ग्वालियर कोरोना बुलेटिन
ग्वालियर कोरोना बुलेटिन|Raj Express
कोरोना वायरस

ग्वालियर : डॉक्टर सहित 189 मरीजों में कोरोना की पुष्टि, तीन की मौत

ग्वालियर, मध्य प्रदेश : शहर के निजी एवं सरकार अस्पतालों में नहीं है खाली पंलग। 86 तक पहुंचा मृतकों का आंकड़ा।

राज एक्सप्रेस

राज एक्सप्रेस

ग्वालियर, मध्य प्रदेश। कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या विस्फोटक स्थिति में पहुंच गई है। रविवार को भी 189 मरीजों में कोरोना की पुष्टि हुई और तीन मरीजों की मौत भी दर्ज की गई। पॉजीटिव मरीजों में जिला अस्पताल के डॉक्टर, पुलिस कर्मी सहित अन्य लोग शामिल हैं। इन्हें मिलाकर शहर में अब तक 7826 कोरोना पॉजीटिव पाए जा चुके हैं और मृतकों की संख्या 86 हो चुकी है। पॉजीटिव मरीजों की संख्या इतनी अधिक हो चुकी है निजी एवं सरकारी अस्पतालों में पलंग खाली नहीं हैं। प्रशासन नए कोरोना सेंटर बनाने में जुटा है।

प्रदेश में कोरोना की स्थिति लगातार बिगड़ रही है। एक तरफ उप चुनावों को लेकर रैली एवं सभाओं का दौर जारी है वहीं दूसरी तरफ आम जनता भी बेखौफ हो चुकी है। सुबह से शाम तक सड़क से लेकर शोरूम तक लोगों की भीड़ जुटी रहती है। हद तो यह है कि खाद्य पदार्थों की दुकानों पर एक साथ 20-20 लोग खड़े होकर पकवानों का स्वाद ले रहे हैं। दुकानदार से लेकर ग्राहक तक कोई भी न तो मास्क लगाए हुए होता है और न ही दस्तानों का इस्तेमाल किया जा रहा है। कुल मिलाकर सभी कोरोना को महामारी बनाने पर तुले हुए हैं। रविवार को जीआरएमसी में 1838 मरीजों की सैंपलों की जांच कई गई जिसमें ग्वालियर के 762 मरीज शामिल थे। इसमें से189 मरीज पॉजीटिव पाए गए। वहीं दूसरी तरफ कोरोना पॉजीटिव तीन मरीजों की मौत भी हुई जिसमें बिहारी लाल, उम्र 75 साल निवासी तानसेन नगर, रामकली उम्र 90 वर्ष निवासी भिंड एवं एक अन्य मरीज शामिल है।

कहां कितने मरीज आए पॉजीटिव :

जीआरएमसी में 762 मरीजों की सैंपलों की जांच हुई जिसमें 138 मरीज पॉजीटिव आए। वहीं दूसरी तरफ रेपिड व ट्रूनेट टेस्ट में जेएएच में 6, जिला अस्पताल में 13, निजी अस्पताल में 3, प्राईवेट पेथोलॉजी में 29 लोग पॉजीटिव पाए गए। जीआरएमसी में कुल 1838 मरीजों के सैंपलों की जांच की गई है। इसमें अशोक नगर, भिण्ड, गुना, मुरैना एवं श्योपुर के मरीज भी शामिल हैं।

2095 मरीज एक्टिव, कहां होगा उपचार :

वर्तमान में कोरोना के 2095 मरीज एक्टिव हैं। इन मरीजों का उपचार करना सबसे बड़ी चुनौती बनी हुई है। सरकारी एवं निजी अस्पताल मेें पलंग खाली नहीं है और मरीजों को भर्ती भी नहीं किया जा रहा। इस स्थिति में प्रशासन के लिए मरीजों के उपचार की व्यवस्था करना।

इनका कहना है :

कन्ट्रोल कमाण्ड सेंटर को और बेहतर करते हुए हम मरीजों के उपचार की व्यवस्था कर रहे हैं। 15 दिन में 500 मरीजों के लिए कन्वेंशन हॉल सहित अन्य जगहों पर उपचार की व्यवस्था कर रहे हैं। मरीजों को हर हाल में उपचार मुहैया कराया जायगा।

कौशलेन्द्र विक्रम सिंह, कलेक्टर

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Raj Express
www.rajexpress.co