23 लाख टन से अधिक लदान के साथ वैगनों का शत-प्रतिशत उपयोग किया गया।

इसी प्रकार 587 कोविड-19 विशेष पार्सल ट्रेनें 73 हजार टन से अधिक लदान के साथ विविध आवश्यक सामग्री के परिवहन के लिए चलाई गईं। इनके अतिरिक्त 103 इडेंटेड रेकों के शत-प्रतिशत उपयोग के साथ 46 हजार टन की ढुलाई की गई। उन्होंनें कहा कि लॉकडाउन के दौरान पिछले वर्ष 22 मार्च से 11 फरवरी 2021 तक कुल 31,008 मालगाड़ियों के रेकों का उपयोग कर 68.92 मिलियन टन आवश्यक सामग्री की आपूर्ति की गई और अभी तक 36 किसान विशेष ट्रेनों का परिचालन किया है।

डिस्क्लेमर : यह आर्टिकल न्यूज एजेंसी फीड के आधार पर प्रकाशित किया गया है। इसमें राज एक्सप्रेस द्वारा कोई संशोधन नहीं किया गया है।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

AD
No stories found.
Raj Express
www.rajexpress.co