छतरपुर : एंबुलेंस टीम ने अस्पताल में 2 लोगों को बुरी तरह पीटा
एंबुलेंस माफिया की गुंडागर्दी का वीडियो हुआ वायरलप्रशांत सोनी

छतरपुर : एंबुलेंस टीम ने अस्पताल में 2 लोगों को बुरी तरह पीटा

जिला अस्पताल में मौजूद पुलिस चौकी और यहां बैठने वाले पुलिसकर्मी सिर्फ तमाशबीन की भूमिका निभा रहे हैं।

छतरपुर, मध्य प्रदेश। जिला अस्पताल में मौजूद पुलिस चौकी और यहां बैठने वाले पुलिसकर्मी सिर्फ तमाशबीन की भूमिका निभा रहे हैं। सोमवार को अस्पताल के सुरक्षाकर्मियों और चौकी पर मौजूद पुलिसकर्मियों के सामने अपनी मरीज का इलाज कराने आए दो लोगों को प्राइवेट एंबुलेंस माफिया से जुड़े आठ बदमाशों ने रक्तरंजित कर दिया। युवकों के साथ अस्पताल के ओपीडी परिसर में जमकर मारपीट की गई इसके बाद चौकी के सामने भी काफी देर तक पिटाई की गई। पिट रहे युवकों ने स्थानीय लोगों ने किसी तरह बचाया। इस घटना का एक वीडियो भी सोशल मीडिया पर वायरल हुआ है।

बुजुर्ग पिता को इलाज के लिए लाया था युवक

जानकारी के मुताबिक सटई रोड निवासी रवि रैकवार अपने बहनोई के साथ अपने बुजुर्ग पिता को इलाज के लिए सोमवार को अस्पताल लेकर पहुंचा था। ओपीडी में डॉक्टर के सामने लगी लाइन के कारण उसे इंतजार करना पड़ रहा था इसलिए बुजुर्ग पिता के लिए उसने परिसर में ही मौजूद एक व्हील चेयर ले ली। इसी व्हील चेयर को लेकर यहां मौजूद एक व्यक्ति से उसकी बहस हो गई। यह व्यक्ति अस्पताल के बाहर खड़ी होने वाली प्राईवेट एंबुलेंस के माफिया से जुड़ा हुआ था। बहस के बाद उसने अपने आठ साथियों को बाहर से बुला लिया और फिर रवि रैकवार तथा उसके जीजा के साथ जमकर हाथ-पैर और डंडों से मारपीट की। रवि के सिर में गंभीर चोट आई है तो वहीं जीजा को भी कई हिस्सों में चोटिल किया गया है।

गुंडागर्दी का यह नंगा नाच लगभग आधे घंटे तक अस्पताल में चलता रहा। इस दौरान अस्पताल की सुरक्षा के लिए लगाए गए सुरक्षाकर्मी भी निरीह नजर आए तो वहीं अस्पताल चौकी में बैठे पुलिसकर्मियों ने भी पिटने वाले युवकों को बचाने की जद्दोजहद नहीं की। जनता ने ही पिटते युवकों को बचाया और इस घटना का एक वीडियो भी सोशल मीडिया पर वायरल हो गया। अब पुलिस जांच की बात कह रही है।

किसके संरक्षण पर अस्पताल में गुंडागर्दी कर रहे एंबुलेंस माफिया

जिला अस्पताल के भीतर और बाहर अवैध रूप से लगभग आधा दर्जन प्राइवेट एंबुलेंस गाड़ियां खड़ी होती हैं। 108 सेवा की एंबुलेंस कार्यरत होने सहित अस्पताल के पास भी एंबुलेंस मौजूद हैं। फिर भी शासकीय सांठ-गांठ के कारण लोगों को अपने मरीजों के अन्य शहरों में रिफर किए जाने के बाद प्राईवेट एंबुलेंस का ही सहारा लेना पड़ता है। उक्त एंबुलेंस माफिया अस्पताल के भोले-भाले लोगों से भारी भरकम राशि भी ऐंठता है और कई बार उन्हें अस्पताल के कर्मचारियों से मिलकर बरगलाते हुए मरीज को रिफर करने के लिए भी प्रलोभित करता है। पिछले लगभग दो साल में कई बार सिविल सर्जन पुलिस अधीक्षक को पत्र लिखकर अस्पताल परिसर से इन प्राईवेट एंबुलेंस को हटवाने की अपील कर चुके हैं। बावजूद इसके एंबुलेंस माफिया न सिर्फ अवैध संचालन में जुटा है बल्कि लोगों के साथ गुंडागर्दी भी कर रहा है।

सख्त कार्यवाही की जाएगी

इस मामले में छतरपुर डीएसपी अनुरक्ति साबनानी ने कहा है कि, सिटी कोतवाली पुलिस द्वारा एफआईआर दर्ज की गई है। आरोपियों की पहचान की जा रही है। उन पर सख्त कार्यवाही की जाएगी।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

No stories found.
Top Hindi News Bhopal,Trending, Latest viral news,Breaking News - Raj Express
www.rajexpress.co