wholesale inflation
wholesale inflationRaj Express

दिसंबर में नौ माह के उच्चतम स्तर 0.73% पर पहुंची थोक महंगाई की दर, आंकड़ों ने बढ़ाई लोगोें की चिंता

वाणिज्य मंत्रालय ने आज बीते साल के आखिरी महीने दिसंबर के थोक महंगाई के आंकड़े जारी कर दिए हैं। रिटेल महंगाई के बाद थोक महंगाई दर भी उच्च स्तर पर पहुंच गई है।

हाईलाइट्स

  • महंगाई के मोर्चे पर दिसंबर के महीने ने लोगों को दिया जबर्दस्त झटका

  • खाद्य वस्तुओं में तेजी और कुछ अन्य वजहों से महंगाई में हुई बढ़ोतरी

  • इस माह रिटेल महंगाई दर भी 4 माह के उच्च स्तर पर देखने को मिली थी

राज एक्सप्रेस । वाणिज्य मंत्रालय ने आज बीते साल के आखिरी महीने दिसंबर के थोक महंगाई के आंकड़े जारी कर दिए हैं। महंगाई के मोर्चे पर दिसंबर माह ने तगड़ा झटका दिया है। रिटेल महंगाई के बाद थोक महंगाई दर भी दिसंबर माह में नौ माह के उच्च स्तर पर पहुंच गई है। वाणिज्य मंत्रालय की ओर से जारी आंकड़ों के अनुसार दिसंबर में थोक महंगाई दर (डब्ल्यूपीआई) 0.73% रही है, जो नवंबर में 0.26% थी।

लगातार सात माह तक निगेटिव रहने के बाद नवंबर में थोक महंगाई दर पहली बार पॉजिटिव (0.26%) आई थी। दिसंबर माह में खाद्य वस्तुओं की महंगाई 5.39% रही है, जो नवंबर में 4.69% थी। इसी तरह प्राइमरी आर्टिकल्स की थोक महंगाई 4.76% से बढ़कर दिसंबर में 5.78% पर जा पहुंची है।

दिसंबर माह में बढ़ी थोक महंगाई की दर

  • इस माह में धन और बिजली की महंगाई -4.61% से बढ़कर -2.41% रही है।

  • इस माह प्राइमरी आर्टिकल्स की महंगाई 4.76% से बढ़कर 5.78 % हो गई है।

  • खाद्य महंगाई की दर नवंबर की 4.69% से दिसंबर में बढ़ कर 5.39% हो गई है।

  • मैन्युफैक्चर्ड प्रोडक्ट्स की महंगाई -0.64% से घटकर -0.71% देखने को मिली।

  • सरकार ने बताया किस वजह से दिसंबर में देखने को मिली बढ़ी थोक महंगाई।

कुछ दिन पहले आए थे खुदरा महंगाई के बढ़े हुए आंकड़े

आंकड़े ने सरकार की चिंता बढ़ा दी है। इस पर प्रतिक्रिया करते हुए वाणिज्य मंत्रालय ने कहा कि दिसंबर 2023 में थोक महंगाई में बढ़ोतरी खासतौर पर खाद्य सामग्री के मूल्यों में तेजी, मशीनरी और इक्विपमेंट, मैन्यूफैक्चरिंग, ट्रांसपोर्ट इक्विपमेंट और कंप्यूटर, इलेक्ट्रॉनिक्स और ऑप्टिकल प्रोडक्ट्स की कीमतों में बढ़ोतरी की वजह से देखने को मिली है। पिछले कुछ समय से खाद्य वस्तुओं के मूल्य ऊपर ही ऊपर बने हुए हैं। इसके साथ ही इनपुट बढ़ने की वजह से मशीनरी, उपकरणों, कंप्यूटर और इलेक्ट्रानिक्स और आप्टिकल प्रोडक्ट्स के मूल्यों में वृद्धि देखने को मिली है।

कुछ दिन पहले आए थे खुदरा महंगाई के बढ़े हुए आंकड़े

इसके पहले दिसंबर माह में रिटेल महंगाई के आंकड़े जारी किए गए थे। दिसंबर में खुदरा महंगाई की दर 5.69% पर रही, जो कि 4 माह का उच्चतम स्तर है। महंगाई में बढ़ोतरी खाद्य वस्तुओं की कीमतों में बढ़ोतरी की वजह से आई। नवंबर में सब्जियों की महंगाई 17.7% रही थी। जबकि दिसंबर में यह बढ़कर 27.64% हो गई है। इसकी वजह से खुदरा महंगाई दर में बढ़ोतरी देखने को मिली। पिछले साल नवंबर माह में खुदरा महंगाई 5.55% दर्ज की गई थी, जबकि इससे एक माह पहले अक्टूबर में यह 4.87% रही थी।

ताज़ा समाचार और रोचक जानकारियों के लिए आप हमारे राज एक्सप्रेस वाट्सऐप चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। वाट्सऐप पर Raj Express के नाम से सर्च कर, सब्स्क्राइब करें।

Related Stories

No stories found.
logo
Raj Express | Top Hindi News, Trending, Latest Viral News, Breaking News
www.rajexpress.co