अस्पताल से पैरों की बेड़ियां खिसकाकर भाग गया अपहरण व दुष्कर्म का आरोपी
अस्पताल से पैरों की बेड़ियाँ खिसकाकर भाग गया अपहरण व दुष्कर्म का आरोपीSocial Media

अस्पताल से पैरों की बेड़ियां खिसकाकर भाग गया अपहरण व दुष्कर्म का आरोपी

ग्वालियर, मध्य प्रदेश : 11 दिन पहले भोपाल जेल से ग्वालियर सेंट्रल जेल शिफ्ट किया गया दुष्कर्म व अपहरण का आरोपी जयारोग्य अस्पताल के कैदी वार्ड से फरार हो गया।

ग्वालियर, मध्य प्रदेश। 11 दिन पहले भोपाल जेल से ग्वालियर सेंट्रल जेल शिफ्ट किया गया दुष्कर्म व अपहरण का आरोपी जयारोग्य अस्पताल के कैदी वार्ड से फरार हो गया। घटना मंगलवार-बुधवार दरमियानी रात की है। हाल में उसे टीबी के इलाज के लिए जेएएच लाया गया था। खास बात है कि यहां कोई पुलिस जवान भी तैनात नहीं था। मौके का फायदा उठाकर बंदी बांधी गई बेड़ी पैर में से खिसकाकर भाग गया। शाम को बंदी की पत्नी भी उससे मिलने आई थी। रात में वह बाहर ही सो रही थी। बंदी पिछले दो दिन से खून की उल्टी कर रहा था। गंभीर रूप से बीमार था। ऐसे में कैदी का भागना कई सवाल खड़े कर रहा है। घटना के बाद पुलिस व जेल प्रबंधन फरार बंदी की तलाश में जुट गए हैं।

ग्वालियर केंद्रीय जेल से बंदी मोहन (35) पुत्र कल्लू अहिरवार को 19 दिसंबर को टीबी की बीमारी के चलते जेएएच स्थित कैदी वार्ड में भर्ती कराया था। निगरानी के लिए जेल प्रहरी भी तैनात किए गए थे। बंदी के भागने का पता बुधवार सुबह उस समय चला, जब ड्यूटी चेक करने मुख्य प्रहरी दरयाब सिंह अस्पताल पहुंचे। यहां पुलिस जवान और बंदी दोनों गायब मिले। पहले उन्होंने अपने स्तर पर तलाश की। पता नहीं चलने पर जेल प्रबंधन को सूचना दी। जेल प्रबंधन मौके पर पहुंचा और पुलिस को भी सूचना दी गई।

अपहरण और दुष्कर्म का आरोपी है मोहन :

जेल अधीक्षक मनोज साहू ने बताया कि सागर निवासी मोहन दुष्कर्म और अपहरण के मामले में सजा काट रहा है। उसकी तबीयत खराब हुई, तो उसे सागर से भोपाल ट्रांसफर किया गया था। वहां से उसे 18 दिसंबर को ग्वालियर लाया गया था। यहां खून की उल्टी करने पर दूसरे दिन जेएएच में भर्ती कराया।

दो जवानों पर कार्रवाई :

जेल अधीक्षक मनोज साहू का कहना है, बंदी की सुरक्षा के लिए रात 2 से सुबह 6 बजे की ड्यूटी अनीश खान की थी। वह ड्यूटी से गायब मिला, जबकि इससे पहले रात 10 से 2 बजे की ड्यूटी विपिन लोधी की थी। वह भी बिना चार्ज दिए चला गया। दोनों के खिलाफ कार्रवाई की जा रही है।

पत्नी भी सो रही थी बाहर :

पता लगा है कि अस्पताल के जेल वार्ड से भागे बंदी की पत्नी भी अस्पताल में मंगलवार को उससे मिलने आई थी। उसकी हालत गंभीर थी, इसलिए पुलिस ने उसे मिलने दिया। घटना के समय वह अस्पताल के बाहर सो रही थी। सुबह वह पुलिस को सोती मिली है। पुलिस उससे भी पूछताछ कर रही है।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

Raj Express
www.rajexpress.co