नई पॉलिसी को लेकर WhatsApp का नया बयान, लागू करने की दिशा में बढ़ रही आगे
नई पॉलिसी को लेकर WhatsApp का नया बयानSyed Dabeer Hussain - RE

नई पॉलिसी को लेकर WhatsApp का नया बयान, लागू करने की दिशा में बढ़ रही आगे

इंस्टेंट मेसेजिंग ऐप WhatsApp ने पिछले दिनों अपनी एक नई पॉलिसी को पेश करने की बात कही थी, जिसके बाद पर WhatsApp को लेकर कई विवाद उठ खड़े हुए थे। वहीं, अब कंपनी ने फिर से नया बयान जारी किया है।

राज एक्सप्रेस। दुनियाभर में इस्तेमाल होने वाली लोगों की लोकप्रिय इंस्टेंट मेसेजिंग ऐप WhatsApp ने पिछले दिनों अपनी एक नई पॉलिसी को पेश करने की बात कही थी, जिसके बाद WhatsApp को लेकर कई विवाद उठ खड़े हुए थे। जिसके बाद कंपनी ने उस समय के लिए विचार त्याग दिया था और इस पॉलिसी को मई से लागू करने का फैसला किया था। ताकि तब तक यूजर्स नई पॉलिसी को अच्छे से समझ लें। वहीं, अब शुक्रवार को कंपनी ने फिर से नया बयान जारी किया है।

WhatsApp की सफाई :

इंस्टेंट मेसेजिंग ऐप WhatsApp ने अपनी तरफ से एक बार फिर सफाई देते हुए कहा है कि, 'कंपनी अपने यूजर्स की व्यक्तिगत बातचीत की गोपनीयता की हर हाल में सुरक्षा करेगा। कंपनी ने अपनी इस प्रतिबद्धता के बारे में भारत सरकार को भी जानकारी दे दी है।' बताते चलें, WhatsApp ने यह बात भारत सरकार द्वारा कंपनी से पूछे गए सवाल पर दिया। हालांकि, इसके बावजूद भी यूजर्स तेजी से WhatsApp को छोड़ कर अन्य प्लेटफार्म जैसे Telegram और Signal को अपनाते हुए नजर आये थे।

क्या है नई पॉलिसी :

WhatsApp की नई पॉलिसी के तहत कंपनी ने कहा था कि, वह आपकी जानकारी को अपने अन्य प्लेटफॉर्म Facebook और Instagram पर भी शेयर करेगा। साथ ही यूजर्स की लोकेशन भी ट्रेक की जाएगी। इसके अलावा WhatsApp अपने यूजर्स को पहले 8 फरवरी 2021 तक का समय देते हुए कहा था कि, अगर यूजर्स इस पॉलिसी को एक्सेप्ट नहीं करते तो उनका अकाउंट डिलीट कर दिया जाएगा, लेकिन बाद में यह समय सीमा बढ़ा कर 15 मई 2021 कर दी गई है। हालांकि, इस मामले में WhatsApp ने पहले भी सफाई देते हुए कहा था कि, 'नई पॉलिसी से निजी चैट प्रभावित नहीं होंगी। नई पॉलिसी को लेकर अफवाहें फैलाई जा रही हैं। कंपनी अपने यूजर्स को स्टेटस अपडेट और विज्ञापन के माध्यम से नई पॉलिसी को लेकर लोगों को जागरूक करने का काम कर रही है।'

WhatsApp करेगा सरकार से संवाद :

वहीं, अब WhatsApp ने शुक्रवार को एक और अन्य बयान जारी कर कहा है कि, कंपनी अपनी नई पॉलिसी को लागू करने की दिशा में आगे बढ़ रही है। WhatsApp ने ईमेल के जरिए भाषा को दिए एक बयान में कहा, ‘भ्रामक सूचनाओं और यूजर्स की प्रतिक्रिया के आधार पर हमने WhatsApp की नई सेवा और गोपनीयता नीति को स्वीकार करने की समयसीमा को 15 मई तक के लिए टाल दिया है। इस बीच सरकार के साथ हम संवाद करेंगे। हम सरकार के सवालों का जवाब देने का अवसर पाकर आभारी हैं।’

पॉलिसी को दिया नया रूप :

WhatsApp का कहना है कि, 'कंपनी ने सरकार को व्यक्तिगत बातचीत की गोपनीयता को लेकर अपनी प्रतिबद्धता से अवगत करा दिया है। आने वाले हफ्तों में ऐप में एक बैनर प्रदर्शित किया जाएगा, जो WhatsApp के यूजर्स को अधिक जानकारी देगा। यूजर इसे अपनी गति से पढ़ सकते हैं। इसके अलावा कंपनी ने स्पष्ट किया कि, उसने हलिया विवादित नीति में कोई बदलाव नहीं किया है।' साथ ही बताया है कि, ‘हमने इसे नया रूप दिया है, लेकिन सेवा की शर्तें और गोपनीयता नीति पहले जैसी हैं।’

WhatsApp के खिलाफ जनहित याचिका :

बताते चलें, इसी महीने के शुरूआती दिनों में एक वकील ने WhatsApp की नई प्राइवेसी पॉलिसी के चलते दिल्ली हाई कोर्ट में एक जनहित याचिका भी दायर की थी। जिसमें कहा गया था कि, 'सरकार को WhatsApp की नई प्राइवेसी पॉलिसी के खिलाफ कड़ा कदम उठाना चाहिए, क्योंकि यह संविधान द्वारा दी गई निजता के मौलिक अधिकार के खिलाफ है।' इतना ही नहीं इस मामले में याचिकाकर्ता ने कोर्ट से कहा था कि, 'Facebook के स्वामित्व वाला WhatsApp लोगों की निजी जानकारियों को साझा करना चाहता है, ऐसे में उस पर रोक लगाना जरूरी है।'

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

No stories found.
Raj Express
www.rajexpress.co