फिल्मी स्टाईल में हुआ 14 लाख की लूट का खुलासा, तीन गिरफ्तार और एक है फरार
फिल्मी स्टाईल में हुआ 14 लाख की लूट का खुलासा, तीन गिरफ्तार और एक है फरारसांकेतिक चित्र

फिल्मी स्टाईल में हुआ 14 लाख की लूट का खुलासा, तीन गिरफ्तार और एक है फरार

इंदौर, मध्यप्रदेश : एमजी रोड पुलिस ने गत दिनों रेडिमेड व्यापारी के साथ हुई 14 लाख से ज्यादा की लूट की गुत्थी सुलझा ली है। इसमें दुकान के एक नौकर की मुख्य भूमिका सामने आई है।

हाइलाइट्स :

  • साधु, आटो ड्राइवर और दूसरे वेश धरकर पुलिस ने सुलझाई गुत्थी

  • दुकान मालिक का विश्वासपात्र नौकर ही निकला मुख्य किरदार

  • तीन आरोपी गिरफ्तार, फरार की हो रही तलाश

इंदौर, मध्यप्रदेश। एमजी रोड पुलिस ने गत दिनों रेडिमेड व्यापारी के साथ हुई 14 लाख से ज्यादा की लूट की गुत्थी सुलझा ली है। इसमें दुकान के एक नौकर की मुख्य भूमिका सामने आई है। वारदात में शामिल तीन आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है। एक आरोपी अभी फरार है उसके पास लूट के 10 लाख रुपए से ज्यादा होने की बात कही जा रही है। लूट का खुलासा किसी फिल्म की कहानी की तरह ही है। 23 मार्च को हुई वारदात को लेकर पुलिस ने वेश बदलकर इनवेस्टीगेशन किया और 3 जुलाई को इस मामले में सफलता मिली।

क्या है मामला :

महेश पिता गणेशमल तोषनीवाल निवासी स्नेहलतागंज की होलसेल रेडिमेड की दुकान प्रकाश प्लाजा रिवर साइड पर है। उनकी दुकान पर दो नौकर भी है। राजनगर में रहने वाला नितिन यादव उर्फ गांधी पिता ओमप्रकाश यादव एवं दूसरे नौकर का नाम सुमित है। नितिन दुकान पर काम करने के साथ ही कलेक्शन का काम भी करता है। उसे पूरी जानकारी रहती है कि कहां से कितना पैसा लाना है। सब कुछ ठीक-ठाक चल रहा था। लाकडाउन के बाद धीरे-धीरे बिजनेस भी पटरी पर आने लगा था। वैसे भी कई लोग आर्थिक परेशानी से जूझ रहे थे। ऐसे वक्त में नितिन अपने दोस्त गोलू उर्फ शिवम सिंगोड़िया, राहुल झरने एवं सतवीरसिंह उर्फ छोटू के साथ बैठा हुआ था। उसी दौरान इनके बीच में कड़की को लेकर चर्चा चल पड़ी। तब नितिन ने कहा कि मेरा सेठ दुकान से लाखों रुपए की सिल्लक लेकर घर जाता है। वह नगर निगम रोड से होता हुआ घर जाता है। वह कार में नहीं बल्कि एक्टिवा से ही घर जाता है। यदि उसे प्लानिंग कर लूट लिया जाए तो एक ही दिन में हमें लाखों रुपए मिल सकते हैं और हमारी कड़की दूर हो सकती है।

18 मार्च को प्लान और 23 को वारदात :

ये चर्चा 18 मार्च 2021 को इन चारों के बीच हुई और तत्काल लूट की वारदात पर सहमति बन गई। तय हुआ कि जब सबसे ज्यादा सिल्लक होगी उसी दिन लूट की वारदात की जाएगी। 23 मार्च को वह दिन भी आ गया है। दुकान के मालिक महेश तोषनीवाल ने नितिन से कहा कि छन-छन गारमेंट के ब्रजेश भाई से 10 लाख रुपए का पेमेंट ले आओ। नितिन ने ये पैसा लाकर दिया इसके साथ ही सतवीर उर्फ छोटू को इशारा कर दिया कि आज ज्यादा पेमेंट है, धावा बोलना है।

एक्सीडेंट का बहाना कर ले उड़े पैसा :

23 मार्च को रात को करीब साढे आठ बजे महेश ने सिल्लक के 14 लाख से ज्यादा रुपए एक थैली में रखे, थैली अपनी एक्टिवा की डिक्की में रखकर वह घर की ओर रवाना हुआ। आरोपी पहले से ही उसके घर जाने का रुट जानते थे। महेश की गाड़ी जब नगर निगम रोड पर हनुमान मंदिर सुतार गली से गुजर रही थी तभी राहुल एक्टिवा के सामने आ गया और एक्सीडेंट का शोर मचाने लगा। कुछ ही देर में गोलू और राहुल भी स्पाट पर पहुंच गए और उन्होंने कहा कि तुमने एक्सीडेंट किया है। इन लोगों के बीच झूमा झटकी होने लगी। इसी दौरान ये गुत्थम गुत्था हो गए। काफी भीड़ भी एकत्र हो गई। कुछ लोगों ने इन्हें छुड़वाने की कोशिश भी की, एक्टिवा गिर गई और उसमें से राहुल ने पैसे से भरी थैली निकाल ली। ये थैली उसने गोलू को दे दी उसके बाद ये सभी वहां से गायब हो गए। इनके जाने के बाद महेश ने डिक्की चैक की तो उसमें से पैसों से भरी थैली गायब थी। वह एमजी रोड थाने पहुंचा और 14 लाख 13 हजार रुपए की लूट की रिपोर्ट लिखवाई। पुलिस ने केस दर्ज कर मामले की जांच शुरु कर दी।

पुलिस साधु, आटो ड्राइवर और दुकानदार भी बनी :

टीआई डीबीएस नागर ने मामले की जांच के लिए सीसीटीवी फुटेज निकलवाए लेकिन कोई सुराग नहीं मिला कुछ संदिग्ध दिखाई दिए लेकिन उनके बारे में कोई अन्य जानकारी नहीं मिली। तब पुलिस ने वारदात की फिल्मी स्टाइल में इनवेस्टीगेशन शुरु कर दी। हेड कांस्टेबल जवाहरसिंह ने साधु का वेश धरा, हेड कांस्टेबल सुरेश को सेठ बनाया गया और कांस्टेबल मुकेश को आटो ड्राइवर बनाया गया। टीम ने महेश की दुकान से लेकर घटना स्थल तक लोगों से पूछताछ शुरु की और संदिग्धों से जानकारी एकत्र करने लगे। इसी दौरान टीआई नागर के प्रमुख इनफारमर ने सूचना दी कि इस वारदात में दुकान के नौकर नितिन का हाथ हो सकता है, उसके कुछ दोस्तों मे गोलू भी शामिल है जिसका पुराना रिकार्ड है। इस क्लू के सहारे पुलिस ने नितिन और उससे मिलने वाले दोस्तों की फिल्डींग शुरु कर दी। जब ये तय हो गया है कि वारदात में नितिन की महत्वपूर्ण भूमिका है तब उससे पूछताछ शुरु की गई तो उसने पूरी वारदात कबूली ली।

गोलू 10 लाख के साथ फरार :

लूट का प्रमुख किरदार नितिन ही था लेकिन वारदात का संचालन गोलू उर्फ शिवम सिंगोडिय़ा कर रहा था। लूट का पूरा पैसा उसके पास ही था। उसने लूट के माल में से नितिन को 50 हजार और राहुल झरने को एक लाख रुपए दिए थे। नितिन ने कहा कि मैंने ही पूरी टिप दी है मुझे इतने कम पैसे क्यों दे रहे हो तब गोलू ने कहा था कि अभी तो तुम खर्चे के लिए रखो बाकी हिसाब बैठक कर तय कर लेगें। तब नितिन संतुष्ट हो गया। मार्च में हुई वारदात के लिए पुलिस ने निरंतर जुलाई तक इनवेस्टीगेशन किया था। 3 जुलाई 2021 को गोलू को जैसे ही पुलिस के बारे में पता चला तो वह करीब 10 लाख रुपए लेकर फरार हो गया। पुलिस ने नितिन से 50 हजार रुपए, सतवीरसिंह उर्फ छोटू पिता प्रदीप सिंह से 50 हजार एवं राहुल झरने से एक लाख इस तरह लूट के 2 लाख रुपए और सतवीरसिंह की बाइक भी जब्त कर ली है। गोलू फरार हो गया और उसके पास लूट के 10 लाख रुपए है। उसका पुराना रिकार्ड भी मिला है। पुलिस ने दावा किया है कि जल्द ही गोलू को गिरफ्तार कर शेष रकम भी बरामद कर ली जाएगी। आरोपियों की गिरफ्तारी में टीआई डीबीएस नागर, सब इंस्पेक्टर बीएस रघुवंशी, एएसआई सतेंद्रसिंह जादौन, सुरेशसिंह, जवाहर सिंह एवं मुकेश लोभाना का सराहनीय सहयोग रहा।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

No stories found.
Top Hindi News Bhopal,Trending, Latest viral news,Breaking News - Raj Express
www.rajexpress.co