What is RBI Fraud Registry
What is RBI Fraud RegistrySyed Dabeer Hussain - RE

क्या है फ्रॉड रजिस्ट्री ?, कस्टमर्स धोखाधड़ी से बचाने के लिए RBI करेगी तैयार

आज भी बहुत से कस्टमर्स फ्रोड करने वालों की बातों में आ जाते हैं। इस बात को ध्यान में रखते हुए अपने ग्राहकों को धोखाधड़ी से बचाने के लिए RBI ने एक फ्रॉड रजिस्ट्री बनाने पर विचार किया है।

What is RBI Fraud Registry : देश के सभी बैंकों के लिए सभी नियम रिजर्व बैंक ऑफ़ इंडिया (RBI) तय करता है। साथ ही अपने ग्राहकों की सुविधाओं को ध्यान में रखते हुए नियमों में समय-समय पर बदलाव किए जाते रहते है। वहीं, अब जब आजकल देश में ऑनलाइन धोखाधड़ी (Online Fraud) के बहुत मामले सामने आ रहे हैं और इनमें ज्यादातर मामले बैंकों से जुड़े हुए पाए जाते है। क्योंकि, आज भी बहुत से कस्टमर्स फ्रोड करने वालों की बातों में आ जाते हैं। इस बात को ध्यान में रखते हुए अपने ग्राहकों को धोखाधड़ी से बचाने के लिए RBI ने एक फ्रॉड रजिस्ट्री बनाने पर विचार किया है।

क्या है यह फ्रॉड रजिस्ट्री :

बताते चलें, भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) देश में सभी बैंकों में जमा लोगों की पूंजी का रखवाला हैं। क्योंकि, RBI समय-समय पर बैंक ग्राहकों को अलर्ट करता आया है। इसी कड़ी में अब लोगों की मेहनत की कमाई को ऑनलाइन धोखाधड़ी और फर्जी वेबसाइटों से बचाने और ग्राहको की सुरक्षा को मजबूत करने के मकसद से RBI ने ग्राहकों के लिए RBI एक फ्रॉड रजिस्ट्री बनाने पर विचार कर रहा है। जैसा कि, नाम से ही समझ आ रहा है, 'रजिस्ट्री' यह एक ऐसी रजिस्ट्री होगी। जिसमें धोखाधड़ी करने वाली वेबसाइटों, फोन और डिजिटल धोखाधड़ी के लिए उपयोग किए जाने विभिन्न तरीकों का डेटाबेस मौजूद रहेगा। यह फ्रॉड रजिस्ट्री रिजर्व बैंक द्वारा तैयार की जाएगी।

RBI के एग्जीक्यूटिव डायरेक्टर ने दी पूरी जानकारी :

बताते चलें, पिछले दिनों इस फ्रॉड रजिस्ट्री को लेकर RBI के एग्जीक्यूटिव डायरेक्टर अनिल कुमार शर्मा ने इस मामले में पूरी जानकारी देते हुए बताया था कि, 'इस तरह के डेटाबेस (RBI Fraud Registry) से बैंकिंग फ्रॉड रोकने में मदद मिलेगी क्योंकि इन फर्जी वेबसाइटों और फोन नंबरों को ब्लैकलिस्टेड कर दिया जाएगा। फ्रॉड रजिस्ट्री को बनाने के लिए अभी कोई टाइमलाइन नहीं बनाया गया है। वर्तमान में हम पेमेंट और सेटलमेंट और आरबीआई के सुपरविजन जैसे विभिन्न विभागों सहित कई सारे स्टेकहोल्डर्स से बात कर रहे हैं। पेमेंट सिस्टम के प्रतिभागियों को रियल टाइम में फ्रॉड रोकने के लिए इस रजिस्ट्री तक की पहुंच दी जाएगी. कस्टमर्स को आने वाले जोखिमों से बचाने और उसे लेकर जागरूक करने के लिए फ्रॉड से जुड़ा हुआ डेटा भी प्रकाशित किया जाएगा।'

शर्मा ने आगे कहा कि, 'क्रेडिट इंफॉर्मेशन कंपनी (CIC) के ग्राहक रिजर्व बैंक-एकीकृत लोकपाल योजना (RBI-IOS), 2021 के तहत आएंगे। प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) ने पिछले साल बैंकिंग, NBFC और डिजिटल भुगतान प्रणालियों में सेवा की कमियों को दूर करने के लिए एक एकीकृत उपभोक्ता शिकायत निवारण तंत्र शुरू किया था। ग्राहकों को किसी के साथ भी अपनी बैंकिंग डीटेल्स साझा नहीं करनी चाहिए। किसी भी तरह के बैंकिंग फ्रॉड का शिकार होने पर तुरंत ही बैंकों को इस बारे में सूचित करें। इसके साथ ही भविष्य के जोखिमों से बचने के लिए कभी भी अपने फोन या डिवाइस पर अनजान सोर्स से ऐप को डाउनलोड न करें। बैंकिंग सर्विस के लिए हमेशा ऑफिशियल सोर्स का ही इस्तेमाल करें।'

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

No stories found.
| Raj Express | Top Hindi News, Trending, Latest Viral News, Breaking News
www.rajexpress.co