Wipro ने हटाए अयोग्य कर्मचारी
Wipro ने हटाए अयोग्य कर्मचारीSocial Media

Wipro ने हटाए अयोग्य कर्मचारी, 400 से ज्यादा फ्रेशर्स को दिखाया बाहर का रास्ता

लगातार कई दिग्गज कंपनियों द्वारा छंटनी करने की खबर देने के बाद अब यह खबर IT सेक्टर की दिग्गज कंपनी 'विप्रो' (Wipro) द्वारा भी दी गई है। खबर यह है कि, wipro ने भी अपने कर्मचारियों की छंटनी कर डाली है।

Wipro Layoff Worker : आज IT सेक्टर और एजुकेशन सेक्टर से लेकर कई सेक्टर की कंपनियों में छंटनी का ट्रेंड चलता दिख रहा है। ऐसा लग रहा है कि, मानों कंपनियों से छंटनी का यह सिलसिला अभी थमने का मान नहीं लेगा। क्योंकि, एक के बाद एक करके लगातार कंपनियां छंटनी का ऐलान करती ही जा रही है। जबकि कितनी कंपनियां अब तक छंटनी कर चुकी हैं। वहीँ, पिछले दिनों लगातार कई दिग्गज कंपनियों द्वारा छंटनी करने की खबर देने के बाद अब यह खबर IT सेक्टर की दिग्गज कंपनी 'विप्रो' (Wipro) द्वारा भी दी गई है। खबर यह है कि, wipro ने भी अपने कर्मचारियों की छंटनी कर डाली है।

Wipro ने भी कर डाली छंटनी :

दरअसल, बीते कुछ दिनों से लगातार दिग्गज कंपनियों से छंटनी की ही खबरें सामने आरही हैं। इन सभी कंपनियों ने छंटनी कर अपने कर्मचारियों को बाहर का रास्ता दिखा दिया है। facebook, Twitter, Amazon, Google और Swiggy जैसी कई दिग्गज कंपनियों के बाद अब दिग्गज आईटी कंपनी Wipro से भी छटनी की खबर आई है। खबरों की मानें तो, कंपनी ने कुल 450 फ्रेशर्स (नए कर्मचारी) को नौकरी से निकाला है। कंपनी ने इस मामले में एक बयान जारी कर कहा है कि,

'400 से अधिक एंट्री लेवर के कर्मचारियों को निकाल दिया गया है, क्योंकि ट्रेनिंग के बाद भी उनका आंतरिक मूल्यांकन काफी खराब था। हम खुद को उच्चतम मानकों पर रखने में गर्व महसूस करते हैं। मानकों के अनुरूप, हमारा लक्ष्य खुद के लिए निर्धारित करना है, हम प्रत्येक एंट्री लेवर के कर्मचारी से उनके कार्य के निर्दिष्ट क्षेत्र में एक निश्चित स्तर की कुशलता की उम्मीद करते हैं। मूल्यांकन प्रक्रिया में कंपनी के व्यावसायिक उद्देश्यों और हमारे क्लाइंट की आवश्यकताओं के अनुसार कर्मचारियों को कुशल बनाने के लिए आकलन शामिल है. यह व्यापक प्रदर्शन मूल्यांकन प्रक्रिया होती है। हमें 452 फ्रेशर्स को बाहर करना पड़ा क्योंकि उन्होंने प्रशिक्षण के बाद भी बार-बार असेसमेंट में खराब प्रदर्शन किया।

Wipro, IT कंपनी

नुकसान के चलते नहीं की छंटनी :

बताते चलें, अब तक जितनी भी कंपनियों से छंटनी की खबर सामने आई है। उनमे से ज्यादातर कंपनियों ने इस फैसला का कारण नुकसान को बताया था, लेकिन Wipro द्वारा छंटनी का फैसला नुकसान के चलते नहीं बल्कि कर्मचारियों के ख़राब प्रदर्शन के चलते लिया गया है। इस मामले में सामने आई रिपोर्ट की मानें तो, कंपनी द्वारा निकाले गए कर्मचारियों को जानकारी पहले ही दे दी है। साथ ही उन्हें प्रशिक्षण लागत के लिए 75,000 रुपये का भुगतान करने को कहा था हालांकि, कंपनी ने खर्च को "माफ" कर दिया है। Wipro के मुनाफे की बात करें तो, कंपनी का शुद्ध लाभ दिसंबर 2022 तिमाही में 2.8% बढ़ा था।

ताज़ा समाचार और रोचक जानकारियों के लिए आप हमारे राज एक्सप्रेस यूट्यूब चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। यूट्यूब पर @RajExpressHindi के नाम से सर्च कर, सब्स्क्राइब करें।

Related Stories

No stories found.
Raj Express | Top Hindi News, Trending, Latest Viral News, Breaking News
www.rajexpress.co