पांच सौ से ज्यादा फर्जी सर्टिफिकेट- मार्कशीट बनाने वाला फरार आरोपी गिरफ्तार
फर्जी सर्टिफिकेट- मार्कशीट बनाने वाला फरार आरोपी गिरफ्तारSocial Media

पांच सौ से ज्यादा फर्जी सर्टिफिकेट- मार्कशीट बनाने वाला फरार आरोपी गिरफ्तार

इंदौर, मध्यप्रदेश : क्राइम ब्रांच और पुलिस ने मिलकर एक फर्जी मार्कशीट एवं सर्टिफिकेट बनाने वाले फरार आरोपी को गिरफ्तार किया। आरोपी अभी तक साढ़े पांच सौ फर्जी मार्कशीट एवं सर्टिफिकेट बना चुका है।

इंदौर, मध्यप्रदेश। क्राइम ब्रांच और पुलिस ने मिलकर एक फर्जी मार्कशीट एवं सर्टिफिकेट बनाने वाले फरार आरोपी को गिरफ्तार किया। आरोपी अभी तक साढ़े पांच सौ फर्जी मार्कशीट एवं सर्टिफिकेट बनाकर एक करोड़ रुपए से ज्यादा कमा चुका है। शक है कि आरोपी के अन्य साथी भी इस गोरखधंधे में शामिल हैं, उनके बारे में पूछताछ की जा रही है।

पुराने अपराधियों का पता लगाने के लिए सक्रिय किए विशेष मुखबिर से क्राइम ब्रांच टीम को सूचना मिली कि तिलक नगर क्षेत्र मे एक व्यक्ति पैसे लेकर फर्जी मार्कशीट व सर्टिफिकेट बनाने का काम करता है। इस मामले में एक फरियादी ने तिलक नगर मे धारा 420, 467, 468 का केस भी दर्ज करवाया था। जिसमें मुख्य आरोपी सतीश पिता उमाशंकर गोस्वामी, व्यासफला जूनी इंदौर फरार था। क्राइम ब्रांच व तिलक नगर पुलिस ने संयुक्त कार्यवाही करते हुए तिलक नगर क्षेत्र से आरोपी सतीश पिता पिता उमाशंकर गोस्वामी को पकड़ा। आरोपी के कब्जे से 7 मॉनीटर, 6 सीपीयू, 2 प्रिंटर, 14 फर्जी सर्टिफिकेट, 50 मार्कशीट के कोरे कागज व एक मोबाईल, 2 रजिस्टर; जिसमे फर्जी सर्टिफिकेट बनाये हुये कुल 554 नामों का उल्लेख है जब्त किए गए।

आरोपी ने पूछताछ में बताया कि पिछले 4-5 वर्षो से 10 वीं, 12वीं, स्नातक की फर्जी मार्कशीट बनाने का कार्य कर रहा था। आरोपी द्वारा महाराष्ट्र बोर्ड ऑफ हायर सेकेण्डरी एजुकेशन, राजस्थान बोर्ड, विलियम केरी युनिवर्सिटी, मेवाड युनिवर्सिटी, सनराईस युनिवर्सिटि, संघाई युनिवर्सिटी, डीआरसीबी रमन युनिवर्सिटी, ओपीजीएस युनिवर्सिटी, एसआरके युनिवर्सिटी, आईसेक्ट युनिवर्सिटी, आरकेडीएफ युनिवर्सिटी आदि के फर्जी सर्टिफिकेट बनाये जाते थे। जिसके एवज मे छात्रों से मोटी रकम वसूलकर 10वीं, 12वीं स्नातक की फर्जी मार्कशीट दी जाती थी। अभी तक हुई पूछताछ मे आरोपी द्वारा कुल 554 लोगों के फर्जी सर्टिफिकेट बनाकर लगभग 1.5 करोड रूपये आरोपी द्वारा लिए गए हैं। आरोपी से पूछताछ जारी है अन्य साथियों के बारे में खुलासे होने की सम्भावना है।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

No stories found.
Top Hindi News Bhopal,Trending, Latest viral news,Breaking News - Raj Express
www.rajexpress.co