Gwalior : बच्चे ही नहीं युवा और बुजुर्ग भी कोरोना की चपेट में, 593 मिले नए संक्रमित
ग्वालियर कोरोना बुलेटिनSyed Dabeer Hussain - RE

Gwalior : बच्चे ही नहीं युवा और बुजुर्ग भी कोरोना की चपेट में, 593 मिले नए संक्रमित

ग्वालियर, मध्यप्रदेश : जिले में कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या 3090 पर पहुंच गई है। वहीं शुक्रवार को 3891 कोरोना संदिग्ध मरीजों की जांच में 593 मरीजों को कोरोना होने की पुष्टि हुई है।

ग्वालियर, मध्यप्रदेश। जिले में कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या 3090 पर पहुंच गई है। वहीं शुक्रवार को 3891 कोरोना संदिग्ध मरीजों की जांच में 593 मरीजों को कोरोना होने की पुष्टि हुई है। राहत की बात यह है कि 125 मरीज स्वास्थ्य हो गए हैं। वहीं कोरोना से अब तक दो लोगों की जान गई है। कोरोना की दूसरी लहर के बाद कायस लगाए जा रहे थे कि तीसरी लहर बच्चों के लिए घातक होगी। लेकिन अब तक देखने में आया कि ऐसा नहीं है कि कोविड की चपेट में सिर्फ बच्चे आ रहे हैं। इसमें बच्चे, युवा व बुजुर्ग भी शामिल हैं।

गलत नंबर और पता दिया तो होगी कार्रवाई :

कोरोना संक्रमण के लक्षण होने पर कई लोग जांच तो कराते हैं पर गलत पता और मोबाइल नंबर लिखवा देते हैं। ऐसे व्यक्तियों की रिपोर्ट पाजिटिव आने पर उन्हें तलाशने में काफी परेशानी होती है। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने ऐसे मामलों में प्रकरण दर्ज कराने के निर्देश कलेक्टरों को देते हुए कहा कि ये लोग संक्रमण फैलाने वाले बनेंगे। इनके विरुद्ध सख्त कार्रवाई होनी चाहिए।

जेएएच अधीक्षक डॉ.धाकड़ ने की अपील :

कोरोना संक्रमित मरीजों की बढ़ती हुई संख्या को कोरोना की संभावित तीसरी लहर माना जा रहा है। जेएएच की माधव डिस्पेंसरी में ऐसे मरीजों की संख्या अधिक है। जिसमेंं अस्पताल जाने की आवश्यकता नहीं है। ऐसे लोगों से जेएएच अधीक्षक डॉ.आरकेएस धाकड़ ने अपील की है कि वर्तमान स्थिति को देखते हुए अस्पताल में सिर्फ गंभीर बीमारी होने पर ही आएं। अनावश्यक रूप से भीड़ का हिस्सा ना बनें, क्योंकि अस्पताल में आने वाला कौन सा मरीज या व्यक्ति संक्रमित है। यह हमें और आपको नहीं पता। इसलिए इस कोविड-19 जैसी बीमारी से बचने के लिए कोविड नियमों का पालन करें और अनावश्यक रूप से घर से बाहर न निकलें। जिन गर्भवती महिलाओं का डिलेवरी का समय नजदीक है। वह अपनी आरटीपीसीआर की जांच करा लें। इससे की अस्पताल में भर्ती होते समय जांच न कराना पड़े और रिपोर्ट का इंतजार नहीं करना पड़े। इससे आपका समय बचेगा साथ ही कोरोना संक्रमण का खतरा कम होगा।

संक्रमण की रफ्तार पर एक नजर :

  • 01 जनवरी को 3410 सेम्पल 06 संक्रमित 14 एक्टिव केस

  • 02 जनवरी को 2011 सेम्पल 09 संक्रमित 23 एक्टिव केस

  • 03 जनवरी को 2446 सेम्पल 22 संक्रमित 45 एक्टिव केस

  • 04 जनवरी को 2372 सेम्पल 58 संक्रमित 103 एक्टिव केस

  • 05 जनवरी को 3382 सेम्पल 87 संक्रमित 189 एक्टिव केस

  • 06 जनवरी को 3442 सेम्पल 142 संक्रमित 330 एक्टिव केस

  • 07 जनवरी को 2893 सेम्पल 111 संक्रमित 435 एक्टिव केस

  • 08 जनवरी को 4082 सेम्पल 280 संक्रमित 702 एक्टिव केस

  • 09 जनवरी को 5379 सेम्पल 291 संक्रमित 989 एक्टिव केस

  • 10 जनवरी को 4079 सेम्पल 298 संक्रमित 1263 एक्टिव केस

  • 11 जनवरी को 4398 सेम्पल 502 संक्रमित 1697 एक्टिव केस

  • 12 जनवरी को 4022 सेम्पल 584 संक्रमित 2193 एक्टिव केस

  • 13 जनवरी को 4078 सेम्पल 570 संक्रमित 2622 एक्टिव केस

  • 14 जनवरी को 3891 सेम्पल 593 संक्रमित 3090 एक्टिव केस

तीसरी लहर में होम आइसोलेशन से राहत :

कोविड की पहली और दूसरी लहर ने शहर को झकझोर के रख दिया था। हालात यह थे कि मुक्तिधाम में कोरोना पॉजिटिव की मौत के बाद अंतिम संस्कार के लिए 4 से 5 घंटे की वेटिंग चल रही थी। पर अब तीसरी लहर में संक्रमण दर काफी तेज है, लेकिन मौत का रेशो लगभग न के बराबर है। तीसरी लहर में इस बार कोरोना बहुत तेजी से फैल रहा है लेकिन राहत यह है कि लोग दूसरी लहर की तरह गंभीर बीमार नहीं हो रहे। संक्रमिम मरीजों में से सिर्फ 5 प्रतिशत मरीज ही अस्पताल में भर्ती हो रहे हैं। शेष को होम आइसोलेशन में रखा गया है। 8 से 10 दिन होम आइसोलेशन में गुजारने के बाद लोग स्वस्थ्य होकर डिस्चार्ज हो रहे हैं।

रेड जोन में हैं एसपी ऑफिस, कलेक्ट्रेट, हाईकोर्ट :

रेडजोन एरिया में एसपी ऑफिस, कलेक्ट्रेट, हाईकोर्ट, नगर निगम, स्वास्थ्य प्रबंधन संस्थान, सभी वीआईपी बंगलो आते हैं। इन्हीं विभागों में सबसे 'यादा संक्रमित अभी मिल रहे हैं। जैसे एसपी ऑफिस में अभी तक 35 से ज्यादा संक्रमित मिल चुके हैं। हाईकोर्ट में भी 12 संक्रमित मिले थे।

इन वार्डों में हैं सबसे अधिक मरीज :

वार्ड 60 : सनवैली, डीबी सिटी, न्यू सिटी सेंटर, कलेक्ट्रेट

वार्ड 18 : दीनदयाल नगर, शताब्दीपुरम, आदित्यपुरम

वार्ड 29 : गोविंदपुरी, न्यू गोविंदपुरी, दर्पण कालोनी

वार्ड 30 : सिटी सेंटर, बलबंत नगर, सचिन तेंदुलकर, पटेल नगर

वार्ड 58 : बसंत विहार, महाराणा प्रताप नगर, माधवनगर

वार्ड 21 : गोले का मंदिर, रणधीर कॉलोनी

वार्ड 25 :सीपी कालोनी, हरिओम नगर, रिवर व्यू कॉलोनी

वार्ड 01 : बहोड़ापुर, आंनद नगर, बहोड़ापुर तिराहा, सागरताल

वार्ड 03 : विनय नगर सेक्टर 1,2,3,4, उरवाई गेट

वार्ड 32 : द्वारिकापुरी, गांधी नगर, पड़ाव

तीसरी लहर में केवल एक सप्ताह हो रहे क्वारेंटाइन :

कोरोना की तीसरी लहर में होम क्वारेंटाइन रहने वाले मरीजों के लिए नियम भी शिथिल कर दिए गए है। स्वास्थ्य विभाग से मिली सूचना के मुताबिक तीसरी लहर में कोरोना पॉजिटिव मरीज को 7 दिन क्वारेंटाइन रहना पड़ रहा है। जबकि पहली व दूसरी लहर की बात की जाए तो मरीज को कम से कम 14 दिन क्वारेंटइन रहना पड़ रहा था इसके साथ ही मरीज की 14 दिन के बाद भी मरीजों कोविड की जांच की जा रही थी और लगातार की दो रिपोर्ट निगेटिव निकलने के बाद भी उसे अस्पताल से डिस्चार्ज किया जाता है, लेकिन कोविड की तीसरी लहर में ऐसा नहीं हो रहा है और जिले की बात की जाए तो अधिकतर संक्रमित मरीजों को सर्दी खांसीजुखाम जैसी शिकायत पैदा हो रही है।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

No stories found.