इंदौर : 70 करोड़ के ड्रग्स कांड से एंटी ड्रग्स टीम भी सक्रिय
70 करोड़ के ड्रग्स कांड से एंटी ड्रग्स टीम भी सक्रियRaj Express

इंदौर : 70 करोड़ के ड्रग्स कांड से एंटी ड्रग्स टीम भी सक्रिय

ड्रग्स के साथ पकड़े गए आरोपियों की काल डिटेल एवं अन्य सबूतों के आधार पर पता लगाया जा रहा है कि ये किन-किन देशों में ड्रग्स सप्लाय करते थे। जल्द ही इस मामले में बड़ा खुलासा हो सकता है।

इंदौर, मध्य प्रदेश। शहर में पकड़ी गई सबसे बड़ी ड्र्ग्स की खेप को लेकर प्रदेश ही नहीं दूसरे राज्यों की पुलिस भी जांच में जुट गई है। देश में एंटी ड्रग्स टीम के वरिष्ठ अफसरों ने भी पड़ताल के बारे में जानकारी लेना शुरु कर दिया है। ड्रग्स के साथ पकड़े गए आरोपियों की काल डिटेल एवं अन्य सबूतों के आधार पर पता लगाया जा रहा है कि ये किन-किन देशों में ड्रग्स सप्लाय करते थे। पुलिस के उच्च पदस्थ अफसरों ने दावा किया है कि जल्द ही इस मामले में बड़ा खुलासा होगा।

70 करोड़ की ड्रग्स के साथ पकड़े गए वेदप्रकाश व्यास, दिनेश अग्रवाल, चिमन अग्रवाल, अक्षय उर्फ चीकू अग्रवाल एवं ड्राइवर मांगी वेंकटेश से रिमांड पर पूछताछ चल रही है। आरोपियों ने कई सनसनीखेज खुलासे किए हैं। उसके आधार पर पुलिस टीम दूसरे राज्यों में पहुंची है। वहां कुछ आरोपियों की तलाश की जा रही है। दूसरी ओर दिनेश अग्रवाल और वेदप्रकाश व्यास स्वास्थ्य खराब होने का बहाना बनाकर पूछताछ से बचने की कोशिश कर रहे हैं ,वैसे पुलिस ने इनका मेडिकल चैकअप करवाया है उसमें ये पूर्णत: स्वस्थ्य पाए गए हैं।

सूत्र बताते हैं कि पूछताछ में नशे के कारोबार से जुड़े कुछ रसूखदारों के नाम भी सामने आए हैं। उनके खिलाफ पुलिस टीम सबूत जुटाने में जुट गई है। इनके खिलाफ सबूत मिलते ही इन्हें भी सलाखों के पीछे कर दिया जाएगा। पुलिस की जांच का केंद्र बिन्दु फिलहाल हैदराबाद बना हुआ है। पुलिस का मानना है कि वेद प्रकाश व्यास हैदराबाद में कहां-कहां ये ड्रग्स बनाता है का खुलासा होने के साथ ही इस बात का भी पता चल जाएगा कि वह हैदराबाद से कहां-कहां ड्रग्स की सप्लाय करता है,इसके एजेंट कौन-कौन और कहां-कहां हैं।

सबसे बड़े ड्रग्स की खेप पकड़ी जाने के बाद आईजी योगेश देशमुख ने भी जांच के लिए अलग-अलग टीमों का गठन किया है। ये टीम दूसरे राज्यों में जाकर ड्रग्स के तार तलाशेंगे। आरोपियों ने कुछ सुराग दिए हैं जिसके आधार पर महाराष्ट्र और गोवा में भी पड़ताल की जाएगी। बताते हैं कि इन आरोपियों के इंदौर में भी कुछ एजेंट हैं, पुलिस के पास इनके नाम आ गए हैं। उनके नाम इसलिए उजागर नहीं किए जा रहे हैं कि उनके नाम सामने आने से उनसे जुड़े आरोपी फरार हो सकते हैं। डीआईजी हरिनारायणचारी मिश्र ने बताया कि कुछ स्थानीय लोगों के नाम ड्रग्स कांड में सामने आए हैं। उन संदिग्धों की जांच करवाई जा रही है, उनके खिलाफ सबूत मिलते ही उनको गिरफ्तार कर लिया जाएगा।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

Raj Express
www.rajexpress.co